एन्क्रिप्शन क्या है प्रकार और उदाहरण (Encryption in Hindi)

Encryption Meaning in Hindi: आज के समय में लोग अधिकतर काम ऑनलाइन कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से ही करते हैं और और बड़ी मात्रा में डेटा का आदान प्रदान करते हैं. डेटा किसी भी बिज़नस या व्यक्ति के लिए बहुत कीमती होता है इसलिए हैकर डेटा पर अपनी नज़र बनायें रखते हैं और डेटा को हैक करके लोगों के साथ फ्रॉड, स्कैम करते हैं. हैकर कई गलत तरीकों से डेटा का इस्तेमाल करते हैं जिसका भारी नुकसान कंपनियों और लोगों को उठाना पड़ता है.

हैकर की नज़रों से डेटा को सुरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है Encryption का. तकनीकी के इस युग में एन्क्रिप्शन के विषय में सभी को जानकारी होना आवश्यक है. इसलिए हमने आपकी जानकारी को बढाने के लिए आज का यह लेख लिखा है.

इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि Encryption क्या होता है, एन्क्रिप्शन क्यों जरुरी है, एन्क्रिप्शन के प्रकार, एन्क्रिप्शन के फायदे और नुकसान क्या हैं, तथा एन्क्रिप्शन के कुछ उदाहरण. Encryption के विषय में यह सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें.

तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं Encryption का मतलब क्या है हिंदी में विस्तार से.

एन्क्रिप्शन क्या है इसके प्रकार और उदाहरण (Encryption meaning in Hindi)

एन्क्रिप्शन का हिंदी मतलब (Encryption Meaning in Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

सबसे पहले जान लेते हैं Encryption का हिंदी में क्या मतलब होता है. Encryption का हिंदी मतलब कूटलेखन होता है. यह एक ऐसी प्रणाली है जिसके द्वारा डेटा के Plan Text को गुप्त जटिल कोड में परिवर्तित कर दिया जाता है जिससे कोई आम इंसान (Unauthorized Person) डेटा को एक्सेस नहीं कर पाता है.

एन्क्रिप्शन क्या है (What is Encryption in Hindi)

एन्क्रिप्शन एक उच्च स्तर की सिक्योरिटी सिस्टम है जिसमें डेटा या इनफार्मेशन को एक कोड के रूप में बदल कर सुरक्षित कर दिया जाता है. डेटा जो कि Plain Text में लिखा जाता है उसे Encryption कर गुप्त कोड के द्वारा Ciphertext में बदला जाता है, इससे डेटा की सुरक्षा बढती है. एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल व्हाट्सएप्प, टेलीग्राम और अन्य चैटिंग एप्प में भी किया जाता है.

Encrypt किये गए डेटा को decrypt करने के लिए एक यूनिक Key की जरुरत होती है, केवल सही Key के द्वारा ही एन्क्रिप्टेड डेटा को डिक्रिप्ट किया जा सकता है. इस Key को Decryption Key कहते हैं. Encryption किये जाने से पहले डेटा या इनफार्मेशन को Plain Text कहते हैं और Encryption के बाद इनफार्मेशन या डेटा फाइल को Ciphertext कहते हैं.

डेटा को एन्क्रिप्शन तथा डिक्रिप्शन करने की प्रोसेस को क्रिप्टोग्राफी कहते हैं. किन्हीं भी दो व्यक्तियों के बीच डेटा का सुरक्षित आदान प्रदान करने के लिए क्रिप्टोग्राफी तकनीकी का इस्तेमाल किया जाता है.

एन्क्रिप्शन प्रणाली का चित्र

एन्क्रिप्शन की शब्दावली (Encryption Glossary In Hindi)

कुछ ऐसे शब्द हैं जिनका इस्तेमाल एन्क्रिप्शन में व्यापक रूप से किया जाता है, इन शब्दों के बारे में जानना भी आपके लिए महत्वपूर्ण है.

  • Encrypt – वह डेटा जिसे कोड में बदल दिया गया है, और इसे पढ़ा या समझा नहीं जा सकता है उसे Encrypt कहते हैं.
  • Plain Text –  किसी भी डेटा या इनफार्मेशन को कोड में बदलने से पहले या Encrypt करने से पहले Plain Text कहते हैं.
  • Cipher Text –  जब Plain Text को कोड में बदल दिया जाता है तो इस कोड को Cipher Text कहते हैं.
  • Decrypt – कोड में बदल दिए गए डेटा को फिर से Plain Text में बदलने की प्रोसेस को Decrypt कहते हैं.
  • Decryption Key – एक ऐसी यूनिक Key जिसके द्वारा Encrypt डेटा को Decrypt किया जाता है उसे Decryption Key कहते हैं.
  • Cryptography – डेटा को Encryption और Decryption करने की प्रोसेस को क्रिप्टोग्राफी कहते हैं.

एन्क्रिप्शन के प्रकार (Types of Encryption in Hindi)

एन्क्रिप्शन मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं –

  • Symmetric Encryption (सममित एन्क्रिप्शन)
  • Asymmetric Encryption (असममित एन्क्रिप्शन)

चलिए अब इनके बारे में भी एक – एक कर समझ लेते हैं.

1 – Symmetric Encryption (सममित एन्क्रिप्शन)

Symmetric Encryption में डेटा को एन्क्रिप्ट और डिक्रिप्ट करने के लिए एक ही Key का इस्तेमाल किया जाता है. एक ही Key होने के कारण डेटा को एन्क्रिप्ट करने वाले यूजर को Decryption Key हर व्यक्ति के साथ शेयर करनी पड़ती है जिसे वह डेटा भेजता है. ताकि डेटा को प्राप्त करने वाला व्यक्ति Decryption Key का इस्तेमाल करके डेटा को डिक्रिप्ट कर सकता है और उसे पढ़ सकता है.

2 – Asymmetric Encryption (असममित एन्क्रिप्शन)

Asymmetric Encryption में डेटा को एन्क्रिप्ट और डिक्रिप्ट करने के लिए अलग – अलग Decryption Key का इस्तेमाल किया जाता है. इसमें डेटा को एन्क्रिप्शन करने वाले यूजर के पास दो Key होती हैं एक Private और दूसरा Public. ये दोनों Key एक दुसरे से जुडी रहती हैं. Public Key को Sender हर उस यूजर के साथ शेयर करता है जिसे वह डेटा भेजना चाहता है और प्राइवेट Key को गुप्त रखा जाता है.

एन्क्रिप्शन की आवश्यकता (Importance of Encryption in Hindi)

एन्क्रिप्शन वर्तमान समय में बहुत महत्वपूर्ण हैं, नीचे हमने कुछ बिन्दुओं पर चर्चा करके एन्क्रिप्शन की आवश्यकता को आपको समझाने की कोशिस की है.

1 – डेटा की सुरक्षा (Data Security)

इंटरनेट में डेटा की सुरक्षा को लेकर सभी चिंतित रहते हैं, क्योंकि ऐसे अनेक सारे मामले हम लोगों के सामने आ चुके हैं जहाँ लोगों के साथ ऑनलाइन फ्रॉड, स्कैम हो जाता है. लेकिन यदि आपने एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल किया है तो अगर हैकर आपका डेटा किसी कारणवश प्राप्त भी कर लेते हैं तो वह इसे एक्सेस नहीं कर पायेगा. क्योंकि एन्क्रिप्टेड डेटा को केवल वही यूजर एक्सेस कर पाते हैं जिसके पास Decryption Key मौजूद होती है.

2 – डेटा की गोपनीयता (Data Privacy)

डेटा की सुरक्षा के साथ एन्क्रिप्शन के द्वारा डेटा की गोपनीयता भी बनी रहती है, क्योंकि डेटा को वही यूजर Read कर सकता है जिसके पास Decryption Key रहती है.

3 – डेटा की प्रामाणिकता (Data integrity)

जब यूजर इंटरनेट के द्वारा डेटा भेजता है तो एन्क्रिप्शन यह सुनिश्चित करता है कि प्राप्तकर्ता को वही डेटा मिला है जो Sender ने भेजा था, मतलब कि प्राप्तकर्ता को मिलने वाले डेटा किसी प्रकार से बदला नहीं गया है और प्राप्तकर्ता को Original डेटा ही मिला हो.

एन्क्रिप्शन के उदाहरण (Example of Encryption in Hindi)

एन्क्रिप्शन के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं –

1 – End to End Encryption (एंड टू एंड एन्क्रिप्शन)

End to End Encryption का इस्तेमाल मैसेज को एन्क्रिप्ट करने के लिए किया जाता है. इससे Sender और Receiver का अलावा कोई मैसेज नहीं पढ़ सकता है चाहे मैसेज को भेजने वाली कंपनी हो या सरकार. Whatsapp में End to End Encryption का इस्तेमाल किया जाता है.

2 – Network Level Encryption (नेटवर्क स्तर एन्क्रिप्शन)

Network Level Encryption में डेटा को इस प्रकार से एन्क्रिप्ट किया जाता है कि उसे एक Network के लोग ही डिक्रिप्ट कर सकते हैं.

एन्क्रिप्शन का उपयोग (Uses of Encryption in Hindi)

एन्क्रिप्शन का उपयोग अनेक कार्यों में होता है, इंटरनेट में लगभग सभी कामों को करने के लिए एन्क्रिप्शन का उपयोग होता है. एन्क्रिप्शन के कुछ प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं –

  • नेटवर्क में एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल किया जाता है.
  • सुरक्षित तरीके से ईमेल भेजने और प्राप्त करने के लिए एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल किया जाता है.
  • चैटिंग एप्लीकेशन में एन्क्रिप्शन बहुत महत्वपूर्ण है.
  • स्टोरेज डिवाइस व क्लाउड डेटा को सुरक्षित बनाने के लिए एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल होता है.
  • ऑनलाइन पेमेंट में यूजर की Bank Detail को सुरक्षित बनाने के लिए एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल किया जाता है.
  • ATM में सुरक्षित लेन – देन के लिए एन्क्रिप्शन बहुत महत्वपूर्ण है.
  • सरकारी एजेंसी, वेबसाइटों, एप्लीकेशन सभी में एन्क्रिप्शन का उपयोग किया जाता है.

एन्क्रिप्शन के फायदे (Advantage of Encryption in Hindi)

इंटरनेट की दुनिया में एन्क्रिप्शन के अनेक सारे फायदे होते हैं, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं –

  • एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल करके डेटा को पूरी तरह सुरक्षित किया जाता है.
  • डेटा का आदान – प्रदान करते समय डेटा को हैकर से सुरक्षित रखने के लिए  Encryption बहुत महत्वपूर्ण होता है.
  • आप सभी इंटरनेट डिवाइस में डेटा को एन्क्रिप्ट कर सकते हैं.
  • एन्क्रिप्शन यह सुनिश्चित करता है कि इंटरनेट के द्वारा भेजा गया डेटा Original है, अर्थात डेटा को किसी प्रकार से बदला नहीं गया है.
  • एन्क्रिप्शन के द्वारा यह पता किया जा सकता है कि डेटा प्राप्तकर्ता के पास पहुंचा है या नहीं.
  • एन्क्रिप्शन unauthorized access को रोकने का कार्य भी करती है.

एन्क्रिप्शन के नुकसान (Disadvantage of Encryption in Hindi)

एन्क्रिप्शन के नुकसान निम्नलिखित हैं –

  • बिना decryption key के एन्क्रिप्टेड डेटा को नहीं पढ़ा जा सकता है, इसलिए decryption key को सुरक्षित रखना बहुत आवश्यक है.
  • Encryption का इस्तेमाल कई लोग गलत कार्यों के लिए भी कर सकते हैं, जैसे किसी ख़ुफ़िया इनफार्मेशन को पहुंचाने में.

FAQ: Encryption Meaning in Hindi

एन्क्रिप्शन क्या होता है?

एन्क्रिप्शन एक सुरक्षा प्रणाली है जिसके द्वारा डेटा या इनफार्मेशन को एक कोड के रूप में बदल कर डेटा को सुरक्षित कर लिया जाता है, और केवल वही यूजर डेटा को एक्सेस कर पाता है जिसके पास decryption Key रहती है.

Encryption का हिंदी मतलब क्या होता है?

Encryption का हिंदी मतलब कूटलेखन होता है.

एन्क्रिप्शन कितने प्रकार के होते हैं?

एन्क्रिप्शन मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं – Symmetric Encryption और Asymmetric Encryption.

Decryption Key क्या होता है?

Decryption Key एक ऐसी Key होती है जिसके द्वारा Encrypted डेटा को पढ़ा और समझा जा सकता है.

End to End Encryption क्या है?

End to End Encryption एक ऐसी तकनीकी है जिसके द्वारा मैसेज को एन्क्रिप्ट किया जाता है, इस तकनीकी के द्वारा एन्क्रिप्ट किये गए मैसेज को केवल मैसेज भेजने वाला और मैसेज प्राप्त करने वाला व्यक्ति ही पढ़ सकता है.

इन्हें भी पढ़े

निष्कर्ष: Encryption क्या है हिंदी में

आज के इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि Encryption Kya Hai In Hindi, एन्क्रिप्शन का हिंदी मतलब क्या है, एन्क्रिप्शन क्यों आवश्यक है, एन्क्रिप्शन के उपयोग, उदाहरण, प्रकार, फायदे, नुकसान आदि. लेख का निष्कर्ष निकालें तो एन्क्रिप्शन एक ऐसी प्रोसेस है जिसमें डेटा को सुरक्षित करने के लिए कोड के रूप में बदल दिया जाता है जिसे केवल वही यूजर पढ़ सकता है जिसके पास Decryption Key उपलब्ध है.

टेक्नोलॉजी और इंटरनेट के इस युग में Encryption बहुत महत्वपूर्ण है जो डेटा को हैकर से बचाता है तथा सुरक्षित रूप से प्राप्तकर्ता के पास पहुंचाने में मदद करता है.

तो यह थी एन्क्रिप्शन के बारे में पूरी जानकारी, उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और टेक्नोलॉजी के बारे में उपयोगी जानकारी पढने के लिए हमारे ब्लॉग पर आते रहिये.

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment