ब्रॉडबैंड क्या है प्रकार और कैसे काम करता है (Broadband In Hindi)

Broadband Kya Hai In Hindi: आज के समय में लगभग सभी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं, और लगभग सभी कामों में इंटरनेट की आवश्यकता होती है. इसलिए सभी लोग इंटरनेट को फ़ास्ट स्पीड से एक्सेस करना चाहते हैं क्योंकि Slow इंटरनेट स्पीड होने के कारण कोई 10 मिनट का काम भी 1 घंटे ले लेता है. इंटरनेट को फ़ास्ट स्पीड से एक्सेस करने में कांसेप्ट आता है ब्रॉडबैंड का, ब्रॉडबैंड के द्वारा यूजर इंटरनेट को उच्च गति से एक्सेस कर पाता है.

क्या आप जानना चाहते हैं Broadband क्या होता है, ब्रॉडबैंड काम कैसे करता है, ब्रॉडबैंड कितने प्रकार का होता है, ब्रॉडबैंड के फायदे और नुकसान क्या हैं और ब्रॉडबैंड क्यों लेना चाहिए. यदि हाँ तो इसके लिए आपको इस लेख को पूरा पढ़ना होगा.

क्रिप्टो करेंसी क्या है कैसे काम करती है हिंदी में (CryptoCurrency Kya Hai In Hindi)

तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते है इस लेख को और जानते हैं ब्रॉडबैंड किसे कहते हैं हिंदी में विस्तार से.

ब्रॉडबैंड क्या है (What is Broadband in Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

ब्रॉडबैंड जिसे कि Widely Used Bandwidth कहा जाता है, यह एक High Speed इंटरनेट है जो लम्बी दूरी पर उच्च गति से डेटा ट्रांसमिट करने में सक्षम है. ब्रॉडबैंड में डेटा संचरण के लिए coaxial cables, fiber optics cable या रेडियो तरंगों का इस्तेमाल किया जाता है.

ब्रॉडबैंड का पूरा नाम Broad Bandwidth होता है, यह शब्द उच्च गति और उच्च बैंडविड्थ संचार को संदर्भित करता है. ब्रॉडबैंड के इस्तेमाल से यूजर High Speed से इंटरनेट को एक्सेस कर सकते हैं.

ब्रॉडबैंड पुराने डायल – अप कनेक्शन में सिंगल लाइन के बजाय डेटा ट्रान्सफर करने के लिए एक से अधिक बैंड का इस्तेमाल करता है, इसलिए ब्रॉडबैंड पारंपरिक डायल-अप इंटरनेट कनेक्शन की तुलना में तेजी से डेटा को ट्रांसमिट करते हैं. ब्रॉडबैंड डायल-अप कनेक्शन की आवश्यकता को खत्म करते हैं, तथा इंटरनेट यूजर को बेहतर इंटरनेट एक्सेस अनुभव प्रदान करते हैं.

भारत में ब्रॉडबैंड की शुरुवात 15 अगस्त 1995 को हुई थी और इसे विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) के द्वारा लांच किया गया था.

ब्रॉडबैंड का मतलब क्या है (Broadband Meaning in Hindi)

ब्रॉडबैंड एक ऐसा शब्द है जो High Speed और High Bandwidth कम्युनिकेशन इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यह तेज इंटरनेट पहुँचाने के काम आता है.

ब्रॉडबैंड का पूरा नाम (Broadband Full Form in Hindi)

ब्रॉडबैंड का फुल फॉर्म Broad bandwidth होता है जिसका हिंदी मतलब व्यापक बैंडविड्थ या ब्रॉडबैंड इंटरनेट अभिगम होता है.

ब्रॉडबैंड काम कैसे करता है (How Does Broadband Work in Hindi)

ब्रॉडबैंड पुराने डायल अप कनेक्शन में इस्तेमाल होने वाले सिंगल लाइन के स्थान पर कई सारी लाइन के द्वारा डेटा ट्रांसमिट करता है, जिससे कि यूजर उच्च गति से इंटरनेट एक्सेस कर पाता है.

ब्रॉडबैंड को आप एक Highway की तरह समझ सकते हैं जिसमें कई सारी लाइन है और कई गाड़ियाँ चल सकती हैं. यहाँ Highway वह लाइन हैं जिसके द्वारा डेटा ट्रांसमिट होता है और गाड़ियों को आप डेटा पैकेट समझ सकते हैं. ब्रॉडबैंड के माध्यम से एक समय में High Speed इंटरनेट कनेक्शन के द्वारा कई डेटा पैकेट को ट्रांसमिट किया जा सकता है.

ब्रॉडबैंड के प्रकार (Types of Broadband in Hindi)

Broadband कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से 5 प्रमुख ब्रॉडबैंड जिनका इस्तेमाल सर्वाधिक किया जाता है उनके बारे में हमने आपको लेख में बताया है.

  • डीएसएल ब्रॉडबैंड (DSL Broadband)
  • केबल मॉडेम (Cable Modem)
  • फाइबर ऑप्टिक्स (Fiber Optics)
  • वायरलेस ब्रॉडबैंड (Wireless Broadband)
  • सॅटॅलाइट ब्रॉडबैंड (Satellite Broadband)

चलिए इनके बारे में विस्तार से जानते हैं.

#1 – DSL (Digital Subscriber Line)

DSL यानि कि Digital Subscriber Line सबसे फ़ास्ट और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला ब्रॉडबैंड है. यह टेलीफोन लाइन के द्वारा घरों या ऑफिस में पहले से ही मौजूद copper wires पर डेटा ट्रांसमिट करता है. DSL ब्रॉडबैंड की स्पीड कई सौ Kbps (Kilobits Per Second) से लेकर लाखों Mbps (Megabit Per Second) तक होती है.

DSL ब्रॉडबैंड भी दो प्रकार का होता है – Asymmetrical digital subscriber line (ADSL) और Symmetrical digital subscriber line (SDSL).

(अ) – Asymmetrical DSL Broadband (असममित DSL ब्रॉडबैंड)

Asymmetrical digital subscriber line जिन्हें कि Short form में ASDL कहा जाता है, इस प्रकार के DSL ब्रॉडबैंड बहुत अधिक मात्रा में डेटा को प्राप्त करते हैं लेकिन अधिक मात्रा में डेटा को Send नहीं करते हैं. घरों के लिए यह ब्रॉडबैंड बहुत उचित है क्योंकि घरों में लोग इंटरनेट का इस्तेमाल अधिकतर विडियो देखने, वेब ब्राउज़िंग करने, गेम खेलने आदि में इस्तेमाल करते हैं.

(ब) – Symmetrical digital subscriber line (सममित DSL ब्रॉडबैंड)

Symmetrical digital subscriber line जिसे कि Short फॉर्म में SDSL कहा जाता है, इस प्रकार के DSL ब्रॉडबैंड में बड़ी मात्रा में डेटा को भेजा और प्राप्त किया जा सकता है. SDSL का मुख्य रूप से इस्तेमाल बिज़नस में किया जाता है क्योंकि बिज़नस में इंटरनेट का इस्तेमाल विडियो कांफ्रेसिंग जैसे कार्यों के लिए भी किया जाता है जिसमें उच्च बैंडविड्थ की आवश्यकता होती है.

#2 – Cable Modem (केबल मॉडेम)

इस प्रकार के ब्रॉडबैंड को केबल कंपनियों के द्वारा प्रदान किया जाता है जो कि coaxial cable का इस्तेमाल करके डेटा ट्रांसमिट करते हैं. केबल मॉडेम ब्रॉडबैंड के द्वारा आप टेलीविज़न के साथ – साथ इंटरनेट की सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं. केबल मॉडेम External Device होते हैं जो 1.5 Mbps या इससे अधिक की स्पीड से डेटा ट्रांसमिट कर सकते हैं.

#3 – Fiber Optics Broadband (फाइबर ऑप्टिक ब्रॉडबैंड)

फाइबर ऑप्टिक नए प्रकार के ब्रॉडबैंड हैं जो फाइबर ऑप्टिक तकनीकी का इस्तेमाल करके विद्युत संकेतों को प्रकाश में परिवर्तित करता है. विद्युत संकेत डेटा ले जाते हैं. फाइबर ब्रॉडबैंड की डेटा ट्रांसमिट करने की स्पीड केबल मॉडेम और DSL केबल की तुलना में अधिक होती है. अनेक सारी टेलीकम्यूनिकेशन कंपनी फाइबर ऑप्टिक ब्रॉडबैंड सेवा प्रदान करवाती है.

#4 – Wireless Broadband (ताररहित ब्रॉडबैंड)

वायरलेस ब्रॉडबैंड की सहायता से इंटरनेट सर्विस प्रदाता (ISP) ग्राहक तक रेडियो सिग्नल के माध्यम से डेटा ट्रांसमिट करते हैं. वायरलेस ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल उन क्षेत्रों में किया जाता है जहाँ टेलीफोन लाइन या केबल के माध्यम से इंटरनेट पहुंचाना मुश्किल होता है. इसमें रेडियो सिग्नल के द्वारा यूजर और ISP के बीच डेटा ट्रांसमिट होता है. इस ब्रॉडबैंड की स्पीड कुछ अधिक नहीं होती है.

#5 – Satellite Broadband (सैटेलाइट ब्रॉडबैंड)

Satellite Broadband वायरलेस ब्रॉडबैंड का एक रूप है. सैटेलाइट ब्रॉडबैंड के द्वारा उन क्षेत्रों में इंटरनेट की सुविधा प्रदान की जाती है जहाँ केबल और रेडियो सिग्नल के द्वारा डेटा ट्रांसमिट करना असंभव है. अधिकतर दूर – दराज के क्षेत्रों में सैटेलाइट ब्रॉडबैंड के द्वारा ही इंटरनेट की सेवा प्रदान की जाती है.

सैटेलाइट ब्रॉडबैंड का मुख्य उद्देश्य पूरी दुनिया को इंटरनेट की सेवा प्रदान करवाना है. इस प्रकार के ब्रॉडबैंड की स्पीड बहुत कम होती है. सामान्यतः डाउनलोड के लिए 500Kbps और अपलोड करने के लिए 80 Kbps.

ब्रॉडबैंड के फायदे (Advantage of Broadband in Hindi)

ब्रॉडबैंड के फायदे निम्नलिखित हैं –

  • ब्रॉडबैंड कनेक्शन में इंटरनेट की स्पीड डायल अप कनेक्शन से बहुत अधिक होती है, इसलिए High Speed से इंटरनेट एक्सेस करने के लिए ब्रॉडबैंड कनेक्शन का इस्तेमाल किया जाता है.
  • ब्रॉडबैंड कनेक्शन में आपको डायल अप कनेक्शन की तरह बार – बार इंटरनेट कनेक्ट नहीं करना पड़ता है. एक बार इंटरनेट को कनेक्ट करके On करने के बाद यह हमेशा On रहता है.
  • ब्रॉडबैंड में आपको Unlimited इंटरनेट एक्सेस मिलता है, आपको डेटा लिमिट के अनुसार Payment नहीं करना पड़ता है. जो लगातार ऑनलाइन काम करते हैं उनके लिए ब्रॉडबैंड अच्छा विकल्प है.
  • ब्रॉडबैंड अधिक महंगे नहीं होते हैं, इंटरनेट सर्विस प्रदाता कंपनियां बहुत Affordabele Price में ब्रॉडबैंड की सुविधा प्रदान करवा देती है.
  • ब्रॉडबैंड की मदद से आप एक ही टेलीफोन लाइन के द्वारा फोन कॉल और इंटरनेट की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं, दोनों का उपयोग एक साथ करते हुए भी लाइन Busy नहीं बताती है.

ब्रॉडबैंड के नुकसान (Disadvantage of Broadband in Hindi)

ब्रॉडबैंड के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं, जिन पर भी एक नजर डाल लेते हैं –

  • आप चाहें इंटरनेट का इस्तेमाल करें या नहीं आपको हर महीने मासिक शुल्क का पूरा भुगतान करना पड़ता है. यदि आप ज्यादा काम ऑनलाइन नहीं करते हैं तो आपके लिए यह अच्छा विकल्प नहीं है.
  • दूर – दराज या ग्रामीण क्षेत्रों में ब्रॉडबैंड लगवाने में बहुत समस्या होती है.
  • ब्रॉडबैंड अक्सर फिक्स्ड होते हैं, मतलब किआप अपनी मर्जी से इन्हें एक स्थान से दुसरे स्थान में नहीं ले जा सकते हैं.
  • ब्रॉडबैंड के द्वारा आप High Speed से इंटरनेट एक्सेस कर सकते हैं, लेकिन इस बात की कोई गारंटी नहीं होती है.

ब्रॉडबैंड क्यों लेना चाहिए        

अगर आपके मन में अभी भी यह सवाल आ रहा है कि ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए, तो डायल – अप कनेक्शन की तुलना में ब्रॉडबैंड के अनेक सारे फायदे हैं. आपको ब्रॉडबैंड में बार – बार इंटरनेट कनेक्ट नहीं करना पड़ता है, यदि आप एक बार इंटरनेट कनेक्ट कर लेते हैं तो यह हमेशा कनेक्ट रहता है.

साथ में ही डायल अप कनेक्शन की तुलना में ब्रॉडबैंड में इंटरनेट की स्पीड बहुत अधिक होती है. और आप फिक्स मासिक पेमेंट पर अनलिमिटेड सुविधा का लाभ उठा सकते हैं.

ब्रॉडबैंड लेने से पहले आपको यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि आपको इंटरनेट का इस्तेमाल क्यों करना है, कहने का मतलब है कि अगर आप केवल विडियो गेम खेलने, मूवी देखने या इंटरनेट Surfing के लिए ब्रॉडबैंड ले रहे हैं तो आप ADSL ब्रॉडबैंड ले सकते हैं, और यदि आपको डेटा अपलोड, विडियो कॉल जैसे कार्यों के लिए इंटरनेट की जरुरत है तो आप SDSL ब्रॉडबैंड ले सकते हैं.

लगभग सभी टेलीकम्यूनिकेशन कंपनियां ब्रॉडबैंड की सुविधा प्रदान करवाती है, आप ब्रॉडबैंड लेने से पहले सभी कंपनियों के दाम, अपने एरिया में कंपनी के नेटवर्क आदि के विषय में पूरी जानकारी जानकारी प्राप्त करें तभी आप निर्णय पर पहुंचे कि आपको किस कम्पनी के ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल करना है.

भारत में श्रेष्ट ब्रॉडबैंड सर्विस प्रोवाइडर

भारत में अनेक सारे ब्रॉडबैंड सर्विस प्रदाता है जहाँ से आप ब्रॉडबैंड कनेक्शन ले सकते हैं, कुछ Best Broadband Service Provider के नाम हमने आपको नीचे बताये हैं –

  • Airtel Broadband
  • BSNL Broadband
  • MTNL Broadband
  • Gigatel Broadband
  • Excitel Broadband

FAQ: Broadband Kya Hai In Hindi

ब्रॉडबैंड का मतलब क्या होता है?

ब्रॉडबैंड एक प्रकार का इंटरनेट कनेक्शन है जिसके द्वारा यूजर उच्च गति से इंटरनेट एक्सेस कर सकता है.

ब्रॉडबैंड कितने का आता है?

ब्रॉडबैंड का कोई फिक्स प्राइस नहीं है सभी कंपनियों के ब्रॉडबैंड की कीमत इंटरनेट स्पीड के आधार पर अलग – अलग होती है.

वायरलेस ब्रॉडबैंड क्या है?

वायरलेस एक प्रकार का ब्रॉडबैंड होता है जिसके द्वारा रेडियो सिग्नल के द्वारा डेटा को ट्रांसमिट किया जाता है.

ब्रॉडबैंड और वाई – फाई में क्या अंतर है?

ब्रॉडबैंड एक इंटरनेट कनेक्शन है जो यूजर को इंटरनेट की सेवाएँ प्रदान करवाता है, जबकि वाई – फाई एक टेक्नोलॉजी है जिसके माध्यम से आप अपने डिवाइस को इंटरनेट से कनेक्ट कर सकते हैं.

भारत में ब्रॉडबैंड कनेक्शन की स्थापना कब हुई?

भारत में ब्रॉडबैंड कनेक्शन की स्थापना 15 अगस्त 1995 में विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) के द्वारा की गयी थी.

इन्हें भी पढ़े

निष्कर्ष: ब्रॉडबैंड क्या है हिंदी में

ब्रॉडबैंड एक ऐसी तकनीकी है जो घरों या व्यवसायों को High Speed से इंटरनेट एक्सेस करने की सुविधा देती है , अगर आपको भी अधिक इंटरनेट स्पीड की आवश्यकता है तो ब्रॉडबैंड आपकी Slow Internet Speed समस्या का समाधान है.

तो यह थी Broadband Kya Hai In Hindi के विषय में पूरी जानकारी, हमने कोशिस की है कि आपको ब्रॉडबैंड से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाएं, लेकिन यदि कोई इनफार्मेशन रह गयी है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं. और अगर इस लेख से आपको कुछ सीखने को मिला है तो लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.

5/5 - (1 vote)

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment