गोल्ड फिश का वैज्ञानिक नाम क्या है | Goldfish Ka Scientific Naam In Hindi

Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai In Hindi: आपने घरों में पाली जाने वाली मछली गोल्डफिश को कभी ना कभी जरुर देखा होगा पर क्या आप जानते हैं Goldfish का वैज्ञानिक नाम क्या है, गोल्डफिश कहाँ पायी जाती है, गोल्डफिश कितने प्रकार की होती है और गोल्डफिश  का पालन कैसे करें.

बहुत सारी प्रतियोगी परीक्षाओं में Goldfish से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते हैं इसलिए हर एक छात्र को गोल्डफिश के बारे में जानकारी होनी चाहिए. हमारा यह लेख छात्रों के अलावा उन लोगों के लिए भी बहुत लाभदायक है जो अपने घरों में सजावट के लिए गोल्डफिश का पालन करना चाहते हैं. हमने कोशिस की है कि इस लेख में गोल्डफिश के वैज्ञानिक नाम से लेकर इसको पालने की पूरी प्रोसेस को बहुत आसान शब्दों में आपको समझा सकें.

तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं Goldfish का Scientific Name क्या है.

गोल्ड फिश के बारें में पूरी जानकारी हिंदी में

Goldfish वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)Carassius auratus (कैरासियस ऑराटस)
Goldfish का हिंदी नामसुनहरी मछली
परिवारCarp (कार्प)
निवासमीठा पानी
मूल श्रोतचीन
उम्रऔसतन 10 से 15 वर्ष
लंबाईऔसतन 35 से 40 सेंटीमीटर
वजनअधिकतम 4.5 किलोग्राम
Ph रेंज6.5 से 8.5
भोजनशैवाल, कीट, लार्वा, पौधे आदि.
गोल्ड फिश में बारें में पूरी जानकारी

गोल्डफिश क्या है (What is Goldfish in Hindi)

Goldfish यानि सुनहरी मछली मीठे पानी में रहने वाली एक प्रकार की मछली है जो कि Carp परिवार से संबंध रखती है. गोल्डफिश को आमतौर पर indoor aquariums में पालतू मछली के रूप में रखा जाता है. आपने भी कहीं ना कहीं इस मछली को अवश्य देखा होगा. गोल्डफिश दिखने में बहुत ही खुबसूरत होती है इसका मुख्य कारण इनका रंग भी है.

गोल्ड फिश का वैज्ञानिक नाम क्या है Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai In Hindi

गोल्डफिश के शरीर का आकार, रंग, नस्लें, और पंखों के विन्यास में भिन्न – भिन्न होती हैं. सुनहरी मछली का रंग सफेद, पीले, नारंगी, लाल, भूरे और काले रंग के विभिन्न संयोजन में होता है जो कि ज्ञात हैं. इसके अलावा भी यह अनेक रंगों में हो सकती है.

गोल्डफिश (सुनहरी मछली) को घरों में टैंकों तथा जार में पालतू जानवर के रूप में देखा जाता है. लोग गोल्डफिश को इसलिए पालते हैं क्योंकि यह देखने में बहुत सुन्दर और आकर्षक लगती है तथा कई लोग इसे घर में रखना शुभ मानते हैं. गोल्डफिश दुनिया की सजावटी मछलियों में से एक है. गोल्डफिश को गोल्डन क्रुचियन कार्प (Golden crucian carp) भी कहा जाता है.

गोल्ड का साइंटिफिक नाम क्या है (Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai)

Goldfish का साइंटिफिक Name यानि वैज्ञानिक नाम Carassius auratus है जिसे कि हिंदी में कैरासियस ऑराटस पढ़ा जाता है. इसे हिंदी में “सुनहरी मछली” कहते है. अगर कहीं परीक्षाओं में पूछा जाय कि Goldfish Ka Scientific Name Kya Hai तो अब आप आसानी से इसका जवाब बता सकते हैं. गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम याद रखना इतना भी मुश्किल नहीं है, अगर आपसे अंग्रेजी में गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम नहीं पढ़ा जा रहा है तो आप हिंदी में पढ़कर इसे याद रख सकते हैं.

Goldfish का हिंदी नाम क्या है

Goldfish का हिंदी नाम सुनहरी मछली है. गोल्डफिश सुनहरे रंग के साथ और कई रंगों में भी पाई जाती है जिनमें से नारंगी, लाल, भूरा, सफ़ेद और काला रंग भी शामिल हैं. अगर आपको घरों के टैंक तथा जारों में इन रंगों के संयोजन में कोई भी मछली दिखाई देती है तो वह गोल्डफिश यानि सुनहरी मछली ही है.

गोल्डफिश का इतिहास (History of Goldfish in Hindi)

अगर Goldfish के इतिहास की बात करें तो यह धरती पर कोई बिल्कुल नयी मछली नहीं है. गोल्डफिश का इतिहास 1700 साल से भी पुराना है. इस मछली का उल्लेख सर्वप्रथम चीन के जिंग राजवंश में के दौरान दर्ज किया गया. माना जाता है चीन के राजा जिंहुआन जब लुशान पर्वत पर पहुंचे तो उन्हें एक तालाब लाल रंग की मछलियों से भरी मिली.

तांग राजवंश के समय गोल्डफिश को घरों में पालतू बनाया गया, उस समय लोग अपने घरों में तालाब बनाकर गोल्डफिश को पालते थे, यही से गोल्डफिश को पालने की लोकप्रियता बढ़ी. सोंग राजवंश, मिंग राजवंश के दौरान भी लोग गोल्डफिश को घरों में पालते थे.

1502 में गोल्डफिश जापान पहुंची और जापान ने गोल्डफिश के कई प्रजातियों की शुरुवात की. इसके बाद 17 वीं शदी में यूनाइटेड किंगडम, 18 वीं शदी में यूरोप और 19 वीं शदी में अमेरिका में गोल्डफिश को पेश किया गया और इसी प्रकार यह पुरे दुनिया में एक पालतू मछली के रूप में पाले जानी लगी.

Goldfish कहाँ पाई जाती है

गोल्डफिश सबसे अधिक मात्रा में चीन में पाई जाती है और इसे पालने की शुरुवात चीन से ही हुई थी यह मछली पूर्वी एशिया की मूल निवासी है. अगर जंगलों की बात करें तो सुनहरी मछली धीमी गति से बहने वाले मीठे पानी के जलाशयों में पाई जा सकती है. अपने रिश्तेदार कार्प की तरह यह गंदे पानी में भी पनपते हैं.

Goldfish की लम्बाई कितनी होती है

जब Goldfish को पालतू जानवरों के रूप में टैंक और एक्वैरियम में रखा जाता है तो इनकी लम्बाई 1-2 इंच तक ही बढ़ पाती है, और कभी – कभी इनकी अधिकतम लम्बाई 6 इंच तक भी पहुँच जाती है. लेकिन जंगलों के तालाबों में रहने वाली सुनहरी मछली की लम्बाई 12 से 14 इंच तक पहुँच जाती है.

गोल्डफिश कितने प्रकार की होती है (Types of Goldfish in Hindi)

गोल्डफिश अनेक प्रकार की होती हैं, इसकी पुरे दुनियाभर में अनेक प्रकार की प्रजातियाँ पाई जाती हैं. हमने इस लेख में आपको गोल्डफिश की 22 लोकप्रिय प्रजातियों के बारे में बताया है –

American Shubunkins (अमेरिकन शुबंकिन्स)Bristol Shubunkins (ब्रिस्टल शुबंकिन्स)
Butterfly Tail (तितली पूंछ)Wakin (वाकिन)
Comet (धूमकेतु)Common (सामान्य गोल्डफिश)
Curled-gill (कर्ल्ड-गिल)Watona (वाटोना)
Celestial Eye (दिव्य नेत्र)Bubble Eye (बबल आई)
Tosakin (टोसाकिन)Veiltail (वील्टटेल)
London Shubunkins (लंदन शुबंकिन्स)Panda Telescope (पांडा टेलीस्कोप)
Pearlscale (पर्लस्केल)Shukin (शुकिन)
Ranchu (रैनचु)Red Cap Oranda (रेड कैप ओरंडा)
Ryukin (रयुकिन)Sabao (सबाओ)
MoorNymph
गोल्ड फिश के प्रकार (Types of Goldfish in Hindi)
gold-fish
gold-fish-photo
gold-fish-image

गोल्डफिश का पालन कैसे करें

यदि आप गोल्डफिश को पालना चाहते हैं तो आपको इनका विशेष रूप से ध्यान रखना होता है क्योंकि आपकी एक छोटी सी गलती से यह मर भी सकती हैं. अगर गोल्डफिश की ठीक से देखभाल की जाए तो वे बहुत लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं गोल्डफिश के पालन के लिए आप निम्नलिखित बातों का ध्यान रख सकते हैं –

  • गोल्डफिश को रखने के लिए एक टैंक खरीदें, वैसे इन्हें जार में भी रखा जा सकता है लेकिन टैंक गोल्डफिश को रखने के लिए एक बेहतर विकल्प है.
  • टैंक खरीदते समय सुनिश्चित करें कि ऑक्सीजन को अवशोषित करने के लिए पर्याप्त सतह क्षेत्र है, और मछली के तैरने के लिए जगह होनी चाहिये.
  • टैंक को एक ऐसे स्थान पर रखें जहाँ उसे अप्रत्यक्ष रूप से पर्याप्त धूप मिले.
  • मछली को स्वस्थ रखने के लिए पानी का रख  रखाव महत्वपूर्ण है. आप सप्ताह में टैंक से एक तिहाई पानी को निकालकर बदल सकते हैं.
  • टैंक की नियमित रूप से सफाई करें, क्योंकि गोल्डफिश काफी गन्दगी करती हैं.
  • गोल्डफिश जरुरत से अधिक खा लेती हैं जो कि उनके सेहत के लिए हानिकारक है इसलिए आप इनके खान – पान का विशेष ध्यान रखें.
  • अपनी मछली को सुरक्षित रखें, जिस कमरे में आपने टैंक रखा है वहाँ कीटनाशक का छिडकाव ना करें.
  • अगर मछली कुछ असामान्य व्यवहार कर रही है तो हो सकता है वह बीमार है, इसके लिए आप पशु चिकित्सक से संपर्क करें.
  • साथ ही आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि गोल्डफिश को जन्म के 1 साल बाद ही सुन्दर और आकर्षक रंग मिलता है.

यहाँ हमने एक table के द्वारा आपको पालतू गोल्डफिश के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी है.

विषयGoldfish का पालन
रहने का स्थानजार या टैंक
लम्बाईअधिकतम 6 इंच
आयुऔसतन 6 से 10 साल
पानी का तापमान68° से लेकर 74° फ़ारेनहाइट
PH रेंज7.0 से 8.5
भोजनकीट, घोंगे, सलाद पत्ता, मटर, गोभी, पालक आदि
गोल्डफिश का पालन करने का तरीका

Goldfish का खाना क्या है

अगर आप Goldfish का पालन कर रहें हैं तो आपको उनके खाने का भी विशेष ध्यान देना होगा, तभी वे जीवित रह पायेंगीं. आपको बता दें गोल्डफिश सर्वाहारी होती है ये छोटे कीड़े – मकोड़े, छोटे पौधे और क्रस्टेशियंस को खाना पसंद करती हैं. गोल्डफिश लगातार खाते रहती है यानि कि यह लम्बे समय तक बहुत कुछ खा सकती है.

सुनहरी मछली का आहार उनके रहने के स्थान से भिन्न होता है. जब ये नदियों, तालाबों में रहती हैं तो इनका आहार अलग होता है और जब यह पालतू होती हैं तो इनका आहार अलग होता है. गोल्डफिश के खाद्य पदार्थों में मुख्य रूप से शैवाल, लार्वा, कीट, मछली के अंडे, जल पिस्सू, समुद्री झींगा, पौधे, मच्छर आदि शामिल हैं.

यदि आप गोल्डफिश को पाल रहे हैं तो हो सकता है गोल्डफिश के लिए यह सब भोजन लाने में आपको काफी मुश्किल आये, इसलिए आप एक पालतू गोल्डफिश को निम्नलिखित चीजें भी खिला सकते हैं –

  • शैवाल
  • समुद्री झींगा
  • घोंगे
  • सलाद पत्ता
  • मटर
  • गोभी
  • पालक
  • कटी सब्जियां
  • वाणिज्य खाद्य छर्रों

यह सभी भोजन एक पालतू गोल्डफिश खाती है. आप यह सब अपने पालतू सुनहरी मछली को खिला सकते हैं.

Goldfish कितना खाना खाती है

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया गोल्डफिश लम्बे समय तक बहुत कुछ चीजें खा सकती हैं लेकिन यदि आप Goldfish को पाल रहे हैं तो आपको उन्हें दिन में 3 या 4 बार ही खाना देना चाहिए. क्योंकि अधिक खाना गोल्डफिश की सेहत के लिए लाभदायक नहीं है.

Goldfish कितने समय तक जीवित रह सकती है

Goldfish का जीवनकाल औसतन 10 से 15 वर्ष तक होता है लेकिन इसकी कुछ प्रजातियाँ 30 साल तक भी जीवित रह सकती हैं लेकिन इसके लिए इनका विशेष रूप से ध्यान देना होता है, और उचित देखभाल करनी होती है. दुर्भाग्य से कई सुनहरी मछलियां अपने औसतन जीवन काल की क्षमता तक भी नहीं पहुँच पाती है.

Goldfish के लिए पानी का तापमान कितना होना चाहिए

Goldfish एक विशेष तापमान वाले पानी में ही जीवित रह सकती है, तापमान में असीमित बदवाल इसे मार सकते हैं. अगर आप Goldfish को पाल रहे हैं तो पानी के तापमान का विशेष रूप से ध्यान रखें. सामान्यतौर पर गोल्डफिश के लिए पानी का आदर्श तापमान 68° फ़ारेनहाइट से लेकर 74° फ़ारेनहाइट तक होता है. इस तापमान के पानी में वे लंबें समय तक जीवित रह सकती हैं.

हालांकि गोल्डफिश के लिए PH इतना भी महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन गोल्डफिश के रहने के लिए आदर्श PH मान 7.0 से 8.5 तक है.

Goldfish से जुड़े कुछ रोचक बातें

आर्टिकल को यहाँ तक पढने के बाद आप समझ गए होंगें कि Goldfish Ka Scientific Name Kya Hai, और गोल्डफिश का पालन कैसे करें. चलिए अब गोल्डफिश के बारे में कुछ रोचक बातें जान लेते हैं –

  • गोल्डफिश मनुष्यों को पहचान सकती है. और यह विभिन्न आकार, रंगों और आवाजों के बीच अंतर पता कर सकती है.
  • गोल्डफिश लगातार खाते रह सकती है लेकिन बहुत अधिक खाना इनके लिए हानिकारक होता है.
  • गोल्डफिश अनेक रंगों की हो सकती है, आधुनिक गोल्डफिश नारंगी, काले, लाल, पीले, भूरे और सफ़ेद रंगों में संयोजन में होती है.
  • गोल्डफिश बिना खाए – पिए 2 सप्ताह तक जीवित रह सकती है.
  • यदि गोल्डफिश की देखभाल अच्छी प्रकार से की जाये तो यह 30 साल तक भी जीवित रह सकती है.
  • घरों के एक्वैरियम में पाए जाने वाले गोल्डफिश की तुलना में तालाबों में रहने वाली गोल्डफिश की लम्बाई अधिक होती है.
  • गोल्डफिश सर्वाहारी होती है, यह कीड़े मकोड़े के साथ पौधों को भी खाती हैं.
  • कई बार गोल्डफिश अपने बच्चों को ही खा जाती है.
  • गोल्डफिश का पालन चीन से शुरू हुआ था और इस मछली का मूल निवास चीन को ही माना जाता है.

Goldfish से जुड़े कुछ सवाल

Goldfish Ka Scientific Name Kya Hai? गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम क्या है?

Goldfish यानि सुनहरी मछली का Scientific Nameया वैज्ञानिक नाम Carassius auratus (कैरासियस ऑराटस) है.

गोल्डफिश की आयु कितने वर्ष होती है?

सामान्य तौर पर गोल्डफिश की आयु 10 से 15 वर्ष के बीच में होती है. लेकिन कुछ प्रजातियों की गोल्डफिश तक़रीबन 20 वर्ष तक भी जीवित रह सकती है.

मैं अपनी पालतू गोल्डफिश को क्या खिलाऊं?

आप अपने फ़ालतू गोल्डफिश को शैवाल, कीट, घोंगे, सलाद पत्ता, मटर, गोभी, पालक, कटी सब्जियां आदि खिला सकते हैं.

क्या हम गोल्डफिश को खा सकते हैं?

जी हाँ आप अन्य मछलियों की भांति ही गोल्डफिश को अपने खाने के साथ खा सकते हैं इसमें कोई परेशानी की बात नहीं है.

गोल्डफिश बिना भोजन के कब तक जीवित रह सकती है?

गोल्डफिश बिना खाये – पीये 2 सप्ताह तक जीवित रह सकती है. कई गोल्डफिश बिना भोजन के 4 महीने तक भी जीवित रह सकती है.

गोल्डफिश कहाँ पाई जाती है?

गोल्डफिश आमतौर पर धीमी गति से बहने वाले मीठे पानी के जलाशयों में पाई जाती है.

इन्हें भी पढ़े

संपेक्ष में – गोल्ड फिश के बारें में पूरी जानकारी हिंदी में

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको Goldfish Ka Scientific Name Kya Hai, गोल्डफिश के प्रकार और गोल्डफिश के पालन की पूरी जानकारी दी है, जिससे कि अगर आप गोल्डफिश को पालना चाहते हैं तो आपको मदद मिल सके. इसके अलावा अगर किसी प्रतियोगी परीक्षाओं में आपको गोल्डफिश के वैज्ञानिक नाम के बारे में पूछा जाय तो आप इसके बारे में सही उत्तर लिख सकते हैं.

इस लेख में इतना ही, उम्मीद करते हैं दोस्तों आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और इसमें दी गयी जानकारी आपको अच्छे से समझ आ गयी होगी. इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करके गोल्डफिश की जानकारी को दुसरे लोगों तक भी पहुंचायें.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment