Ethernet क्या है इसके प्रकार और काम कैसे करता है (Ethernet In Hindi)

Ethernet Kya Hai In Hindi: नेटवर्क में सभी डिवाइस को एक प्रोटोकॉल के द्वारा आपस में जोड़ा है जिससे कि नेटवर्क में जुड़े सभी डिवाइस आपस में Communicate कर सकते हैं और डेटा का आदान – प्रदान करते हैं. अलग – अलग नेटवर्क को बनाने के लिए अलग – अलग प्रोटोकॉल का इस्तेमाल किया जाता है.

आज के इस लेख में हम बात करने वाले हैं LAN नेटवर्क को बनाने के लिए जिस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है, वह तकनीकी है ईथरनेट. ईथरनेट प्रोटोकॉल के द्वारा ही LAN में कंप्यूटर और नेटवर्क डिवाइस को आपस में जोड़ा जाता है जिससे कि वह आसानी से डेटा को शेयर कर सकें.

इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि Ethernet क्या है, ईथरनेट कैसे काम करता है, ईथरनेट के प्रकार, ईथरनेट के घटक, ईथरनेट केबल के प्रकार, ईथरनेट के फायद नुकसान तथा इंटरनेट और ईथरनेट में अंतर क्या है. अगर आप ईथरनेट से जुडी उपरोक्त सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें.

तो चलिए बिना समय गंवाएं शुरू करते हैं इस लेख को और शुरुवात से जानते हैं ईथरनेट क्या होता है.

Ethernet क्या है इसके प्रकार और काम कैसे करता है (Internet Vs Ethernet In Hindi)

ईथरनेट क्या है (What is Ethernet in Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

Ethernet नेटवर्क में एक कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल होता है जिसके द्वारा किसी नेटवर्क में कंप्यूटर और अन्य नेटवर्क डिवाइस को आपस में कनेक्ट किया जाता है जिससे कि डाटा का आदान – प्रदान हो सके.

ईथरनेट तकनीकी का इस्तेमाल अधिकतर Local Area Network (LAN) में किया जाता है. ऑफिस, स्कूल, कॉलेज आदि स्थानों पर नेटवर्क बनाने के लिए ईथरनेट तकनीकी का इस्तेमाल किया जाता है.

जब भी कोई नेटवर्क स्थापित किया जाता है तो उसको काम करने के लिए प्रोटोकॉल की जरुरत होती है. प्रोटोकॉल नेटवर्क के लिए बनाये गए नियम होते हैं जिसके दिशानिर्देशानुसार नेटवर्क में डिवाइस आपस में कनेक्ट होकर इनफार्मेशन शेयर करते हैं. ईथरनेट भी नेटवर्क प्रोटोकॉल का ही एक प्रकार है. जिसका उपयोग मुख्यतः LAN नेटवर्क बनाने में किया जाता है.

ईथरनेट तकनीकी में केबल की सहायता से कंप्यूटर और अन्य नेटवर्क डिवाइस को आपस में कनेक्ट किया जाता है, इसमें इस्तेमाल होने वाली केबल को ईथरनेट केबल कहते हैं. ये केबल Coaxial Cables, Twisted Pair और Fiber Cables होती हैं. ईथरनेट के अलावा LAN को कई अनेक प्रकार से बना सकते हैं जिसे Topology कहा जाता है. जैसे Bus, star, ring आदि.

ईथरनेट OSI Network Model के डेटा लिंक लेयर और फिजिकल लेयर दोनों पर काम करता है. तकनीकी रूप से हम ईथरनेट को निम्न प्रकार से परिभाषित कर सकते है.

ईथरनेट की परिभाषा (Definition of Ethernet in Hindi)

ईथरनेट TCP/IP के डेटा लिंक लेयर का एक प्रोटोकॉल है जिसकी मदद से नेटवर्क में कंप्यूटर तथा अन्य डिवाइस को आपस में जोड़ा जाता है जिससे कि सूचनाओं का आदान – प्रदान हो सके.

ईथरनेट का इतिहास (History of Ethernet in Hindi)

ईथरनेट को सन 1970 में Xerox PARC नामक कम्पनी में बनाया. ईथरनेट को Robert Metcalfe ने कुछ लोगों के साथ मिलकर बनाया था. शुरुवात में ईथरनेट को Alto Aloha Network कहा जाता है.

जब ईथरनेट नया – नया बना था तो इसकी स्पीड अधिकतम 10 MB प्रति सेकंड की थी. टेक्नोलॉजी के बढ़ने के साथ ईथरनेट की स्पीड भी बढती गयी और यह 100 MBps की स्पीड से काम करने लगा, इसे Fast Ethernet कहा जाता गया. टेक्नोलॉजी में विकास के साथ ईथरनेट की स्पीड 1000 MBps की हो गयी जिसे Gigabit Ethernet कहा गया.

आज के दौर में 10 GB तक ईथरनेट की स्पीड होती है. ईथरनेट दुनिया का सबसे fast और भरोसेमंद नेटवर्क टेक्नोलॉजी है जिसका इस्तेमाल दुनिया के कोने – कोने में किया जाता है. 

ईथरनेट कैसे काम करता है

ईथरनेट का इस्तेमाल LAN Setup के लिए किया जाता है, क्योंकि ईथरनेट बहुत कम एरिया को कवर करता है. चूँकि ईथरनेट में ईथरनेट केबल का इस्तेमाल होता है इसलिए केबल की लम्बाई को बढाकर नेटवर्क की रेंज को बढाया भी जा सकता है.

ईथरनेट नेटवर्क में जब एक कंप्यूटर को डेटा पैकेट भेजना चाहता है तो पहले वह केबल को Sense करता है कि केबल में कोई डेटा पहले से मौजूद है कि नहीं. अगर केबल में कोई डेटा पैकेट मौजूद नहीं होता है तो ईथरनेट डेटा पैकेट को Main Cable में भेजता है. Main Cable से सारे कंप्यूटर नेटवर्क से जुड़े रहते हैं.

डेटा पैकेट भेजने से बाद ईथरनेट नेटवर्क से जुड़े सभी डिवाइस पैकेट के Destination address को Check करते हैं. और जिस डिवाइस के साथ वह address match करता है उसे डेटा पैकेट प्राप्त हो जाता है.

ईथरनेट के लिए आवश्यक कॉम्पोनेन्ट

ईथरनेट की मदद से नेटवर्क बनाने के लिए निम्न Component की आवश्यकता होती है.

  • Ethernet Cable
  • Ethernet Hub
  • Crossover Cable
  • Router

#1 – ईथरनेट केबल (Ethernet Cable)

ईथरनेट तकनीकी में कंप्यूटर या डिवाइस को जोड़ने के लिए ईथरनेट केबल की जरुरत होती है. ईथरनेट केबल के द्वारा ही दो या दो से अधिक नेटवर्क डिवाइस को आपस में जोड़ा जाता है जिससे कि डेटा का आदान – प्रदान हो सके. LAN नेटवर्क में मुख्य रूप से तीन प्रकार के केबल का इस्तेमाल होता है Coaxial Cables, Twisted Pair और Fiber Cables.

#2 – ईथरनेट हब (Ethernet Hub)

Hub एक नेटवर्किंग डिवाइस होता है जिसके द्वारा नेटवर्क में कंप्यूटर के केबल को आपस में जोड़ सकते हैं, हब नेटवर्क में कंप्यूटर को आपस में जोड़ने का कार्य करता है. हब में अनेक सारे ईथरनेट पोर्ट होते हैं जिनमें ईथरनेट केबल को जोड़ा जाता है.

#3 – राऊटर (Router)

राऊटर एक नेटवर्किंग डिवाइस होता है जिसकी मदद से नेटवर्क के बीच डेटा पैकेट को ट्रान्सफर किया जाता है. राऊटर के द्वारा कंप्यूटर का डेटा दुसरे नेटवर्क में पहुँचता है. राऊटर डेटा ट्रान्सफर के लिए route यानि रास्ता निर्धारित करती है.

ईथरनेट के प्रकार (Type of Ethernet in Hindi)

अपनी स्पीड, गुणवत्ता के आधार पर ईथरनेट कई प्रकार के होते हैं. कुछ प्रमुख प्रकार के ईथरनेट के बारे में हमने आपको नीचे बताया है –

#1 – Fast Ethernet (तेज ईथरनेट)

शुरुवात में जब ईथरनेट बना थे तो इसकी स्पीड अधिक नहीं थी. यह अधिकतम 10 MBps की स्पीड से ही काम कर सकता था. लेकिन धीरे – धीरे ईथरनेट में विकास हुआ और ईथरनेट की स्पीड 100 MBps तक हो गयी. इसे Fast Ethernet नाम दिया गया. Fast Ethernet को Ethernet Standard IEEE 802.3u भी कहा जाता है.

विडियो, मल्टीमीडिया, ग्राफ़िक्स, इंटरनेट के लिए यह ईथरनेट बहुत अच्छा था, लेकिन विडियो एप्लीकेशन के लिए यह ईथरनेट उचित नहीं था. क्योंकि विडियो एप्लीकेशन के लिए यह ईथरनेट जरुरी Bandwidth प्रदान करवाने में असमर्थ था. 

#2 – Gigabit Ethernet (गीगाबिट ईथरनेट)

मल्टीमीडिया पर Voice Over IP इस्तेमाल करने के लिए तेज नेटवर्क की जरुरत पड़ी, इसके लिए गीगाबिट ईथरनेट बनाया गया. इसकी स्पीड 1000 MBps की थी. Gigabit Ethernet को Ethernet Standard IEEE 802.3z से भी निरुपित किया जाता है. वर्तमान समय में इस ईथरनेट का इस्तेमाल व्यापक रूप से होता है. इस प्रकार के ईथरनेट में Twisted Pair और Fiber Cables का इस्तेमाल किया जाता है कंप्यूटर को आपस में कनेक्ट करने के लिए.

#3 – 10 Gigabit Ethernet (10 गीगाबिट ईथरनेट)

यह सबसे आधुनिक और सबसे तेज ईथरनेट है जिसकी स्पीड 10 GBps की है. मतलब कि इस ईथरनेट के इस्तेमाल से 10 GB प्रति सेकंड की स्पीड से डेटा को ट्रान्सफर किया जाता है. ईथरनेट का यह वर्जन Standard IEEE 802.3ae वर्जन कहलाता है. इस ईथरनेट में ऑप्टिकल फाइबर केबल का इस्तेमाल किया जाता है.

ईथरनेट के फायदे (Advantage of Ethernet in Hindi)

ईथरनेट के अनेक सारे फायदे हैं जैसे कि –

  • ईथरनेट की स्पीड बहुत High होती है, 10 GBps.
  • ईथरनेट को स्विच या हब की आवश्यकता नहीं होती है.
  • ईथरनेट बहुत भरोसेमंद तकनीकी है.
  • ईथरनेट को maintain करना बहुत ही आसान है.
  • छोटे नेटवर्क जैसे LAN को बनाने के लिए ईथरनेट एक बेहतरीन तकनीकी है.
  • ईथरनेट में सिक्योरिटी बहुत High Level की होती है.
  • ईथरनेट की कीमत भी सस्ती होती है.

ईथरनेट के नुकसान (Disadvantage of Ethernet in Hindi)

ईथरनेट के कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –

  • बड़े नेटवर्क बनाने के लिए ईथरनेट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.
  • ईथरनेट की mobility सीमित होती है.
  • यह एक nondeterministic सर्विस प्रदान करता है.
  • ईथरनेट connection-less संचार प्रदान करता है.

इंटरनेट और ईथरनेट में अंतर (Difference between Internet and Ethernet In Hindi)

इंटरनेट और ईथरनेट में काफी समानता हैं लेकिन इनमें अंतर बहुत बड़ा है. इंटरनेट एक Wide Area Network है जो कि दुनियाभर के कंप्यूटर, सर्वर, को आपस में जोड़ता है, इंटरनेट का इस्तेमाल पूरी दुनिया के कंप्यूटर कर सकते हैं.

जबकि ईथरनेट एक नेटवर्किंग तकनीकी है जिसके इस्तेमाल से Local Area Network में कंप्यूटर और अन्य नेटवर्किंग डिवाइस को आपस में कनेक्ट किया जाता है. ईथरनेट का इस्तेमाल सीमित क्षेत्र में ही किया जा सकता है जैसे कि घर, ऑफिस, स्कूल आदि स्थानों में.

ईथरनेट केबल क्या है (What is Ethernet Cable in Hindi)

LAN नेटवर्क को ईथरनेट के द्वारा कनेक्ट करने के लिए केबल की जरुरत होती है. इन्हीं केबल को ईथरनेट केबल कहते हैं. ईथरनेट केबल मुख्य रूप से 3 प्रकार की होती है.

#1 – समाक्षीय तार (Coaxial Cable)

Coaxial Cable में Single wire होता है जो कि Insulator, Metal की Shield और प्लास्टिक के खोल से कवर रहता है. Insulator सिग्नल को कण्ट्रोल करता है. Metal की Shield Electromagnetic Interference से बचाती है. और प्लास्टिक बाहरी चीजों जैसे आग – पानी से केबल को सुरक्षित रखता है.

Coaxial Cable के मुख्य रूप से दो वर्जन होते हैं Thick Net और Than Net.

#2 – व्यावर्तित युग्म केबल (Twisted Pair Cable)

Twisted Pair Cable में दो या चार कॉपर वायर के जोड़े प्लास्टिक की खोल से कवर रहते हैं जिससे कि एक वायर का सिग्नल दुसरे वायर के सिग्नल को ख़राब न कर सके. इस प्रकार की केबल को ईथरनेट टेक्नोलॉजी में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है.

Twisted Pair Cable के भी दो version Shielded और Un Shielded हैं.

#3 – फाइबर ऑप्टिक केबल (Fiber Optic Cable)

Coaxial और Twisted Pair Cable में डेटा Electromagnetic Interference की मदद से जाता है लेकिन Fiber Optic Cable डेटा को ले जाने के लिए लाइट का इस्तेमाल करती है. Fiber Optic Cable पतले धागे के समान केबल होती है जो कि प्लास्टिक या ग्लास की बनी रहती है. इस केबल की bandwidth अन्य केबल की तुलना में अधिक होती है और सिग्नल ख़राब होने की संभावना भी बहुत कम होती है.

ईथरनेट से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

ईथरनेट क्या है?

ईथरनेट एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जिसकी मदद से LAN में कंप्यूटर और अन्य नेटवर्किंग डिवाइस को आपस में जोड़ा जाता है जिससे कि वह डेटा का आदान – प्रदान कर सकें.

ईथरनेट का आविष्कार किसने किया?

ईथरनेट को सन 1973 में Xerox PARC नामक कम्पनी में बनाया था.

ईथरनेट का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है?

ईथरनेट तकनीकी का इस्तेमाल LAN में कंप्यूटर को कनेक्ट करने और डेटा का आदान – प्रदान करने के लिए किया जाता है.

ईथरनेट किस टोपोलॉजी पर आधारित होता है?

ईथरनेट Bus, Star, Ring, Tree, Mesh आदि टोपोलॉजी को सपोर्ट करता है.

ईथरनेट केबल कितने प्रकार की होती है?

ईथरनेट केबल मुखु रूप से तीन प्रकार की होती है Coaxial Cables, Twisted Pair और Fiber Cables.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: ईथरनेट क्या है हिंदी में

इस लेख को पढने के बाद आप लोग समझ गए होंगे कि Ethernet Kya Hai In Hindi और इसका उपयोग कहाँ किया जाता है. साथ में ही इस लेख में आपको ईथरनेट केबल, ईथरनेट के प्रकार, इंटरनेट और ईथरनेट के बीच अंतर जैसी बहुमूल्य जानकारी भी हमने प्रदान की है.

उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, अंत में आपसे निवेदन है कि इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें और लोगों तक सटीक जानकारी पहुँचाने में हमारी मदद करें.

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment