डिजिटल वॉलेट/E-Wallet क्या है काम कैसे करता है (Digital Wallet In Hindi)

Digital Wallet Kya Hai In Hindi: डिजिटलीकरण के मामले में भारत में पिछले कुछ सालों में एक नयी क्रांति आई है, हर चीजें डिजिटल होती जा रही हैं. डिजिटल वॉलेट या ई वॉलेट भी इसी का एक उदाहरण है. पहले पेमेंट करने के लिए फिजिकल कैश की जरूरत होती है और कैश निकालने के लिए बैंक और ATM की लंबी लाइनों में खड़ा रहना पड़ता था.

लेकिन डिजिटल वॉलेट के आने से आप बिना कैश लिए खरीददारी करने निकल सकते हैं, घर बैठे अपना मोबाइल रिचार्ज कर सकते हैं, ऑनलाइन बैंकिंग की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं, विभिन्न प्रकार के बिलों का भुगतान कर सकते हैं लगभग पैसों से सम्बंधित तमाम प्रकार के कार्य ऑनलाइन डिजिटल वॉलेट से कर सकते हैं. डिजिटल वॉलेट ने लोगों की कई समस्याओं का समाधान किया है.

पर क्या आप जानते हैं डिजिटल वॉलेट या E-Wallet क्या है, वॉलेट काम कैसे करता है, वॉलेट कितने प्रकार के होते हैं, वॉलेट के फायदे और नुकसान क्या हैं और आप कैसे ई वॉलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं. यदि नहीं तो इस ब्लॉग को पूरा अंत तक जरुर पढ़िए. इस लेख में हमने आपको ई वॉलेट से जुडी हर एक जानकारी को बताया है.

तो चलिए बिना समय गंवाए शुरू करते हैं आज का यह लेख और जानते हैं वॉलेट क्या होता है हिंदी में.

डिजिटल वॉलेट या E-Wallet क्या है और काम कैसे करता है (Digital Wallet In Hindi)

ई वॉलेट क्या है (What is E-Wallet in Hindi)

ई-वॉलेट का पूरा नाम Electronic Wallet होता है, इसकी अलग-अलग मीनिंग भी है जैसे – डिजिटल वॉलेट, वर्चुअल वॉलेट या मोबाइल वॉलेट नाम से भी जाना जाता है. यह एक प्रकार का डिजिटल बटुवा होता है जिसका इस्तेमाल Electronic Transaction के लिए किया जाता है. जिसमें रिचार्ज, बिलों का भुगतान, ऑनलाइन खरीददारी, टिकट बुकिंग, ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर जैसी सेवाएँ शामिल हैं.

जिस प्रकार से आप अपने बटुवे में रखे पैसों का उपयोग कर सकते हैं उसी प्रकार से E-Wallet में रखे पैसों का इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन E-Wallet को आप अपने बटुवे की तरह फिजिकल रूप में Carry नहीं कर सकते हैं और ना ही इसे छू सकते हैं. यह डिजिटल रूप में आपके मोबाइल फ़ोन में होता है .

E-Wallet आपके मोबाइल फोन में मौजूद रहता है. आप E-Wallet सर्विस प्रदाता के ऐप को डाउनलोड करके अपना E-Wallet ओपन करवा सकते हैं और फिर अपना बैंक अकाउंट E-Wallet से लिंक कर सकते हैं या फिर E-Wallet में पैसे add कर सकते हैं और उसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों में भुगतान के लिए कर सकते हैं.

E-Wallet से फंड ट्रान्सफर करने और प्राप्त करने के लिए सरकार ने UPI पेमेंट की शुरुवात की जिसमें यूजर Real Time में फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं. आज के समय में मार्केट में अनेक सारी E-Wallet सर्विस प्रदान करने वाली कंपनियां मौजूद हैं जैसे Paytm, PhonePe, Google Pay आदि.

ई वॉलेट काम कैसे करता है (How Does E-Wallet Work in Hindi)

E-Wallet के मुख्य रूप से दो भाग होते हैं एक तो सॉफ्टवेयर और दूसरा इनफार्मेशन. जब यूजर E-Wallet का इस्तेमाल करना चाहता है तो उसे E-Wallet सर्विस प्रदाता की एप्लीकेशन यानि सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल करना होता है जिसमें यूजर को अपनी पूरी इनफार्मेशन देनी होती है.

 E-Wallet सर्विस प्रदाता सॉफ्टवेयर में यूजर की पूरी इनफार्मेशन जैसे यूजर का नाम, पता, मोबाइल नंबर, भुगतान की जाने वाली राशि , कार्ड डिटेल, बैंक अकाउंट डिटेल को सुरक्षित स्टोर करके रखते हैं. और यूजर को एक Security mPIN प्रदान करवाते हैं.

जब यूजर E-Wallet का इस्तेमाल Transaction के लिए करता है तो मर्चेंट की इनफार्मेशन को fill करते ही यूजर के सामने मर्चेंट को भुगतान करने का विकल्प आ जाता है. 

भुगतान करने से पहले यूजर को अपनी Security pin को दर्ज करना होता है और फिर उस मोबाइल नंबर पर एक OTP जाता है जिससे यूजर ने सॉफ्टवेयर में Login किया है. जब यूजर उस OTP को इंटर करता है तभी भुगतान सफलतापूर्वक हो पाता है.

ई वॉलेट के प्रकार (Types of E-Wallet in Hindi)

पिछले कुछ सालों में Digital India की शुरुवात के बाद भारत में Electronic Wallet का इस्तेमाल करने वाले यूजर की संख्या में भारी बढ़ोतरी हुई है, और साथ में अनेक सारी नए E-Wallet कंपनियां मार्केट में आई हैं. Reserve Bank of India (RBI) ने E-Wallet की सेवा प्रदान करने वाली कंपनियों को उनकी सर्विस और कार्य के आधार पर 4 भागों में बांटा है.

  • Closed E-Wallet (क्लोज्ड ई-वॉलेट)
  • Open E-Wallet (ओपन ई-वॉलेट)
  • Semi Closed E-Wallet (सेमी क्लोज्ड ई-वॉलेट)
  • Semi Open E-Wallet (सेमी ओपन ई-वॉलेट)

चलिए अब इन सभी के बारे में एक – एक जानते हैं.

#1 – Closed E-Wallet

Closed E-Wallet का इस्तेमाल सर्विस और वस्तुओं को खरीदने के लिए किया जाता है. अगर आप Closed E-Wallet में पैसे जमा करते हैं तो आप उन पैसों की निकासी नहीं कर सकते हैं, और ना ही आप इन पैसों को बैंक में ट्रान्सफर कर सकते हैं इसलिए इसे Closed E-Wallet कहते हैं.

अगर आप Closed E-Wallet में कोई प्रोडक्ट या सर्विस खरीदने के लिए पैसे add करते हैं और बाद में प्रोडक्ट को Cancel करवा देते हैं तो आपके पैसे Closed E-Wallet सर्विस प्रदाता की ऐप में आ जायेंगे. लेकिन आप इन पैसों को पुनः बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर नहीं कर सकते हैं बल्कि इसके स्थान पर कोई अन्य प्रोडक्ट का सर्विस खरीद सकते हैं.

Closed E-Wallet का इस्तेमाल आप एक ही वेबसाइट पर ऑनलाइन खरीददारी के लिए कर सकते हैं.

#2 – Open E-Wallet

Open E-Wallet एकदम विपरीत होते हैं Closed E-Wallet के. इस प्रकार के E –Wallet आपको पैसे Withdrawal करने की सुविधा प्रदान करवाते हैं और अधिकतर Open E-Wallet सर्विस प्रदाता आपको फंड ट्रान्सफर करने की अनुमति भी देती है.

Open E-Wallet आपके बैंक अकाउंट से लिंक रहते हैं, जब आप इन E-Wallet का इस्तेमाल करके ऑनलाइन खरीददारी करते हैं या फिर किसी व्यक्ति को पैसे भेजते हैं तो वह अमाउंट सीधे आपके बैंक अकाउंट से कटता है. आप चाहें तो Open E-Wallet में पैसे add भी कर सकते हैं.

#3 – Semi-Closed E-Wallet

Semi Closed E-Wallet भी लगभग Closed E-Wallet के समान ही होते हैं. अप इन्हें Closed E-Wallet का वर्शन 2.0 भी कर सकते हैं. Semi Closed E-Wallet का इस्तेमाल आप Closed E-Wallet की तरह ऑनलाइन खरीददारी के लिए कर सकते हैं. लेकिन इस प्रकार के E-Wallet से आप विभिन्न वेबसाइटों पर खरीददारी कर सकते हैं.

#4 – Semi-Open E-Wallet

Semi Open E-Wallet का इस्तेमाल आप ऑनलाइन और ऑफलाइन खरीददारी बिलों का भुगतान, फंड ट्रान्सफर तथा विभिन्न प्रकार के Transaction के लिए कर सकते हैं, लेकिन इस E-Wallet से आप पैसों को Withdrawal नहीं कर सकते हैं. हमारे दैनिक जीवन में उपयोग किये जाने वाले अधिकतर Semi Open E-Wallet ही हैं. जैसे Google Pay, Paytm, PhonePe.

ई वॉलेट के उपयोग (Use of E-Wallet in Hindi)

E-Wallet का उपयोग हम दिन भर में विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए करते रहते हैं. E-Wallet ने बैंकिंग सुविधा को बहुत ही आसान बना दिया है. E-Wallet के कुछ प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं.

  • E-Wallet से आप ऑनलाइन खरीददारी कर सकते हैं.
  • आप अपने मोबाइल फ़ोन रिचार्ज, DTH रिचार्ज भी E-Wallet से कर सकते हैं.
  • E-Wallet से आप विभिन्न प्रकार के बिलों का भुगतान कर सकते हैं जैसे बिजली, पानी, गैस इत्यादि का.
  • आप ऑनलाइन टिकट बुकिंग के लिए E-Wallet का इस्तेमाल कर सकते हैं. अधिकतर E-Wallet सर्विस प्रदाता रेलवे, फ्लाइट, बस, कैब बुकिंग आदि की सुविधा प्रदान करवाते हैं.
  • E-Wallet से आप किसी भी बैंक में पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • यदि आप बिज़नसमैन हैं तो E-Wallet का इस्तेमाल पैसे Receive करने के लिए कर सकते हैं.

ई वॉलेट के फायदे (Advantage of E-Wallet in Hindi)

ई वॉलेट के प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

  • आप ई वॉलेट का इस्तेमाल बिल्कुल फ्री में कर सकते हैं.
  • ई वॉलेट काफी सुविधाजनक होते हैं, पहले समय की तरह आपको हर काम के लिए बैंक जाने की जरुरत नहीं होती है.
  • ई वॉलेट से आप कुछ ही सेकंड में लेनदेन कर सकते हैं.
  • ई-वॉलेट का उपयोग आप विभिन्न प्रकार की सेवाओं के लिए कर सकते हैं जैसे रिचार्ज, बिलों का भुगतान, टिकट बुकिंग, फंड ट्रान्सफर आदि में.
  • ई-वॉलेट यूजर को High Security प्रदान करवाते हैं और यूजर को Fraud होने से बचाने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं.
  • ई-वॉलेट में नोटों के कटने – फटने और खोने का डर नहीं रहता है.
  • ई-वॉलेट में प्रत्येक Transaction का रिकॉर्ड सुरक्षित रहता है आप सब ट्रैक कर सकते हैं कि कब पैसे भेजे, कितने पैसे भेजे आदि.
  • आपको लेनदेन के लिए अपने क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या बैंक खाते की डिटेल किसी के साथ शेयर नहीं करनी पड़ेगी.
  • बिना बटुवे के शॉपिंग के लिए निकल सकते हैं.

ई वॉलेट के नुकसान (Disadvantage of E-Wallet in Hindi)

ई वॉलेट के कुछ नुकसान भी होते हैं जैसे कि –

  • अगर आपके ई-वॉलेट की जानकारी किसी अन्य व्यक्ति के हाथ लग गयी तो यह आपके लिए बहुत बड़ा ख़तरा होगा.
  • आप बड़ी मात्रा में पैसे ई-वॉलेट में नहीं रख सकते हैं. अलग – अलग ऐप में इसकी कुछ Limitation रहती है.

ई-वॉलेट का इस्तेमाल करने के लिए कुछ जरुरी बातें

अगर आप ई वॉलेट इस्तेमाल करने के विषय में विचार कर रहे हैं या फिर Already आप ई वॉलेट का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको कुछ जरुरी बातों का ध्यान रखना चाहिए जिससे कि आपके साथ Fraud ना हो सके और आप सुरक्षित प्रकार से ऑनलाइन Transaction कर सकें.

  • ई – वॉलेट का Login Detail (यूजरनाम और पासवर्ड) किसी अन्य व्यक्ति के साथ साझा ना करें.
  • अपने ई वॉलेट का Security Pin किसी व्यक्ति को ना बतायें.
  • आप अपने मोबाइल नंबर को बैंक अकाउंट से लिंक करवाके SMS alert की सुविधा को Enable करवा लीजिये ताकि हर एक Transaction की Detail आपको मैसेज से मिलती रहे.
  • ई वॉलेट से केवल सुरक्षित वेबसाइट या स्थानों में ही Transaction करें.
  • समय – समय पर अपने ई – वॉलेट अकाउंट का यूजरनाम और पासवर्ड भी Change करते रहिये.
  • आजकल सुरक्षा के नजरिये से ई – वॉलेट प्रदान करने वाली कंपनियां OTP (One Time Password) का इस्तेमाल करती हैं इसलिए आप OTP को किसी के साथ साझा ना करें.

ई-वॉलेट का इस्तेमाल कैसे करें

ई वॉलेट का उपयोग करने के लिए आपको निम्नलिखित बुनियादी चीजों की आवश्यकता होती है –

  • एक स्मार्टफ़ोन
  • इन्टरनेट कनेक्शन
  • ई वॉलेट ऐप
  • डिजिटल साक्षरता

अगर आपके पास स्मार्टफोन है आप उसमें इंटरनेट कनेक्शन वाला रिचार्ज करके ई वॉलेट ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं, जो कि आज के समय में बहुत सामान्य बात है. लेकिन ई वॉलेट का उपयोग करने के लिए आपको डिजिटल रूप से साक्षर भी होना चाहिए तभी आप डिजिटल वॉलेट का उपयोग सुरक्षित रूप से कर सकते हैं.

अगर आपको डिजिटल चीजों के बारे में अधिक इनफार्मेशन नहीं है तो डिजिटल वॉलेट का उपयोग करना आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकता है क्योंकि इन्टरनेट पर कुछ ऐसे लोग भी मौजूद हैं जो ऑनलाइन लोगों के बैंक अकाउंट खाली कर देते हैं. आये दिन ऐसे मामले सामने आते रहते हैं जिसमें लोगों के साथ धोखा – धडी हो जाती है.

इसलिए ऑनलाइन बैंकिंग या ई वॉलेट का उपयोग करने के लिए डिजिटल साक्षरता का होना भी आवश्यक है. अगर आपके पास उपरोक्त सभी चीजें हैं तो आप निम्नलिखित प्रकार से डिजिटल वॉलेट का उपयोग कर सकते हैं.

  • सबसे पहले Google Play Store या App स्टोर से किसी ई वॉलेट ऐप को डाउनलोड कर लीजिये.
  • इसके बाद ऐप में  अपने मोबाइल नंबर से रजिस्टर कर लीजिये.
  • अब आपको एक Security Pin बना लेना है, जिसे कि आप किसी अन्य व्यक्ति को ना बतायें. क्योंकि ई वॉलेट में Transaction को कम्पलीट करने के लिए इस पिन की आवश्यकता होती है.
  • Security Pin बना लेने के बाद आपको KYC की प्रक्रिया को कम्पलीट करना होता है.
  • इसके बाद ई वॉलेट में डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड या किसी अन्य माध्यम से पैसे add कर लीजिये.
  • बस आपका ई वॉलेट बनकर तैयार हो चुका है और आप इसमें add किये गए पैसों का इस्तेमाल कर सकते हैं.

E-Wallet सर्विस प्रदान करवाने वाली कुछ कंपनियां

भारत में अनेक सारी कंपनियां डिजिटल वॉलेट की सुविधा प्रदान करवाती हैं इनमें से कुछ प्रमुख कंपनियां निम्नलिखित हैं –

  • Airtel money
  • Jio money
  • Google pay
  • Paytm
  • Phonepe
  • Free recharge
  • MobiKwik
  • PayPal
  • Bhim upi
  • Amazon pay
  • \HDFC pay Zapp
  • ICICI pockets
  • SBI buddy
  • Ola money etc.

FAQ: E-Wallet In Hindi

ई वॉलेट का अर्थ क्या है?

ई वॉलेट ऐसे सॉफ्टवेयर को कहते हैं जिसके माध्यम से electronic transaction किया जाता है.

ई वॉलेट का दूसरा नाम क्या है?

ई वॉलेट को डिजिटल वॉलेट, वर्चुअल वॉलेट या मोबाइल वॉलेट के नामों से भी जाना जाता है.

ई वॉलेट का पूरा नाम क्या है?

ई वॉलेट का पूरा नाम इलेक्ट्रॉनिक वॉलेट होता है.

इन्हें भी पढ़े

निष्कर्ष: E-Wallet क्या है हिंदी में

आज के इस लेख में हमने आपको डिजिटल वॉलेट यानि E Wallet क्या है यह कैसे काम करता है, E Wallet के प्रकार, फायदे और नुकसानों के बारे में बताया है और साथ ही कुछ बेस्ट E Wallet सर्विस प्रदाता के नाम भी बताये हैं जहाँ से आप अपने E Wallet ओपन करवा सकते हैं.

हमें उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए फायदेमंद साबित हुआ होगा और इस लेख से आपको बहुत कुछ सीखने को मिला होगा. अंत में आपसे निवेदन करेंगे कि इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment