डीवीडी क्या है एवं DVD और CD में अंतर (DVD Full Form In Hindi)

DVD Kya Hai In Hindi: इंटरनेट का प्रचलन नहीं था तब भी डीवीडी के बारे में आप लोगों ने कभी न कभी जरुर सुना होगा, पर क्या आप जानते हैं डीवीडी क्या होता है. यदि नहीं तो इस लेख को पूरा अंत तक पढ़िए.

 आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको DVD के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं. इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि DVD क्या है, DVD कितने प्रकार की होती है, DVD की विशेषताएं, DVD के फायदे, DVD के नुकसान और DVD तथा CD में क्या अंतर है.

एक समय पर CD और DVD बहुत अधिक Popular थी, लगभग सभी घरों में DVD देखने को मिल जाती थी. लेकिन आज इनके इस्तेमाल में काफी गिरावट देखने को मिली है. एक CD की स्टोरेज क्षमता बहुत कम होती है लेकिन DVD की स्टोरेज क्षमता CD की तुलना में बहुत अधिक होती है.

बहुत सारे लोगों के मन में DVD को लेकर अनेक प्रकार के प्रशन हैं, जिनका जवाब हमने आपको इस लेख में देने की कोशिस की है. तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं DVD क्या होता है.

डीवीडी क्या है एवं DVD और CD में अंतर (DVD Full Form In Hindi)

DVD क्या है (What is DVD in Hindi)

DVD जिसका पूरा नाम Digital Video Disc या Digital Versatile Disc होता है, यह भी CD की तरह ही एक गोल Optical Storage Device होता है. जिसका इस्तेमाल High Quality Video को स्टोर करने के लिए किया जाता है.

DVD में डेटा को स्टोर करने के लिए लेयर का इस्तेमाल किया जाता है, एक DVD Disc में अधिकतम 17.08 GB तक डेटा स्टोर किया जा सकता है. CD की तुलना में DVD में अधिक डेटा स्टोर किया जाता है. विडियो के अलावा DVD का इस्तेमाल ऑडियो, कंप्यूटर फाइलों और सॉफ्टवेर को स्टोर करने के लिए भी किया जाता है.

सीधे शब्दों में कहें तो DVD एक optical storage डिवाइस होता है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में High Quality Video को स्टोर करने के लिए किया जाता है.

DVD का फुल फॉर्म

DVD का फुल फॉर्म Digital Video Disc या Digital Versatile Disc होता है.

DVD को किसने बनाया

DVD को 1995 में Panasonic, फिलिप्स और तोसिबा कंपनी ने मिलकर बनाया था.

DVD की स्टोरेज क्षमता (Storage Capacity of DVD in Hindi)

DVD में डेटा को स्टोर करने के लिए लेयर का इस्तेमाल किया जाता है. यह लेयर प्लास्टिक की बनी होती है जिसकी मोटाई 1.2 mm होती है. स्टोरेज क्षमता के आधार पर DVD मुख्य रूप से चार प्रकार की होती है –

  • Single Side Single Layer – इस प्रकार के DVD की Storage Capacity 4.7 GB तक होती है.
  • Single Side Double Layer – इस प्रकार के DVD की Storage Capacity 8.7 GB तक होती है.
  • Double Side Single Layer – इस प्रकार के DVD की Storage Capacity 9.5 GB तक होती है.
  • Double Side Double Layer – इस प्रकार के DVD की Storage Capacity 17.08 GB तक होती है.

DVD के प्रकार (Type of DVD in Hindi)

उपयोग के आधार पर DVD मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है –

  • DVD – ROM
  • DVD – R
  • DVD – RW

1. DVD – ROM (DVD Read only Memory)

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट होता है इस प्रकार की DVD में डेटा को केवल read किया जा सकता है. इसमें कोई नया डेटा आप स्टोर नहीं कर सकते हैं. जो डेटा पहले से स्टोर रहता है उसे केवल read किया जा सकता है.

2. DVD – R (DVD Recordable)

इस प्रकार की DVD का उपयोग डेटा को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता है. इसमें आप किसी भी प्रकार के डेटा को स्टोर कर सकते है और फिर उसे read किया जा सकता है.

3. DVD – RW (ReWritable)

DVD – RW का इस्तेमाल डेटा को read और write करने के लिए किया जाता है. इसमें आप कई बार डेटा को write कर सकते हैं और उसे read कर सकते हैं.

DVD की विशेषताएं (Feature of DVD in Hindi)

DVD की प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं –

  • DVD की स्टोरेज क्षमता 4.7 GB से लेकर 17.08 GB तक होती है.
  • DVD अधिकतम 133 मिनट तक High Quality विडियो चला सकता है.
  • DVD में दोहरी परतें होती हैं, DVD की परत के अनुसार ही इसकी स्टोरेज क्षमता होती है.
  • DVD में MPEG 2 कम्प्रेशन का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण इसकी विडियो Quality बेहतर होती है.
  • DVD का Resolution बहुत अधिक होता है. लगभग 2 मिलियन pixel.
  • DVD 8 भाषाओं में Sound track कर सकता है.

DVD के फायदे (Advantage of DVD in Hindi)

DVD के अनेक सारे फायदे होते हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख फायदों के बारे में हमने आपको नीचे बताया है –

  • DVD में डेटा स्टोर करने की क्षमता CD की तुलना में बहुत अधिक होती है.
  • DVD में डेटा को स्टोर करना बहुत आसान है.
  • DVD में High Quality Video को स्टोर किया जा सकता है.
  • DVD एक पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस है, जिसे आप कहीं भी ले जाकर इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • DVD कीमत में भी सस्ती होती है.

DVD के नुकसान (Disadvantage of DVD in Hindi)

DVD के कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –

  • अगर डीवीडी को संभाल कर नहीं रखा जाये तो इसमें स्क्रैच लगने की संभावना होती है. अगर DVD में स्क्रैच लग जाए तो इसमें स्टोर डेटा Damage हो सकता है.
  • DVD में डेटा को स्टोर करने के लिए Burning Software की आवश्यकता होती है.
  • कुछ DVD ऐसी भी होती हैं जिनमें स्टोर डेटा को हटाया नहीं जा सकता हैं. केवल Rewritable DVD में स्टोर डेटा को read और write किया जा सकता है.

DVD Player क्या होता है

DVD प्लेयर एक ऐसा उपकरण होता है जिसकी मदद से DVD Disc को read किया जाता है. DVD Player में आप DVD को लगा सकते हैं और उसमें स्टोर डेटा को read कर सकते हैं.

DVD Writer क्या होता है 

एक खाली DVD Disc में में डेटा को स्टोर करने के लिए DVD Writer का इस्तेमाल किया जाता है. इन्हें Burner भी कहा जाता है क्योंकि DVD Disc में डेटा को Burn करने के लिए भी DVD Writer का इस्तेमाल किया जाता है.

DVD और CD में अंतर

DVD और CD दोनों ही गोल आकार वाली Optical Storage Device हैं, लेकिन यह दोनों अपने कई गुणों के आधार पर एक दुसरे से भिन्न हैं. DVD और CD के बीच के अंतर को हमने नीचे सारणी के द्वारा आपको बताया है –

डीवीडी (DVD)सीडी (CD)
DVD का पूरा नाम Digital Versatile Disc होता है.CD का पूरा नाम Compact Disc है.
DVD को Video file स्टोर करने के लिए बनाया गया है.CD को audio file स्टोर करने के लिए बनाया गया है.
DVD की अधिकतम स्टोरेज क्षमता 17.08 GB होती है.CD की स्टोरेज क्षमता 700 MB होती है.
DVD की उच्च Quality होती हैं.DVD की तुलना में CD की Quality बहुत कम होती है.
DVD में दोहरी परतें होती हैं.CD में केवल Single परत होती है.
DVD में डेटा ट्रान्सफर की दर 11 MBps होती है.CD में डेटा ट्रान्सफर की दर 1.5 MBps होती है.
DVD को Toshiba, Panasonic और Philips ने Develop किया.CD को Sony और Philips ने Develop किया है.
DVD में डेटा को read करने के लिए DVD Player का इस्तेमाल किया जाता है.CD में डेटा स्टोर करने के लिए CD Player का इस्तेमाल किया जाता है.
(Difference between DVD and CD In Hindi)

DVD से सम्बंधित सामान्य प्रश्न  

DVD किस प्रकार का डिवाइस है?

DVD ऑप्टिकल स्टोरेज डिवाइस है.

DVD का फुल फॉर्म क्या है?

DVD का फुल फॉर्म Digital Versatile Disc है.

DVD का उपयोग क्यों किया जाता है?

DVD का इस्तेमाल कंप्यूटर में High Quality Video को स्टोर करने के लिए किया जाता है.

DVD का आविष्कार किसने किया?

DVD को 1995 में Toshiba, Panasonic और Philips जैसी Tech कंपनियों ने मिलकर बनाया था.

DVD की स्टोरेज क्षमता कितनी होती है?

DVD की स्टोरेज क्षमता इसके लेयर पर निर्भर करती है. एक Double Side Double Layer DVD की स्टोरेज क्षमता 17.8 GB तक होती है जो कि DVD की अधिकतम स्टोरेज क्षमता है.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: डीवीडी क्या है हिंदी में 

इस लेख के द्वारा हमने कोशिस की है कि आपको DVD Kya Hai In Hindi के बारे में पूरी प्रदान कर सकें. हमने आपको DVD की विशेषताएं, फायदे, नुकसान, DVD के प्रकार और DVD तथा CD के बीच के अंतर अच्छी प्रकार से समझाया है. आशा करते हैं कि आपको यह लेख पसंद आया होगा , इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.अगर अभी भी आपके मन में DVD से जुड़े कुछ प्रशन हैं तो कमेंट Box में पूछ सकते हैं हम जल्द ही आपका जबाब देने की कोशिस करेंगे.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment