Device Driver क्या है इसके प्रकार और डिवाइस ड्राईवर डाउनलोड कैसे करें हिंदी में

Device Driver क्या है इसके प्रकार और डिवाइस ड्राईवर डाउनलोड कैसे करें हिंदी में

Device Driver in Hindi: क्या आपने कभी सोचा है कि जब भी हम कंप्यूटर पर नए डिवाइस को Connect करते हैं जैसे कि कीबोर्ड, माउस या अन्य कोई भी डिवाइस, प्रिंटर MorPho Device इत्यादि तो कंप्यूटर कैसे पहचान पाता है कि कौन सा डिवाइस Connect किया गया है इसका क्या काम है. कंप्यूटर को यही सब समझाने के लिए जरूरत पड़ती है Device Driver की.

पर क्या आप जानते हैं कंप्यूटर में Device Driver क्या है, डिवाइस ड्राइवर कितने प्रकार के होते हैं, कंप्यूटर में डिवाइस ड्राइवर क्यों जरुरी है, डिवाइस ड्राइवर कैसे डाउनलोड करें, डिवाइस ड्राइवर कैसे अपडेट करें.

आपमें से शायद बहुत कम लोग ही इसके बारे में जानते होंगें क्योकिं अक्सर हम डिवाइस ड्राइवर को अनदेखा करते हैं या इसके बारे में पूरी जानकारी हमें नहीं होती है. लेकिन यह कंप्यूटर का एक ऐसा भाग है जिसके बारे में हर किसी को पता होना चाहिए. तो हमने सोचा क्यों न आज आपको कंप्यूटर में Device Driver क्या है के बारे में पूरी जानकारी दे दी जाए.

इस लेख को पढने के बाद आपको डिवाइस ड्राइवर के बारे में अच्छी प्रकार से मालूम हो जाएगा, तो चलिए शुरू करते हैं बिना देरी किये इस लेख को और जानते हैं डिवाइस ड्राइवर क्या होते हैं.

डिवाइस ड्राइवर क्या है (What is Device Driver in Hindi)

Device Driver एक प्रकार के सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है जो कि कंप्यूटर को हार्डवेयर को Communicate करने में मदद करता है. डिवाइस ड्राइवर को हार्डवेयर ड्राइवर भी कहते हैं.

जब भी हम कंप्यूटर में किसी भी डिवाइस को Connect करते हैं तो उसके लिए हमे ड्राइवर इनस्टॉल करने की जरूरत पड़ती है, क्योंकि बिना ड्राइवर के कंप्यूटर यह नहीं समझ पाता है कि जिस डिवाइस को Connect किया है उसका क्या काम है.

जैसे हम प्रिंटर को कंप्यूटर से Connect करते हैं तो जब तक प्रिंटर के ड्राइवर कंप्यूटर में इनस्टॉल नहीं होंगे तब तक प्रिंटर अपना कार्य नहीं कर पायेगा. इसी प्रकार से कोई भी डिवाइस हम कंप्यूटर से Connect करते हैं तो उसके काम करने के लिए ड्राइवर की जरुरत पड़ती है.

Device Driver कंप्यूटर में मौजूद फाइलों का एक समूह होता है जिसकी मदद से कंप्यूटर अपने से Connect Hardware की पहचान कर पाता है.

डिवाइस ड्राइवर कैसे काम करता है

जैसा कि ऊपर हमने जाना कि जब भी हम कंप्यूटर से कोई डिवाइस Connect करने हैं तो उसके काम करने के लिए ड्राइवर की जरुरत होती है. अब यह जानना भी जरुरी है कि आखिर यह डिवाइस ड्राइवर काम कैसे करते हैं.

डिवाइस ड्राइवर Operating System और डिवाइस के बीच एक Translator की तरह काम करते हैं. Data को भेजने और प्राप्त करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम को डिवाइस से संवाद करने की जरुरत पड़ती है.

लेकिन ऑपरेटिंग सिस्टम एक सॉफ्टवेयर होता है और डिवाइस एक हार्डवेयर, इसलिए दोनों की Language भी अलग – अलग होती है जिससे कि ये एक दुसरे की Language को समझ नहीं पाते हैं.

तब जरुरत पड़ती है डिवाइस ड्राइवर की. डिवाइस ड्राइवर ऑपरेटिंग सिस्टम और हार्डवेयर के बीच में एक Translator का काम करता है जिसके द्वारा ये दोनों Communicate कर सकते हैं.

Driver को इनस्टॉल करने के बाद ऑपरेटिंग सिस्टम इसे Explain करता है कि किस प्रकार का Data भेजना है या प्राप्त करना है और यह चीज Driver हार्डवेयर को Explain करता है.

डिवाइस ड्राइवर के प्रकार (Types of Device Driver in Hindi)

वैसे कंप्यूटर में अलग –अलग हार्डवेयर के लिए अलग – अलग प्रकार के डिवाइस ड्राइवर है, पर कंप्यूटर के Basic Function के हिसाब से कुछ प्रमुख डिवाइस ड्राइवर निम्न प्रकार से हैं –

#1 – BIOS (Basic Input and Output System) Driver (बायोस)

BIOS (Basic Input  and Output System) अस्तित्व में कंप्यूटर में सबसे Basic Driver होते हैं. इन्हें First Program के हिसाब से डिजाईन किया गया है जो कि कंप्यूटर के चालू होने पर Boot होता है.

Motherboard में निर्मित एक मेमोरी में BIOS को स्टोर किया जाता है. और हार्ड ड्राइव, वीडियो डिस्प्ले आउटपुट, कीबोर्ड और माउस सहित पीसी से जुड़े हार्डवेयर को बूट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है.

#2 – Motherboard Driver (मदरबोर्ड ड्राईवर)

मदरबोर्ड ड्राइवर छोटे Program होते हैं जिन्हें Window और Linux के द्वारा Read किया जाता है और ये ऑपरेटिंग सिस्टम के अंदर Basic Computer Function को Allow करते हैं. इन ड्राइवरों में आम तौर पर ऐसे प्रोग्राम शामिल होते हैं जो माउस और कीबोर्ड के लिए broadband ports, USB ports and I/O ports को Allow करते हैं.

मदरबोर्ड के बनावट के आधार पर इन ड्राइवर के पास Video और Audio Support के लिए Basic Driver भी हो सकते हैं. Motherboard Driver  BIOS Driver की तुलना में अलग होते हैं.

#3 – Hardware Driver (हार्डवेयर ड्राईवर)

हार्डवेयर ड्राइवर ऐसे Program जिन्हें कंप्यूटर Hardware Pieces जैसे कि expansion slots को कंप्यूटर पर कार्य करने की अनुमति देने के लिए Design किया गया है.

हार्डवेयर की installation process को आसान बनाने के लिए वीडियो कार्ड, साउंड कार्ड, नेटवर्क कार्ड और कुछ अन्य expansion कार्ड ड्राइवर डिस्क के साथ आते हैं. इनकी मदद से Personal Computer में काम करने को आसान बनाया जाता है.

#4 – Virtual Device Drivers (वर्चुअल डिवाइस ड्राइवर्स)

Virtual Device Drivers अन्य ड्राइवर की तुलना में भिन्न होते हैं. एक ओर जहाँ अधिकांश ड्राइवर कंप्यूटर हार्डवेयर को ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ करने की अनुमति देते हैं वहीँ दूसरी ओर Virtual डिवाइस ड्राइवर Piece of Hardware का emulate करते हैं और कंप्यूटर को essentially trick करते हैं कि वह Piece of Hardware को Read कर रहा है.

डिवाइस ड्राइवर क्यों जरुरी होता है

अभी तक आप लोग समझ गए होंगे कि Device Driver क्या होता है, अब समझते हैं यह क्यों जरुरी होती है –

  • बिना डिवाइस ड्राइवर की मदद से हार्डवेयर कंप्यूटर में अपना कार्य नहीं कर पायेगा.
  • अगर कंप्यूटर में ड्राइवर नहीं होंगे तो External Device जैसे कि माउस, कीबोर्ड, पैन ड्राइव, प्रिंटर आदि का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.
  • बिना Network Driver के आप अपने कंप्यूटर में Internet Browse नहीं कर सकते हैं.
  • अगर कंप्यूटर में ड्राइवर नहीं होंगे तो आप कंप्यूटर के किसी Function का इस्तेमाल नहीं कर पायेंगे.
  • जिनते भी डिवाइस को हम कंप्यूटर से Connect करते हैं सभी के काम करने के लिए ड्राइवर की जरुरत पड़ती है.

कंप्यूटर में ड्राइवर कैसे डाउनलोड करते हैं (Device Driver Download in Hindi)

वैसे तो जब आप कोई नया कंप्यूटर या लैपटॉप लेते हैं उसमें आपको एक CD मिलती है जिसमें सभी आवश्यक Driver होते हैं जिन्हें आप आसानी से अपने कंप्यूटर में Install कर सकते हैं. लेकिन अगर आपके पास CD नहीं है तो आप online भी कंप्यूटर में अपने ड्राइवर इनस्टॉल कर सकते हैं.

Online Computer में ड्राइवर Install करने के लिए पहले आपको अपने कंप्यूटर में Computer Driver Pack Solution https://driverpack.io/en  डाउनलोड करने वाली वेबसाइट पर जाना है. गूगल पर सर्च करने से आपको अनेक वेबसाइट मिल जायेंगी.

इसके बाद जिन भी Driver की आपको जरुरत है उन्हें Install कर लीजिये.

जब यह Software आपके PC में इनस्टॉल हो जाएगा तो आपको इसमें Double Click  करना है जिससे यह सॉफ्टवेयर Run करने लगेगा और जो भी Missing Driver हैं उन्हें Scan कर लेगा. फिर आप उन सभी ड्राइवर को Install कर सकते हैं.

तो इस प्रकार से आप कंप्यूटर में ड्राइवर को इनस्टॉल कर सकते हैं. अगर आपके पास CD है तो आप CD के द्वारा ही अपने PC में ड्राइवर इनस्टॉल करें. CD न होने पर आप ऑनलाइन ड्राइवर करने की ओर जाएँ .

डिवाइस ड्राइवर कैसे अपडेट करें (Update Device Driver In Hindi)

वैसे डिवाइस ड्राइवर को अपडेट करना आसान है, लेकिन तब भी बहुत सारे लोगों को परेशानी आती है ड्राइवर अपडेट करने में इसलिए ड्राइवर अपडेट करने की Process हमने आपको नीचे बताई है –

  • सबसे पहले कंप्यूटर Search Bar में Control Panel लिखकर सर्च करें और इसे Open कर लीजिये.
  • इसमें आपको Hardware and Sound वाले Option पर क्लिक करना है.
computer Control Panel and Hardware and Sound
  • अब आपको Device Manager पर क्लिक करना है.
click Computer Device Manager Option
  • अब आपके सामने नयी Window Open हो जायेगी, इसमें आपको सभी ड्राइवर मिल जायेंगे.
computer device manager All Device Driver list
  • जो ड्राइवर अपडेट नहीं हैं उस पर Mark बना होगा, आप उसे Select करें और Right Click करके Properties वाले विकल्प पर क्लिक करें.
  • अब एक नयी Pop – up Window Open हो जायेगी जिसमें आपको Driver वाले option को Select कर लेना है. और Update Driver पर क्लिक करना है.
computer device driver update
  • अब आपके सामने नयी Window में दो Option Show होंगे –
Search Automatically For Updated Driver Software

अगर ड्राइवर आपके पास फाइल में नहीं है तो Search Automatically for update driver software पर क्लिक करके ऑनलाइन इन्टरनेट की मदद से ड्राइवर अपडेट कर लीजिये.

अगर ड्राइवर पहले से ही आपके पास मौजूद है तो Browse my computer for driver software पर क्लिक करके ड्राइवर अपडेट कर लीजिये.

इस आसान सी Process को Follow करने के बाद आप आसानी से कंप्यूटर में ड्राइवर इनस्टॉल कर सकते हैं.

FAQ For Device Driver in Hindi

ड्राइवर को कौन बनाता है?

ड्राइवर को या तो सॉफ्टवेयर इंजिनियर बनाते हैं या फिर कंप्यूटर इंजिनियर.

ड्राइवर का क्या काम होता है?

Driver का मुख्य काम होता है कि वह कंप्यूटर से Connect हार्डवेयर और ऑपरेटिंग सिस्टम के बीच में Communicate करा सके.

डिवाइस ड्राइवर किस प्रकार का सॉफ्टवेयर है?

डिवाइस ड्राइवर एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है.

इन्हें भी पढ़े 

हमने सीखा: डिवाइस ड्राईवर क्या है हिंदी में

इस लेख के माध्यम से हमने आपको Device Driver Kya hai की पूरी जानकारी दी है और साथ में ही आपको डिवाइस ड्राइवर की अहमियत को बताया है. इस लेख को पढने के बाद आप लोग समझ गए होंगे कि डिवाइस ड्राइवर कंप्यूटर के लिए कितने जरुरी होते हैं. बिना डिवाइस ड्राइवर के कंप्यूटर यह पहचान नहीं कर पायेगा कि कौन से हार्डवेयर को कंप्यूटर से Connect किया गया है. और कंप्यूटर सही प्रकार से अपना कार्य नहीं कर पायेगा.

तो दोस्तों इस लेख में इतना ही, उम्मीद करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा और इस लेख What Is Device Driver In Hindi से आपको बहुत कुछ सीखने को मिला होगा. इस लेख को आप सोशल मीडिया पर भी शेयर करके दूसरों तक सही Knowledge को बांटे, और इसी प्रकार के Valuable लेख को पढने के लिए हमारे ब्लॉग पर आते रहिये.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment