BSE क्या है और इसमें Sensex क्या है | BSE in Hindi

Bombay Stock Exchange Kya Hai In Hindi: आज के इस लेख में हम बात करेंगे भारत के सबसे पुराने स्टॉक एक्सचेंज Bombay Stock Exchange के बारे में. भारतीय शेयर बाजार में BSE की भूमिका महत्वपूर्ण है. BSE एक शेयर बाजार है जहाँ पर देश भर के बड़े – बड़े बाजरों का आर्थिक ब्यौरा सूचित किया जाता है.

आज के इस लेख में हम जानेंगे कि BSE क्या है, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज इन हिंदी, BSE की स्थापना कब हुई और BSE Sensex क्या है. अगर आप भी शेयर बाजार में रूचि रखते हैं तो आपको यह लेख जरुर पढना चाहिए, इससे आपकी शेयर बाजार की नॉलेज भी बढ़ेगी.

तो चलिए बिना समय गंवाए शुरू करते हैं आज का यह लेख – बंबई स्टॉक एक्सचेंज क्या है हिंदी में.

BSE क्या है (What is BSE in Hindi)

BSE यानि बंबई स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) भारत का एक स्टॉक एक्सचेंज है, जहाँ पर निवेशक या ट्रेडर किसी भी शेयर, बांड और  सरकारी प्रतिभूतियों को खरीदते तथा बेचते हैं.

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) क्या है इसमें Sensex क्या है - BSE in Hindi

BSE भारत का ही नहीं बल्कि एशिया का भी सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है. जिसे स्टॉक एक्सचेंज में 140 सालों से भी ज्यादा का अनुभव है. यह दुनिया का 10 वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज हैं. BSE में लगभग 5500 से भी अधिक कंपनियां रजिस्टर हैं.

भारत के अंतराष्ट्रीय वित्तीय बाजार को दुनिया भर के बाजारों में एक योग्य स्थान दिलवाने में BSE का महत्वपूर्ण योगदान है. भारतीय पूंजी बाजारों में भी BSE की अहम् भूमिका रही है.

BSE का Benchmark Index Sensex (सेंसेक्स) है. सेंसेक्स के अन्दर BSE में रजिस्टर 30 कंपनियों को रखा जाता है, और उनके Performance के आधार पर ही BSE का परफॉरमेंस निर्धारित किया जाता है.

BSE का पूरा नाम (BSE Full Form in Hindi)

BSE का पूरा नाम Bombay Stock Exchange Of India Limited है जिसे हिंदी में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया लिमिटेड है.

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के बारे में

मुख्य बिंदु विवरण
BSE का पूरा नामBombay Stock Exchange 
स्थानदलाल स्ट्रीट मुंबई, महाराष्ट्रा 
स्थापना वर्ष 1875 में 
सूचकांक (Benchmark Index)Sensex 
वर्तमान चेयरमैन विक्रमजीत सेन 
मुद्रा भारतीय रुपया (INR)
बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज इन हिंदी

BSE का इतिहास (History Of BSE In Hindi)

BSC की स्थापना 1875 में भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में हुई थी. मुंबई में एक बरगद के पेड़ के नीचे कुछ लोग एकत्र होकर शेयरों की खरीद – फरोख्त करते थे. धीरे – धीरे लोगों की संख्या बढ़ने लगी तो शेयरों की लेन – देन के लिए एक नए स्थान को खोजा गया, जो आगे चलकर दलाल स्ट्रीट के नाम से प्रसिद्ध हुआ. आज इसी दलाल स्ट्रीट में BSE का Tower है. 

BSE की स्थापना प्रेमचंद रॉयचंद जी ने 300 लोगों के साथ मिलकर की थी. शुरुवात में BSE का नाम The Native Stock Broker Association था, जिसे बाद में बदलकर Bombay Stock Exchange कर दिया गया.

1992 से पहले शेयरों का लेन – देन दस्तावेजों के द्वारा होता था, जिसमें शेयर एक्सचेंज करने में समय बहुत अधिक लगता था क्योंकि दस्तावेजों को निवेशकों के पास पहुँचने में लगभग 5 – 6 महीने का समय लग जाता था. और शेयर बाजार में स्कैम भी बढ़ने लगे थे.

शेयर बाजारों में बढ़ते स्कैम को देखकर भारत सरकार ने 1992 में SEBI नामक संस्था की स्थपना की, जिसका उद्देश्य शेयर बाजार पर नियंत्रण करना और निवेशकों की हितों की रक्षा करना था.

SEBI ने शेयर बाजार के लिए नियम अमेरिका के बाजारों के तर्ज के आधार पर बनाये थे, जिसमें शेयर के लेन – देन का सारा हिसाब कंप्यूटर में रखा जाना था. लेकिन BSE ने SEBI के नियमों को मानने से इंकार कर दिया, इसलिए सरकार ने 1992 में NSE (National Stock Exchange) नाम के दुसरे स्टॉक एक्सचेंज का निर्माण किया.

निवेशकों के कंप्यूटराइज्ड स्टॉक एक्सचेंज की तरफ बढ़ते आकर्षण को देखते हुए BSE ने 1995 में खुद को SEBI में लिस्ट करवा लिया. और BSE भी कंप्यूटराइज्ड स्टॉक एक्सचेंज बन गया. तब से लेकर BSE सेबी के नियमों के अंतर्गत ही काम करता है.

Sensex क्या है (What Is Sensex In Hindi)

सेंसेक्स BSE का बेंचमार्क इंडेक्स है. BSE Sensex की शुरुवात 1986 में हुई थी. BSE में लिस्टेड 30 शीर्ष कंपनियों को Sensex में शामिल किया जाता है.

अगर Sensex में शामिल 30 कंपनी ने अच्छा प्रदर्शन किया यानि कि Sensex में उछाल हुई, तो इसका मतलब है कि BSE में लिस्टेड कंपनियों के शेयर प्राइस बढे हैं और BSE के निवेशकों को फायदा मिला है.

अगर Sensex में शामिल 30 कंपनियों के प्रदर्शन में गिरावट आती है तो इसका मतलब है कि BSE में लिस्टेड कंपनियों के शेयर प्राइस घटे हैं.

BSE से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

BSE का पूरा नाम क्या है?

BSE का पूरा नाम Bombay Stock Exchange है.

BSE की स्थापना कब हुई?

BSE की स्थापना 1874 में मुंबई में हुई थी.

BSE की स्थापना किसने की?

BSE की स्थापना प्रेमचंद रॉयचंद ने 300 लोगों के साथ मिलकर की.

BSE का सूचकांक क्या है?

BSE का सूचकांक Sensex है, जिसमें BSE में लिस्टेड 30 कंपनियों को शामिल किया जाता है.

BSE में कितनी कंपनियां रजिस्टर हैं?

वर्तमान समय में BSE में 5500 से भी अधिक कंपनियां लिस्टेड हैं.

इन्हें भी पढ़े

अंतिम शब्द: बीएसई क्या है हिंदी में

भारतीय शेयर बाजार में BSE की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि BSE से ही भारत में स्टॉक एक्सचेंज की शुरुवात हुई थी और भारत के अंतराष्ट्रीय वित्तीय बाजार को विश्व भर में एक पहचान दिलाने के BSE की महत्वपूर्ण भूमिका रही है.

इस लेख को पढने के बाद आपको BSE Kya Hai In Hindi के बारे में उचित और सटीक जानकारी मिली होगी. अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इस लेख को फेसबुक, ट्विटर, आदि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment