एनालॉग कंप्यूटर क्या है, प्रकार और उदाहरण (Analog Computer In Hindi)

Analog Computer Kya Hai In Hindi: अपनी कार्यप्रणाली के आधार पर कंप्यूटर अनेक प्रकार के होते हैं, उनमें से कंप्यूटर का एक प्रकार Analog Computer भी है, जिसके बारे में हम आपको आज के इस लेख में आपको बतायेंगे.

एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल हम अपने दैनिक जीवन में करते हैं लेकिन तब भी बहुत कम लोगों को पता होता है कि Analog Computer क्या है. इसलिए हमने सोचा क्यूं ना आपको आज इसके बारे में पूरी जानकारी प्रदान करवाई जाए.

एनालॉग कंप्यूटर क्या है और इसके प्रकार एवं उदाहरण (Analog Computer In Hindi)

इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि एनालॉग कंप्यूटर क्या है, Analog कंप्यूटर का इतिहास, एनालॉग कंप्यूटर के प्रकार, एनालॉग कंप्यूटर की विशेषताएं, एनालॉग कंप्यूटर के फायदे और नुकसान क्या हैं. लेकिन यह सब जानने के लिए आपको लेख को अंत तक पढना होगा.

तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं एनालॉग कंप्यूटर क्या है हिंदी में विस्तार से.

एनालॉग कंप्यूटर क्या है (What is Analog Computer in Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

Analog Computer ऐसे कंप्यूटर होते हैं जो भौतिक मात्राओं को मापने के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं. भौतिक मात्रायें जैसे कि ताप, दाब, लम्बाई, उंचाई आदि.

यह तो हो गयी एनालॉग कंप्यूटर की परिभाषा, अगर आसान शब्दों में समझें तो इलेक्ट्रॉनिक में सिग्नल दो प्रकार के होते हैं एक Analog Signal और दूसरा Digital Signal. एनालॉग सिग्नल ऐसे सिग्नल होते हैं जिनकी आवर्ति और आयाम निश्चित रहते हैं, इन सिग्नलों को मापने के लिए जिन कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है उन्हें Analog Computer कहते हैं.

Analog Computer का इस्तेमाल ऑफिस या घरों में नहीं किया जाता है, इनका इस्तेमाल अधिकतर चिकित्सा या विज्ञान के क्षेत्र में किया जाता है, जैसे कि थर्मामीटर. एनालॉग कंप्यूटर Output को हमारे सामने दिखाने के लिए एनालॉग सिंग्नल का प्रयोग करते हैं.

Analog कंप्यूटर में मेमोरी या स्टोरेज नहीं होता है, अर्थात यह पिछले डेटा को स्टोर करके नहीं रखते हैं. जैसे कि आप थर्मामीटर से बुखार मापते हैं तो यह हर बार बुखार को शरीर के तापमान के आधार पर शुरू से मापता है. मतलब कि इनपुट सिग्नल बदलने के साथ एनालॉग कंप्यूटर का आउटपुट भी बदलते रहता है.

एनालॉग कंप्यूटर का इतिहास (History of Analog Computer in Hindi)

सबसे पहले एनालॉग कंप्यूटर को 1876 में William Thomson ने विकसित किया था जो कि tide predictor (ज्वार की भविष्यवाणी) के काम आता था.

सबसे पहला ज्ञात एनालॉग कंप्यूटर astrolabe था, जो कि ग्रीस में बनाया गया था. इस उपकरण का काम सूर्य, ग्रहों और सितारों की गति की भविष्यवाणी करने के लिए किया जाता था. आज के समय में अनेक प्रकार के उन्नत एनालॉग कंप्यूटर हैं जो कि विशेष प्रकार के मात्राओं की गणना सटीकता से बता सकते हैं. 

एनालॉग कंप्यूटर के प्रकार (Types of Analog Computer in Hindi)

एनालॉग कंप्यूटर मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं. चलिए देखते हैं ये कौन – कौन से हैं और इनका काम क्या होता है.

  • इलेक्ट्रॉनिक एनालॉग कंप्यूटर
  • मैकेनिकल एनालॉग कंप्यूटर
  • एनालॉग डिजिटल कंप्यूटर

1 – Electronic Analog Computer (इलेक्ट्रॉनिक एनालॉग कंप्यूटर)

इस प्रकार के एनालॉग कंप्यूटर इनपुट को इलेक्ट्रिक सिग्नल के रूप में लेते हैं और फिर आउटपुट देते हैं.

 Electronic Analog Computer का एक अच्छा उदाहरण वोल्टमीटर है, इसमें इनपुट के तौर पर electricity जाती है जो कि एक इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल है और फिर वोल्टमीटर यह जानकारी देता है कि जो इलेक्ट्रिसिटी आ रही है उसका Voltage कितना है.

एनालॉग कंप्यूटर का चित्र
एनालॉग कंप्यूटर का चित्र

2 – Mechanical Analog Computer (मैकेनिकल एनालॉग कंप्यूटर)

इस प्रकार के एनालॉग कंप्यूटर इनपुट को मैकेनिकल क्वांटिटी के रूप में प्राप्त करते हैं और फिर उसके आधार पर आउटपुट देते हैं.

Mechanical Analog Computer का सबसे बढ़िया उदाहरण स्पीडोमीटर है जो कि किसी चलते वाहन की स्पीड को मापता है. स्पीडोमीटर गाडी के पहियों के घुमने की तेजी के रूप में इनपुट लेता है और इसके आधार पर वह वाहन की स्पीड को बताता है.

यहाँ स्पीडोमीटर इनपुट के रूप में पहियों के घुमने की तेजी के रूप में ले रहा है जो कि एक Mechanical Quantity है, और आउटपुट के रूप में गाडी की स्पीड को बताता है.

3 – Analog Digital Computer (एनालॉग डिजिटल कंप्यूटर)

इस प्रकार के एनालॉग कंप्यूटर इनपुट को एनालॉग फॉर्म में लेते हैं और आउटपुट को डिजिटल फॉर्म में प्रदर्शित करते हैं.

Analog Digital Computer का उदाहरण पेट्रोल पंप में लगा मीटर है, जो कि पेट्रोल के रूप में इनपुट को लेता है और आउटपुट को डिजिटल रूप में दिखाता है.

एनालॉग कंप्यूटर के उदाहरण (Example of Analog Computer in Hindi)

अगर हम हम अपने दैनिक जीवन में आस – पास देख्नेगे तो हमें एनालॉग कंप्यूटर के अनेक सारे उदाहरण मिल जायेंगे, जिनमें से कुछ प्रमुख निम्नलिखित हैं –

1 – Thermometer (थर्मामीटर)

Thermometer एनालॉग कंप्यूटर का एक बहुत अच्छा उदाहरण है, इसका इस्तेमाल बुखार मापने के लिए किया जाता है. शरीर का तापमान एक एनालॉग सिग्नल है इसलिए इसे मापने के लिए थर्मामीटर (एनालॉग कंप्यूटर) का इस्तेमाल किया जाता है.

2 – Speedometer (स्पीडोमीटर)

स्पीडोमीटर एक ऐसा उपकरण है जिसके द्वारा किसी चलती हुई गाडी की स्पीड का पता लगाया जा सकता है. स्पीडोमीटर का पैमाना आमतौर पर किलोमीटर प्रति घंटे में वाहन की गति को मापता है.

3 – Seismometer (भूकंपमान)

Seismometer एक ऐसा एनालॉग कंप्यूटर है जिसके द्वारा भूकंप के तीव्रता की माप की जाती है. Seismometer को धरती के निकट रखा जाता है और जब भूकंप आता है तो पृथ्वी हिलती है, और तब Seismometer में भी कम्पन होता है. यह भूकंप की तरंगों को ग्राफ पेपर पर रिकॉर्ड करता है और बाद में भूकम्पविज्ञानी Seismometer का अध्ययन और विश्लेषण करने के बाद भूकंप की तीव्रता के बारे में बताते हैं.

4 – Analog Clock (एनालॉग घड़ी)

एनालॉग घडी दैनिक जीवन में उपयोग किया जाने वाला एक उपकरण है. यह भी एक एनालॉग कंप्यूटर का उदाहरण है. आप इन्हें दीवार पर टांक सकते हैं या फिर हाथ में भी पहन सकते हैं.

5 – Voltmeter (वोल्टमीटर)

Voltage एक एनालॉग सिग्नल है क्योंकि यह समय के साथ लगातार बदलता रहता है. विद्युत नेटवर्क के दो बिंदुओं के बीच मौजूद संभावित अंतर को प्रदर्शित करने के लिए वोल्टमीटर का उपयोग किया जाता है.

एनालॉग कंप्यूटर की विशेषताएं (Feature of Analog Computer in Hindi)

एनालॉग कंप्यूटर की अनेक सारी विशेषतायें हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख विशेषताओं के बारे में हमने नीचे आपको बताया है

  • एनालॉग कंप्यूटर Real Time Data दिखाते हैं. यह एक समय में एक ही इनपुट लेते हैं और उसका आउटपुट दिखाने के बाद ही दूसरा इनपुट लेते हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटरों को विशेष उद्देश्य के लिए डिजाईन किया गया है, इनका उपयोग आमतौर पर हवा, ध्वनि, गति, तापमान आदि जैसी वास्तविक दुनिया की स्थितियों को मापने के लिए किया जाता है.
  • एनालॉग कंप्यूटर अधिकतर इलेक्ट्रिक या मैकेनिकल मशीन होते हैं जो गणितीय प्रक्रियाओं जैसे कि जोड़, घटाव, गुणा, भाग आदि का काम कर सकते हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर अलग प्रकार के कंप्यूटर होते हैं, जो केवल संख्याओं या मात्राओं के साथ काम करते हैं.
  • डिजिटल कंप्यूटर की तुलना में एनालॉग कंप्यूटर सस्ते होते हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर में डेटा स्टोर करने की क्षमता भी बहुत कम होती है.
  • डिजिटल कंप्यूटर की तुलना में एनालॉग कंप्यूटर सटीक रिजल्ट नहीं देते हैं.

एनालॉग कंप्यूटर के उपयोग (Uses of Analog Computer in Hindi)

एनालॉग कंप्यूटर के कुछ प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं –

  • चिकित्सा के क्षेत्र में एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग व्यापक रूप से किया जाता है.
  • विज्ञान के क्षेत्र में विभिन्न कार्यों को करने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है.
  • पेट्रोल पंप में लगा मीटर भी एनालॉग कंप्यूटर होता है.
  • एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग वोल्टमीटर के द्वारा विद्युत धारा को मापने के लिए किया जाता है.
  • भूकंप, तापमान जैसे भौतिक प्रक्रियाओं को मापने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है.
  • वाहनों की स्पीड मापने के लिए भी स्पीडोमीटर के रूप में एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है.

ये एनालॉग कंप्यूटर के कुछ ही उपयोग हैं, इनके अलावा भी विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है.

एनालॉग कंप्यूटर के फायदे (Advantage of Analog Computer in Hindi)

एनालॉग कंप्यूटर के कुछ फायदे निम्नलिखित हैं –

  • एनालॉग कंप्यूटर की स्पीड अधिक होती है, यह बहुत कम समय में आउटपुट देने में सक्षम हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर Real Time Data दिखाते हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर के द्वारा आप विशेष प्रकार के महत्वपूर्ण कार्यों को कर सकते हैं.
  • दैनिक जीवन में इस्तेमाल किये जाने वाले एनालॉग कंप्यूटर बहुत सस्ते होते हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर परिणामों को बहुत सरल तरीके से दिखाते हैं.

एनालॉग कंप्यूटर के नुकसान (Disadvantage of Analog Computer in Hindi)

  • एनालॉग कंप्यूटर में डेटा स्टोर करने की क्षमता अधिक नहीं होती है.
  • एनालॉग कंप्यूटर की डेटा स्टोर करने की क्षमता बहुत कम होती है.
  • एनालॉग कंप्यूटर अधिक सटीक डेटा नहीं दिखा पाते हैं.

FAQ: Analog Computer Kya Hai

एनालॉग कंप्यूटर क्या होते हैं?

एनालॉग कंप्यूटर ऐसे कंप्यूटर होते हैं जो एनालॉग सिग्नल को मापने के काम में आते हैं.

पहला एनालॉग कंप्यूटर का नाम क्या है?

दुनिया का पहला ज्ञात एनालॉग कंप्यूटर astrolabe है जो कि ग्रीस में बनाया गया था. इसका इस्तेमाल सूर्य, चाँद, ग्रहों की गति मापने के लिए किया जाता था.

इन्हें भी पढ़े 

अंतिम शब्द: एनालॉग कंप्यूटर क्या है हिंदी में

आज के इस आर्टिकल में हमने Analog Computer Kya Hai in Hindi की विस्तृत जानकारी आप लोगों के साथ साझा की है. हमने आपको एनालॉग कंप्यूटर के प्रकार, इतिहास, विशेषताएं, फायदे, नुकसान आदि के विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की है. हमें पूरी उम्मीद है कि हमारे अन्य लेखों की भांति यह लेख भी आपको पसंद आया होगा.

अगर आपके मन में अभी भी एनालॉग कंप्यूटर से जुड़े कुछ प्रशन हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, और साथ ही इस उपयोगी और फायदेमंद जानकारी को अन्य लोगों के साथ भी शेयर करें.

5/5 - (1 vote)

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment