कोएक्सिअल केबल क्या है (प्रकार, उपयोग, फायदे) Coaxial Cable in Hindi

Coaxial Cable in Hindi: हमारे इंटरनेट विषय को आगे बढ़ाते हुए आज के इस लेख में हम आपको Coaxial Cable क्या है के बारे में पूरी जानकारी देंगे. आपने अधिकतर अपने घरों में TV या Setup box को install करते समय देखा होगा कि चार परतों वाली एक मोटी तार से एंटीना को Setup box से जोड़ा जाता है. यह चार परतों वाली मोटी वायर Coaxial Cable होती है.

Coaxial Cable एक बहुत प्रभावशाली केबल है जिसका इस्तेमाल सभी छोटे – बड़े नेटवर्क को बनाने में किया जाता है. अगर आप Coaxial Cable के बारे में पूरी जानकरी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको यह लेख अंत तक पढना होगा.

कोएक्सिअल केबल क्या है (प्रकार, उपयोग, फायदे) Type of Coaxial Cable in Hindi

इस लेख में हमने आपको बताया है कोएक्सिअल केबल क्या है, कोएक्सिअल केबल की संरचना, कोएक्सिअल केबल का इतिहास, कोएक्सिअल केबल के प्रकार, कोएक्सिअल केबल के उपयोग, कोएक्सिअल केबल के फायदे और नुकसान क्या है. तो चलिए बिना समय गंवाए शुरू करते हैं आज के इस लेख – कोएक्सिअल केबल इन हिंदी.

कोएक्सिअल केबल क्या है (What is Coaxial Cable in Hindi)

Coaxial Cable एक प्रकार की electric cable है जिसका इस्तेमाल Networking में विभिन्न नेटवर्किंग डिवाइस को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है, जिससे कि नेटवर्किंग डिवाइस के बीच डेटा का आदान – प्रदान संभव हो सके. Coaxial Cable की आतंरिक संरचना के कारण इसे coax के नाम से भी जाना जाता है.

Coaxial Cable तांबे से बना हुआ एक केबल है, जिसमें चार परतें होती है. इसका मुख्य भाग सबसे अन्दर का हिस्सा होता है जो कि तांबे से बना होता है, और सबसे बाहर प्लास्टिक के आवरण से अन्दर के तीनों परतों को ढका जाता है. Coaxial Cable के सबसे आतंरिक भाग से ही उपकरणों को Connect किया जाता है.

Coaxial Cable का उपयोग अधिकतर TV या Setup box में होता है. जैसे TV चैनलों को चलाने में, VCR को TV से कनेक्ट करने के लिए, एंटीना को TV या डिजिटल Setup box से जोड़ने के लिए कोएक्सिअल केबल का इस्तेमाल किया जाता है.

Coaxial Cable ट्विस्टेड पेअर केबल और ऑप्टिकल फाइबर केबल से मोटाई, डाटा क्षमता एवं कीमत में कम होती है.

कोएक्सिअल केबल की आतंरिक संरचना

कोएक्सिअल केबल चार परतों से मिलकर बना होता है –

  • कोएक्सिअल केबल का सबसे आंतरिक हिस्सा Copper Wire (ताम्बे के तार) से बना होता है. यह कोएक्सिअल केबल का मुख्य भाग होता है.
  • इस Copper Wire के बाहर एक insulator (विद्युतरोधी) की लेयर लगी होती है.
  • इंसुलेटर के ऊपर एल्युमीनियम या तांबे की कवच लगी होती है.
  • सबसे बाहर प्लास्टिक का एक कवर लगा होता है जो कि पुरे वायर को सुरक्षा प्रदान करता है.
coaxial cable
कोएक्सिअल केबल का चित्र

कोएक्सिअल केबल का इतिहास (History of Coaxial Cable in Hindi)

दुनिया में सबसे पहले Coaxial Cable का उपयोग इंग्लैंड के एक इंजिनियर और गणितज्ञ Oliver Heaviside ने 1880 में किया था. Oliver Heaviside ने ही सबसे पहले Coaxial Cable का सिधान्त पारित किया और इसका पैटर्न को अपने नाम करवाया. इसीलिए कोएक्सिअल केबल का आविष्कार करने का अधिकारिक श्रेय ओलिवर हीविसाइड को ही जाता है.

कोएक्सिअल केबल के प्रकार (Type of Coaxial Cable in Hindi)

Coaxial Cable मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है –

  • ThikNet Core Coaxial Cable
  • ThinNet Core Coaxial Cable

1 –  थिकनेट कोर कोएक्सिअल केबल (ThikNet Core Coaxial Cable)

इस प्रकार के कोएक्सिअल केबल में inner कॉपर वायर की कोर अधिक मोटी (0.5 इंच) होती है. इस प्रकार की कोएक्सिअल केबल की frequency speed अधिक होती है. यह डेटा को 500 मीटर तक Transmit कर सकता है. इसका इस्तेमाल दो या दो से अधिक LAN को Connect करके बड़े नेटवर्क को बनाने में किया जाता है.

2 – थिननेट कोर कोएक्सिअल केबल (ThinNet Core Coaxial Cable)

इस प्रकार के कोएक्सिअल केबल में inner कॉपर वायर की कोर कम मोटी (0.25 इंच) होती है. इस प्रकार के कोएक्सिअल केबल की frequency speed कम होती है. यह डेटा को लगभग 200 मीटर तक Transmit कर सकता है. इस केबल का इस्तेमाल छोटे LAN नेटवर्क को बनाने में किया जाता है.

कोएक्सिअल केबल के उपयोग (Uses of Coaxial Cable in Hindi)

कोएक्सिअल केबल का निम्न कार्यों के लिए उपयोग में लाया जाता है –

  • Antenna को TV या Setup Box से जोड़ने के लिए.
  • VCR को TV से जोड़ने के लिए.
  • Digital Telephone नेटवर्क में.
  • Cable TV नेटवर्क में.
  • छोटे LAN नेटवर्क बनाने में.

कोएक्सिअल केबल के फायदे (Advantage of Coaxial Cable in Hindi)

Coaxial Cable के मुख्य फायदे निम्न प्रकार से हैं –

  • Coaxial Cable का इस्तेमाल High frequency वाले सिग्नल को ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है. Coaxial Cable की मदद से 50 MHz से अधिक frequency के सिग्नल को ट्रान्सफर किया जा सकता है.
  • अन्य उच्च गति वाले केबल की तुलना में Coaxial Cable की कीमत कम होती है.
  • Coaxial Cable का आतंरिक भाग धातु की परत का बना होता है और बाहर से प्लास्टिक के आवरण से ढका होता है. इसलिए यह जल्दी ख़राब नहीं होता है.
  • Coaxial Cable उच्च बैंडविड्थ सिग्नल को ब्रॉडकास्ट करने में समर्थ होते हैं.
  • Coaxial Cable अनेक प्रकार की बाधाओं के प्रति संवेदनशील नहीं हैं, इसलिए इसमें प्रवाहित होने वाले सिग्नल सुरक्षित और त्रुटी रहित होते हैं.
  • Coaxial Cable की आतंरिक संरचना बहुत प्रभावशाली होती है. इसमें कुल 4 परतें होती हैं जो केबल को अधिक सुरक्षित और उच्च गति वाला बनाती है.
  • Coaxial Cable को बीच में से काटकर आसानी से एक नया केबल जोड़ा जा सकता है.
  • अन्य High speed केबल की तुलना में Coaxial Cable की कीमत कम होती है.

कोएक्सिअल केबल के नुकसान (Disadvantage of Coaxial Cable in Hindi)

Coaxial Cable के कुछ नुकसान भी होते हैं जो कि निम्नवत हैं –

  • आतंरिक भाग तांबे से बना होने के कारण तथा 4 मोटी परतों के कारण इसका वजन भारी होता है.
  • Coaxial Cable को लम्बी दुरी तक install करना महंगा होता है.
  • इसमें नेटवर्क बनाने के लिए एक सिंगल केबल का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए केबल में किसी प्रकार की त्रुटी आने पर पूरा नेटवर्क बंद हो सकता है.
  • चूँकि Coaxial Cable को बीच में से काटकर एक नया केबल जोड़ा जा सकता है, इसलिए इसमें Security का खतरा होता है.

कोएक्सिअल केबल से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

कोएक्सिअल केबल किससे बनी होती हैं?

कोएक्सिअल केबल में चार परतें होती हैं, जिनमें से दो सुचालक और दो कुचालक होते हैं. कोएक्सिअल केबल को बनाने में तांबे और प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है.

कोएक्सिअल केबल का आविष्कार किसने किया?

कोएक्सिअल केबल का अविष्कार सन 1880 में Oliver Heaviside नाम के इंजिनियर ने किया.

कोएक्सिअल केबल को किस नाम से जाना जाता है?

आमतौर पर कोएक्सिअल केबल को coax के नाम से भी जाना जाता है.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: Coaxial Cable क्या है हिंदी में

इस लेख में हमने आपको Coaxial Cable के बारे में आसान भाषा में समझाने की कोशिस की है. साथ ही हमने Coaxial Cable की परिभाषा, इतिहास, प्रकार, उपयोग, फायदे और नुकसानों के बारे में विस्तार से बताया है.

लगभग सभी प्रकार के नेटवर्क में संचार के लिए Coaxial Cable का इस्तेमाल किया जाता है. क्योंकि यह बहुत प्रभावशाली और स्थापित करने में आसान है.

उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख Coaxial Cable Kya Hai In Hindi जरुर पसंद आया होगा. इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और अगर आप Coaxial Cable के बारे में कुछ सुझाव हमें देना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में लिखकर जरुर बताएं. 

5/5 - (1 vote)

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment