C Language क्या है और सी लैंग्वेज फ्री में कैसे सीखें-What is C Language in Hindi

C Language Kya hai In Hindi : – आज के इस युग में बच्चो की रूचि Computer और Coding की तरफ अधिक हो रही है, हर कोई कंप्यूटर की नॉलेज को रखना चाहता है. कंप्यूटर आज के समय में मानव जीवन का बहुत महत्वपूर्ण भाग बन गया है. 

 आज के इस लेख में हम आपको कंप्यूटर की सबसे लोकप्रिय प्रोग्रामिंग भाषा C – Language के बारे में बताने वाले हैं क्योकि हमें पता है की आप सर्च इंजन पर C Language की जानकारी खोज करके आये है. सी भाषा एक Basic भाषा है जिसे हर कोई सीख सकता है और इसे सीखकर अन्य programming language को सीखने में भी आसानी होती है. 

इस लेख के माध्यम से हम आपको C language से सम्बंधित बहुत सारी जानकारी आपको देने वाले है तो बने रहिये लेख के अंत और और शुरू करते हैं इस लेख को C Language क्या होता है और सी लैंग्वेज फ्री में कैसे सीखें.

सी लैंग्वेज क्या है – What is C Language in Hindi

इस लेख में निम्न विषयों को बताया गया है

C Language एक Computer की language है. यह एक General Purpose Language है जिसका इस्तेमाल कई प्रकार के Software, application बनाने के लिए किया जाता है. यह एक सबसे लोकप्रिय और सीखने में सरल computer language है.

C Language को 1972 में Dennis Ritchie ने बनाया था. Dennis Ritchie एक Operating System बनाना चाहते  थे, जिसका नाम Unix Operating System है, उन्होंने इसी Operating System को बनाने के लिए C language को Develop किया था. 

C programming की मदद से Low level और High level दोनों प्रकार की programming कर सकते हैं. इसलिए इसे Mid Level programming भी कहा जाता है. 

C Language में अन्य सभी Programming Language के Basic Feature कवर हो जाते हैं जैसे Data Type, Pointer, Loop, Function, Variable. इसलिए इसे Mother Language भी कहा जाता है. 

सी लैंग्वेज का इतिहास (History of C Language in Hindi)

C Language को 1972 में Dennis Ritchie ने AT and T ( American Telephone and Telegraph ) की bell laboratories में बनाया था. शुरुवात में Dennis ने C language को Unix Operating System को Design करने के लिए बनाया था. 

इससे पहले Operating System को लिखने के लिए B, BPCL जैसे language का इस्तेमाल किया जाता था.

C Language को इन दोनों Language में आने वाली समस्या को दूर करने के लिए बनाया गया था. C language in दोनों भाषाओ का मिला जुला रूप है.

C भाषा पहले इतनी अधिक प्रचलित और लोकप्रिय नहीं थी, लेकिन जब Dennis Ritchie ने Brian Kernighan के साथ मिलकर The C Programming Language नाम की पुस्तक प्रकाशित की तब से यह Language अधिक Popular हुई और इसका इस्तेमाल भी बहुत सारी चीजों में होने लगा.  

C language के उपयोग (Uses of C Language in Hindi)

चूँकि C Language एक General Purpose Language है तो इसका इस्तेमाल बहुत सारे चीजों के लिए किया जाता है, जिनमें से कुछ हमने आपको नीचे बताये हैं – 

1 – Operating System में 

C language का सबसे अधिक उपयोग Operating System बनाने के लिए किया जाता है. Operating System एक Software होता है, जिसकी मदद से कंप्यूटर पर अन्य सभी Application चलते हैं. 

Operating System जैसे – Window, Linux, Unix etc.

2 – Database Software में 

Database software वे होते हैं जिनकी मदद से डेटा के Data Management को आसान बनाया जाता है. C Programing के द्वारा कई प्रकार के Database Software भी बनाये जाते हैं. 

Database Software जैसे – MySQL 

3 – Application Software बनाने में 

Application Software को बनाने में भी C Language का इस्तेमाल किया जाता है. बहुत सारे Graphic Application, Game C language में ही बने होते हैं. 

4 – Network Driver में 

सभी Network Device में एक Software होता है जिससे Device में चलने वाले Network को Manage किया जा सकता है. कई प्रकार के Network Device Management Software बनाने के लिए C Programming का इस्तेमाल होता है. 

5- Complier में 

Complier एक प्रकार का Programming Software होता है जो Programming में लिखे निर्देशों को Processed करता है और उन्हें Machin Language में बदलता है. इन Complier को बनाने के लिए भी C Language का इस्तेमाल होता है.

सी लैंग्वेज की संरचना (Structure of C – Language in Hindi)

C Programming करने से पहले एक Flow Chart बनाना होता है. और इस chart में C language के Basic Structure का Figure बनाना होता है. वे Basic चीजें इस प्रकार से रहती है. 

Comment Entry (टिप्पणी प्रविष्टि)

सभी Programming का कुछ न कुछ Objective होता है जिसकी मदद से यह Define होता है कि Program किस बारे में लिखा जा रहा है. 

Complier इस Comment Entry को नहीं पढ़ पाता है केवल Programmer ही इस Comment Entry को पढ़ सकता है. Comment Entry का Programing के साथ कोई लेना – देना नहीं होता है. क्योकि यह केवल Programmer के द्वारा Object को Define करने के लिए होता है. 

Header File  (शीर्ष लेख फ़ाइल)

header file को Programming के head section में लिखा जाता है. इसे link Section भी कहते हैं, जैसे – stdio.h, dos.h, conio.h etc.

इन्हें head section में इस प्रकार लिखा जाता है. include < stdio.h >, include < dos.h >

Link Section में Programming में उपयोग होने वाले कई function रहते हैं.

Main Function (मुख्य फंक्शन)

यह C programming का एक बहुत ही महत्वपूर्ण भाग होता है और सभी C programming में इसका होना जरुरी है. क्योकि program का Execution भी Main Function () से Start होता है. 

Variable Declaration (परिवर्तनीय घोषणा)

C Programming के बीच में Variable का इस्तेमाल होता है. Variable के उपयोग के द्वारा ही यूजर से इनपुट को लिया जाता है.

Executable Part (निष्पादनीय भाग)

Executable part में Programming का वह भाग होता है जिसे Execute होना होता है.

C Language की विशेषताएं (Feature of C Language in Hindi)

C Language की निम्न विशेषताएं इसे खास बनाती हैं – 

Middle-Level Language (मध्य स्तरीय भाषा)

C Language का इस्तेमाल Low Level Programming में भी किया जाता है और High Level Programming में भी, इसलिए इस Language को Mid – Language भी कहते हैं. 

Easy to Use (प्रयोग करने में आसान)

C language के command को पढना और उनको कोड करना एक प्रोग्रामर के लिए बेहद आसान है. इसके कोड के Syntax को लिखना programmer के लिए सरल है.

Procedural Language (प्रक्रियात्मक भाषा)

C एक Procedural Language है. Procedural Language में निर्देशों को क्रमबद्ध तरीके से follow किया जाता है. C language में किसी विशेष कार्य को करने के लिए एक से अधिक Function मौजूद होते हैं. 

Fast Speed (तेज़ गति)

C language, Java, Python जैसे interpreter based programming language की तुलना में अधिक फ़ास्ट होती है,  क्योकि HTML, CSS, Java, Python में feature अधिक होते हैं जिससे उनकी Speed Low होती है.

Statically Type Language (सांख्यिकीय रूप से भाषा)

C एक Statically Type Programing Language है. इसमें Variable का Data Type Compile Time में Check होता है. जिससे Compile Time में ही पता चल जाता है कि किस Variable में किस Type का Data Input लेना है. 

General-Purpose Language (सामान्य प्रयोजन भाषा)

C Language एक General Purpose Language है, इसका इस्तेमाल बहुत सारे Application, Software आदि बनाने में किया जाता है. 

Portable Language (पोर्टेबल भाषा)

C language एक Portable Language है, जिसका मतलब होता है इसमें एक बार Program बना लेने के बाद किसी दूसरी मशीन में भी Operate किया जा सकता है. 

Easy to Learn (सीखने में आसान)

C Language को सीखना बहुत ही आसान है और इसे सीखने के बाद अन्य Programing Language को भी आसानी से सीख सकते हैं.  

C Language सीखने के फायदे (Advantage of Learning C Language in Hindi )

C Language एक General Purpose language है इसे सीखने से आपको बहुत सारे फायदे हो सकते हैं जैसे कि –

  • C language को सीखने से आप अन्य Programming language को भी आसानी से सीख सकते हो. 
  • C Language सीख कर आप कंप्यूटर के software बना सकते हैं.
  • C Language के द्वारा Application बना सकते हैं.
  • यह एक आसान भाषा है जिसे कोई भी सीख सकता है. 

C Language कैसे सीखें (How to Learn C Language in Hindi)

सबसे महत्वपूर्ण बात यह आती है कि C Language कैसे सीखें.

आप Online, Offline दोनों तरीकों से C language सीख सकते हैं. निरंतर अभ्यास करने से आपको C Language को सीखने में आसानी होगी.

  • आप C Language कोUdemy के कोर्स से सीख सकते हो. 
  • सी लैंग्वेज को YouTube में Video देखकर सीख सकते हो. 
  • C लैंग्वेज को बाजार से किताबें खरीदकर सीख सकते हो. 
  • C Language सिखने के लिए Coaching Institute को ज्वाइन कर सकते हो. 

C Language को सीखने की वेबसाइट 

C Language को किसने बनाया था?

C Language को 1972 में Dennis Ritchie ने AT and T (American Telephone and Telegraph) की bell laboratories में बनाया था.

शुरुवात में C Language को क्यों बनाया गया था?

शुरुवात में C Language को Unix Operating System के लिए बनाया गया था.

C language की किताब का नाम क्या है?

C language की किताब का नाम The C Programming Language है.

General purpose language क्या होती है?

General purpose language वह Programming Language होती है जिसका उपयोग सभी प्रकार के Application और Software को बनाने के लिए किया जाता है.

Procedural Language क्या होती है?

Procedural Language उस Language को कहते हैं जिसमें निर्देशों को Step by step Follow किया जाता है और उन्हें execute किया जाता है.

इसे C भाषा का नाम क्यों दिया गया?

क्योकि C language के सारे idea पुराने computer programming language B से लिए गए थे इसलिए इसे C language का नाम दिया गया.

इन्हें भी पढ़े 

अंत में – C Language in Hindi

आज के इस लेख what is c language In Hindi के माध्यम से हमने आपको कंप्यूटर C Language Kya Hai और C Language से सम्बंधित सारी जानकारी आपके साथ साझा की है.

हमने कोशिस की है कि C language से जुडी हर एक महत्वपूर्ण जानकारी आप तक पहुचाई जा सके. आशा करता हूँ कि C language से जुड़ा यह लेख आपको जरुर पसंद आया होगा. 

कमेंट करके बताइयेगा कि आपको यह लेख कैसा लगा और इसे अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक शेयर भी करें.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.