Cvv क्या है और इसका महत्व | CVV Full Form In Hindi

Cvv Code Kya Hai In Hindi: दोस्तों आज का हमारा सब्जेक्ट है यह जानना की सीवीवी क्या होता है. जैसा कि आप सभी जानते हैं की भारत ही नहीं बल्कि संपूर्ण दुनिया में अब डिजिटल क्रांति आ चुकी है और लोग इंटरनेट के माध्यम से बहुत अधिक मात्रा में transactions भी कर रहे हैं.

इन ट्रांजैक्शंस के बहुत से प्रकार मौजूद हैं. जैसे कि e payment, debit card, Credit card इत्यादि. तो जब आप credit अथवा debit card के माध्यम से ऑनलाइन पेमेंट करने का प्रयास करेंगे तो आप पाते हैं कि आपको अपने डेबिट कार्ड का अकाउंट नंबर और साथ में एक 3 numbers का CVV code डालने की आवश्यकता होती है. आज हम इसी सीबीआई कोर्ट के विषय में जानेंगे कि आखिर यह सीवीवी कोड होता क्या है, इसका फुल फॉर्म क्या है, और इसकी उपयोगिता इत्यादि.

सीवीवीका फुल फॉर्म क्या है (CVV full Form In Hindi)

नीचे आपको cvv और उससे जुड़े कुछ अन्य फुल फॉर्म दिए जा रहे है –

  • CVC का FULL FORM – “CARD VERIFICATION CODE” होता है.
  • CVV का FULL FORM In HINDI – “कार्ड सत्यापन कोड” होता है.

सीवीवी कोड क्या है (What is CVV In Hindi)

सीवीवी कोड जिसे बहुत से नाम से जाना जाता है जैसे कि सिक्योरिटी कोड, कार्ड वेरीफिकेशन कोड और कार्ड वेरीफिकेशन नंबर इत्यादि इन सब का मतलब एक ही होता है कि आपके ट्रांजैक्शन को अधिक safe बनाना. इसको साफ-साफ अर्थ है किसी में भी आपके बैंक डेबिट या क्रेडिट कार्ड की ऑनलाइन पेमेंट को सुरक्षित रखने के लिए एक गोपनीय कोड होता है. जो 3 अंको का रहता है.

सीवीवी क्या है और इसका महत्व (CVV Full Form In Hindi)

सामान्य रूप से जब कभी भी आप ऑनलाइन पेमेंट करने का प्रयास करते हैं और डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड का ऑप्शन चुनते हैं तो आपसे आपके कार्ड का डिटेल पूछा जाता है. ये डिटेल निम्न होते है –

  • कार्ड नंबर
  • कार्ड होल्डर का नाम
  • कार्ड expiry date और
  • CVV code

CVV का उपयोग आपके किसी भी ट्रांजैक्शन को अधिक सुरक्षित बनाना होता है इसका कारण यह है कि कोई भी कंपनी जब आपके द्वारा किया जा रहे ट्रांजैक्शन के समय में सीवीवी के बारे में पूछती है तो इससे यह जानना चाहती है कि उस कार्ड का प्रयोग आपके द्वारा किया जा रहा है या कोई अन्य व्यक्ति इसका प्रयोग कर रहा है.

तो इस प्रकार सीवीवी का प्रयोग आपको हमेशा करना होगा जब कभी भी आप डेबिट व क्रेडिट कार्ड के माध्यम से पाल जैकसन करने का विकल्प चुनते हैं. आजकल एक नई व्यवस्था के अनुसार आप अपने debit अथवा credit card को किसी भी एप जैसे कि flipkart, amazon, myntra इत्यादि में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नए सर्कुलर के अनुसार save कर के रख सकते हैं और आपको हर ट्रांजैक्शन के लिए केवल सीवीवी डालने की आवश्यकता होती है एक बार सीवीवी डालते ही आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी आता है इस ओटीपी को भले ही आप आसानी से ट्रांजैक्शन पूरा कर पाते हैं.

CVV kya hai in Hindi
cVV का चित्र

CVV का इतिहास क्या है (History of CVV In Hindi)

CVV की स्थापना Michael stone के द्वारा सन् 1995 में यूनाइटेड किंगडम में किया गया था. यह एक कांसेप्ट के रूप में स्थापित किया गया था जिसका मूल उद्देश्य था कार्ड पेमेंट को अत्यधिक सुरक्षित और जटिल बनाना. हालांकि पहले शुरुआती चरण में यह कोड तीन से अधिक numbers का होता था. जिससे बहुत से complicated देखने को मिले इस कारण बाद में इसे 3 numbers के बना दिया गया.

वर्तमान समय में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जुडिशरी जैसी संस्था ने कहा है कि सीवीवी नंबर को लगातार हर घंटे बदलते रहना चाहिए.

Cvv काम कैसे करता है (How CVV Works In Hindi)

जैसा कि आपको पता है कि CVV का उपयोग ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के समय किसी भी प्रकार के फ्रौड से बचने के लिए किया जाता है. यह कोर्ट हमें एक विशेष security प्रदान करता है. जब भी कोई कॉल एजेंट अथवा कंपनी के द्वारा आपके ATM card या डेबिट कार्ड के विषय में डिटेल मांगा जाता है तो उसमें आपके सीवीवी का जिक्र भी किया जाता है.

तो जब कभी भी आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने वाले होते हैं तो आपको कार्ड डिटेल के समय सीवीवी भी दर्ज करना होता है. CVV में एक ऐसा गजब का ट्रांजैक्शन फीचर है जिसे हम card not enter के नाम से भी जानते है.

इस फीचर से किसी भी डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड को क्रिप्टोग्राफी फीचर प्रदान होता है. इसलिए यह भी कहां जाता हैं कि CVV code कार्ड का हिस्सा नहीं होता है जबकिएक सिक्योरिटी चेक होता है.

वर्तमान समय में प्रत्येक क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड में सीवीवी कोड की व्यवस्था दी जाती है. CVV को मुख्य रूप से दो प्रकार के कोड में विभाजित किया जाता है जो है – CVV1 और CVV2.

सीवीवी1 का इस्तेमाल कार्ड के वर्तमान होल्डर के द्वारा किया जाता है जिससे वेरीफाई किया जाता है कि जो व्यक्ति कार्ड का प्रयोग कर रहा है वहीं इसका वास्तविक मालिक है.

वही CVV2 का इस्तेमाल कंपनी अथवा पेमेंट मर्चेटाइज के द्वारा किया जाता है. आपने ध्यान दिया होगा जब कभी आप पेमेंट करने के लिए ऑनलाइन ट्रांजैक्शन अपने डेबिट कार्ड डिटेल डालते हैं तो वहां पर CVV2 नंबर लिखा हुआ होता है तुम मेरा

CCV सुरक्षा कोड कैसे पता करें?

सीवीवी कोड के विषय में जानकारी प्राप्त करने के पश्चात अब अगला प्रश्न यह आता है कि सीबीआई कोर्ट कार्ड में होता कहां पर है?

सीवीवी कोड कार्ड पीछे लिखा हुआ 3 नंबर का एक डिजिट कोड होता है. जिस ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में हमे कार्ड के फिजिकल use की आवश्यकता नहीं होती है उन ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पर यह तीन अंको का सीवीवी नंबर काफी सुरक्षा प्रदान करती है.

जब आप अपने कार्ड के पीछे की ओर देखते है तो आप पाएंगे कि आपके कार्ड में पीछे 3 अंको का एक विशेष क्रम थोड़े साफ और बड़े अक्षरों में दिखेगा, यह कुछ और नहीं सीवीवी कोड ही है. अधिकांश कार्डों में यह signature slab के बगल में पाया जाता है. अर्थात जिस जगह पर आपको कार्ड प्राप्त होते ही सिग्नेचर करने को कहा जाता है सीवीवी उसके जस्ट साइड में पाया जाता है.

ध्यान रखे CVV Code आपका एटीएम पिन कोड नही होता है?

बहुत से लोगों के मन में यह गलत अवधारणा होती है कि सीवीवी उनके ATM अथवा डेबिट कार्ड के पिन कोड ( 4 numbers वाला एटीएम पिन कोड) होता है. यह अवधारणा पूरी गलत है क्योंकि CVV तो कार्ड के पीछे प्रत्यक्ष रुप से दिखाई देने वाला एक यूनिक कोड होता है जो प्रत्येक कार्ड में आपको फिजिकल दिखाई देता है तथा यह किसी भी particular कार्ड पर एक परमानेंट अंक होता है इसके comparison में एक पिन कोड को किसी भी क्षण आसानी से परिवर्तित किया जा सकता है.

CSV code क्या होता है (CSV code in Hindi)

Card से संबंधित एक अन्य शब्द है CSV, जिसका अर्थ होता है – “Card Security Value”.

एक CSV किसी ATM card के तरह ही होता है अर्थात इसमें भी 3 या 4 अंक होते है तथा ये भी कार्ड के सामने अथवा पीछे पाया जाता है.

Cvv नंबर का इस्तेमाल कहा किया जाता है?

सभी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन मरचेंट्स में जहां पर डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड का ऑनलाइन पेमेंट हेतु उपयोग किया जाता है वहां पर सीवीवी नंबर का इस्तेमाल शक होता है.

ध्यान दें जिस किसी भी जगह पर कार्ड पेमेंट का इस्तेमाल किया जा रहा है तो उस स्थान पर आपको CVV number देने की आवश्यकता होगी.

Cvv का महत्व (Importance of CVV In Hindi)

वैसे तो किसी डेबिट व क्रेडिट कार्ड में मैग्नेटिक चीफ पर लगे हुए सीवीवी कोड का अपना एक विशिष्ट महत्व होता है जिन्हें निम्नलिखित बिंदुओं से समझा जा सकता है –

  1. अगर सीवीवी का सही तरीके से उपयोग किया जाए तो यह कई तरह के धोखों से बचाने में मददगार होता है. उदाहरण के लिए यदि मैग्‍नेटिक स्ट्रीप के डाटा में कुछ बदलाव किया गया है तो strip reader आपको damaged card error दिखाकर आपको गड़बड़ी का संकेत देगी.
  • मोबाइल और इंटरनेट के जरिये की जाने वाली shoping में CVV Number बहुत necessary होता है क्योंकि इससे यह पता चलता है कि जो व्यक्ति order कर रहा है उसके पास कार्ड physically रूप से मौजूद है. इसलिए CVV Number बहुत महत्वपूर्ण है.
  • किंतु CVV तकनीक हर धोखे से आपको नहीं बचा सकती है, अगर आपका कार्ड चोरी हो गया है या किसी ने आपका कार्ड हैक कर लिया है तो CVV आपके कार्ड से खर्च होने वाले amount को नहीं बचा सकता है. क्योंकि जिसके पास आपका कार्ड होगा CVV भी उसके पास पहुंच जाएगा. क्योंकि यह कार्ड में physically printed होता है.
  • कार्ड में उपस्थित सीवीवी आपके fund की रखवाली करने के साथ-साथ किसी transaction को पूर्ण होने के लिए necessary permission भी प्रदान करता है क्योंकि जब कभी भी आप डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड से ट्रांजैक्शन करने का प्रयास करते हैं तो आपकी सीवीवी डालने के पश्चात ही आपके रजिस्टर मोबाइल में ओटीपी प्राप्त होती है.

Cvv की खामियां (Drawbacks Of CVV In Hindi)

सीवीवी के कुछ महत्वपूर्ण drawbacks निम्नलिखित है –

  • CVV का उपयोग करने के लिए आपके पास डेबिट कार्ड का होना आवश्यक है.
  • सीवीवी को सदैव गुप्त रखना जरूरी है क्योंकि यह confidential होता है.
  • चूंकि CVV एटीएम कार्ड पर होता है आपके एटीएम कार्ड के खो जाने से आपका सिविल भी भी किसी अन्य व्यक्ति को मिल जाने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है.
  • CVV का संबंध केवल आपके डेबिट कार्ड से नहीं होता अपितु मोबाइल से भी होता है क्योंकि merchandise को जब कभी भी पेमेंट करने का विकल्प आता है और हम डेबिट कार्ड का प्रयोग करते हैं तो सीवीवी डालने के पश्चात ही हमारे रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी प्राप्त होता है. अतः इसे आपके मोबाइल नंबर या मोबाइल को भी खतरा उत्पन्न हो सकता है.

CVV से संबंधित FAQs

सीवीवी कोड से संबंधित कुछ अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और उनके उत्तर निम्नलिखित है –

CVV नंबर कैसे जनरेट होता है?

सीवीवी नंबर Computer से Generated होता है यह एक Magnetic Chip Card में Computer द्वारा Auto Printed होता है. अतः आप देखेंगे कि एक Particular Card का Particular CVV नंबर होता है यह अति गोपनीय तीन अंकों का नंबर होता है जो कि Umchangable होता है अर्थात इसे Change नहीं किया जा सकता है.

क्या सीवीवी कोड को छुपा कर रखना चाहिए?

एक सीवीवी नंबर को हमेशा ही गोपनीय अथवा Confidential माना जाता है क्योंकि CVV नंबर के लीक होने से आपके अकाउंट में जमा धनराशि खतरे में आ सकता है. उदाहरण के लिए मान लीजिए आपके पास कोई डेबिट कार्ड है तो इसका अर्थ है कि केवल आप ही वह व्यक्ति हैं जो यह जानते हैं कि उस कार्ड का तीन नंबर का सीवीवी Digit क्या है. अब यदि आप किसी अन्य व्यक्ति को इस CVV नंबर का डिटेल बता देते है तो इसका मतलब यह है कि आपने अपने अकाउंट का आधा डिटेल उस व्यक्ति को दे दिया. अब यदि गलती से भी आपका फोन इस व्यक्ति के हाथ में आ जाता है तो वह ओटीपी प्राप्त करके आपके बैंक अकाउंट में जमा राशि को चंपत करके भाग जायेगा.

क्या सीवीवी कोड लेना अनिवार्य होता है?

सीवीवी कोड आपको आपके बैंक द्वारा दिए जाने वाले कार्ड में स्वतः ही प्रदान किया जाता है. अतः  आपको यदि इसे लेने की इक्षा ना भी ही तो भी यह आपको मिलेगा ही.

क्या हम अपने सीवीवी कोड को ही अपना एटीएम पिन भी बना सकते है?

अपने सीवीवी कोड को ही अपना एटीएम पिन  दोनो ही अलग चीज होती है. जहां एक एटीएम पिन का प्रयोग एटीएम मशीन के पास किया जाता है वही एक सीवीवी कोड का प्रयोग करने के लिए एटीएम के पास जाने की आवश्यकता नहीं होती है. एक एटीएम पिन Basically 4 अंको का कोड होता है वही एक सीवीवी कोड करीब 3 अंको का एक Confidential कोड होता है. अतः आप को यही सलाह दी जाती है कि कभी भी अपना एटीएम पिन कोड सीवीवी कोड या अपने बर्थडे, गाड़ी के नंबर आदि नही रखनी चाहिए क्योंकि इससे सामने वाले को आपके पासकोड का आसानी से पता लगाया जा सकता है.

इन्हें भी पढ़े

अंतिम शब्द : CVV क्या है हिंदी में  

सीवीवी एक उच्चस्तरीय तीन अंकिय confidential कोड होता है. इस लेख के माध्यम से हमने आपके सामने CVV से संबंधित सभी जानकारियों को एक स्थान पर ला कर पेश करने का प्रयास किया है. लेख में हमने आपको सीवीवी का अर्थ, परिभाषा, फुल फॉर्म इतिहास, सीवीवी और उससे संबंधित शब्दो के मध्य अंतर, सीवीवी के काम करने की विधि, वह कहां पर अवस्थित होता है, उसका महत्व और drawbacks ये सब बतलाया है. साथ में हमने अंत में आपके द्वारा  सीवीवी से संबंधित सबसे अधिक सर्च किए जाने वाले प्रश्नों को खोज कर उनका उत्तर देने का प्रयास भी किया है.

आशा करते है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा. topic से संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों का स्वागत है,धन्यवाद.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment