IMPS क्या है और काम कैसे करता है | IMPS Full Form In Hindi

IMPS Kya Hai In Hindi: आधुनिक युग में नेट बैंकिंग के द्वारा ऑनलाइन पैसे ट्रान्सफर करने के अनेक सारे तरीके मौजूद हैं जिनके द्वारा यूजर कुछ ही सेकंड में पैसे एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर कर सकते हैं, वो भी बिना बैंक जाये. ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर करने की इनमें से ही एक प्रोसेस IMPS है जिसके द्वारा आप मोबाइल से फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.

लेकिन क्या आप जानते हैं IMPS क्या है इन हिंदी , IMPS काम कैसे करता है, IMPS से फंड ट्रान्सफर कैसे करें, IMPS की विशेषतायें क्या हैं, IMPS के फायदे नुकसान क्या है, IMPS करने में कितना चार्ज लगता है और NEFT, RTGS तथा IMPS में क्या अंतर है.

यदि आपको उपरोक्त सभी सवालों का जवाब नहीं पता तो इस ब्लॉग पोस्ट को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें, इसमें आपको IMPS से जुड़े सभी प्रश्नों के जवाब मिलने वाले है. तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं IMPS क्या होता है हिंदी में विस्तार से.

IMPS Full Form in Hindi

IMPS का फुल फॉर्म Immediate Payment Service होता है जिसे कि हिंदी में तत्काल भुगतान सेवा कहते हैं.

IMPS क्या है और काम कैसे करता है IMPS Full Form In Hindi
  • IMPS Full Form – Immediate Payment Service
  • IMPS Full Form in Hindi – तत्काल भुगतान सेवा

IMPS Meaning in Hindi

IMPS का हिंदी में मतलब तत्काल भुगतान सेवा होता है, यानि कि ऐसी सर्विस जिसके द्वारा आप Real Time में एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट में फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं. IMPS से पैसे ट्रान्सफर करने में आपको इन्तजार नहीं करना पड़ता है.

IMPS क्या है (What is IMPS in Hindi)

IMPS यानि कि Immediate Payment Service एक इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग सर्विस है जिसके द्वारा आप ऑनलाइन तत्काल एक अकाउंट से दुसरे अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं. पैसे ट्रान्सफर करने के अलावा आप IMPS के द्वारा विभिन्न प्रकार के बिलों का भुगतान कर सकते हैं, ऑनलाइन रिचार्ज कर सकते हैं तथा ऑनलाइन खरीददारी कर सकते हैं.

IMPS ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर करने का एक बहुत ही फ़ास्ट और सुरक्षित जरिया है, जो कि Real Time में काम करता है. यानि IMPS से पैसे ट्रान्सफर करने के कुछ ही सेकंड बाद Beneficiary के बैंक अकाउंट में अमाउंट क्रेडिट कर दी जाती है. और Sender तथा Beneficiary दोनों के मोबाइल नंबर पर एक मैसेज बैंक की तरफ से आता है.

IMPS की सर्विस 365*24*7 उपलब्ध रहती है, आप कभी भी IMPS से पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं तथा अपने बैंक अकाउंट में पैसे मंगवा सकते हैं. IMPS से आप न्यूनतम 1 रूपये और अधिकतम 5 लाख रूपये तक भेज सकते हैं. लेकिन किसी – किसी बैंकों में यह सीमा अभी भी 2 लाख की है.

IMPS का इतिहास (History of IMPS in Hindi)

IMPS की शुरुवात सबसे पहले National Payments Corporation Of India (NPCI) के द्वारा अगस्त 2010 में एक पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर की गयी थी. लेकिन 22 नवम्बर 2010 को इसे ग्राहकों के लिए भी लांच कर दिया गया था,

शुरुवात में केवल SBI, Axis बैंक, HDFC, ICICI, बैंक ऑफ़ इंडिया आदि बैंकों ने IMPS को accept किया था, लेकिन बाद में धीरे – धीरे और भी बैंकों में IMPS की सर्विस को accept किया. आप NPCI की ऑफिसियल वेबसाइट पर पूरी बैंकों की लिस्ट देख सकते हैं.

पहले IMPS के द्वारा केवल 2 लाख रूपये ट्रान्सफर किये जा सकते थे, लेकिन कुछ समय बाद भारतीय रिज़र्व बैंक ने इस सीमा को बढाकर 5 लाख कर दिया है. अब आप IMPS के द्वारा अधिकतम 5 लाख रूपये तक ट्रांसफर कर सकते हैं. लेकिन कुछ बैंक अभी भी केवल 2 लाख रूपये ट्रान्सफर करने की सुविधा देते हैं.

IMPS काम कैसे करता है (How Does IMPS Work in Hindi)

IMPS को मुख्य रूप से मोबाइल फ़ोन के द्वारा फंड ट्रांसफर करने के लिए बनाया गया है. यूजर मोबाइल फोन से केवल MMID नंबर और मोबाइल से IMPS के द्वारा फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.

IMPS की सेवा का लाभ उठाने के लिए यूजर को पहले नेट बैंकिंग की सर्विस को एक्टिव करना होता है और अपने बैंक अकाउंट को अपने मोबाइल से लिंक करवाना होता है तभी IMPS से फंड ट्रान्सफर किया जा सकता है.

बैंक अकाउंट तथा मोबाइल नंबर को लिंक करने के बाद जरूरत पड़ती है एक मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन की जिससे IMPS किया जाता है. आप सम्बंधित बैंक की एप्लीकेशन को डाउनलोड करें और नेट बैंकिंग की यूजरनाम और पासवर्ड के द्वारा उसमें Login कीजिए.

IMPS से फंड ट्रान्सफर करने के लिए Beneficiary का MMID नंबर और उस मोबाइल नंबर की जरुरत होती है जो कि उसके बैंक अकाउंट से लिंक है. बैंकिंग एप्लीकेशन में आपको Beneficiary की यह डिटेल fill करके पेमेंट को प्रोसेस को कम्पलीट करना होता है.

जैसे ही पेमेंट हो जाती है तो कुछ ही सेकंड में Beneficiary के अकाउंट में फंड क्रेडिट कर दिया जाता है और Sender के खाते से फंड डेबिट हो जाता है और दोनों को बैंक सफल Transaction का एक मैसेज भेजता है.

IMPS की विशेषतायें (Feature of IMPS in Hindi)

IMPS देश में फंड ट्रान्सफर करने के सबसे पसंदीदा तरीकों में से एक है, IMPS की अनेक सारी विशेषतायें हैं. IMPS की कुछ प्रमुख विशेषतायें निम्नलिखित हैं –

  • Available – IMPS की सर्विस 24*7 उपलब्ध रहती है, आप कभी भी IMPS के द्वारा फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • Multi Platform Support – वैसे IMPS को विशेष रूप से मोबाइल बैंकिंग के लिए बनाया गया है लेकिन आप IMPS का इस्तेमाल नेट बैंकिंग में भी कर सकते हैं.
  • Multiple Uses – IMPS से फंड ट्रान्सफर करने के अतिरिक्त भी अनेक प्रकार के कार्य किये जा सकते हैं जैसे ऑनलाइन शॉपिंग, बिलों का भुगतान, रिचार्ज आदि. आप P2P (Person to Person) और P2A (Phone to Account ) दोनों प्रकार के भुगतानों को IMPS से कर सकते हैं.
  • Instant Fund Transfer – IMPS के द्वारा तुरंत पैसों को एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर किया जाता है. RTGS और NEFT की तरह IMPS में फंड ट्रान्सफर होने में समय नहीं लगता है.
  • Easy to Use – इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रान्सफर करने के लिए IMPS सबसे आसान तरीका है. आप Beneficiary के मोबाइल नंबर जो बैंक अकाउंट में लिंक है और यूनिक MMID कोड के द्वारा आसानी से फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • Message Alert – जब भी IMPS के द्वारा फंड ट्रान्सफर किया जाता है तो बैंक की तरफ से Sender तथा Receiver के मोबाइल नंबर, जो बैंक अकाउंट से लिंक है, पर एक टेक्स्ट मैसेज आता है जिसमें बताया जाता है कि Transaction सफलतापूर्वक कम्पलीट हो गया है.
  • No Minimum Limit – जिस प्रकार RTGS में न्यूनतम फंड ट्रान्सफर करने की लिमिट 2 लाख रूपये है पर IMPS में ऐसी कोई लिमिट नहीं है. आप 1 रूपये भी IMPS से ट्रान्सफर कर सकते हैं. लेकिन IMPS में अधिकतम फंड ट्रान्सफर की लिमिट 5 लाख है.

IMPS के लिए आवश्यक इनफार्मेशन

IMPS से पैसे ट्रान्सफर आप P2P और P2A दोनों में कर सकते हैं, और इन दोनों के लिए आपको अलग – अलग इनफार्मेशन की आवश्यकता होती है. नीचे हमने आपको दोनों के बारे में बताया है.

#1 – Phone to Account (P2A) भुगतान के लिए

अगर आप Phone to Account (P2A) भुगतान करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको Beneficiary की पूरी अकाउंट Detail चाहिए होती है, जैसे कि

  • Beneficiary का नाम (जो उसके बैंक अकाउंट में है)
  • Beneficiary का अकाउंट नंबर
  • Beneficiary का बैंक तथा ब्रांच का नाम
  • ब्रांच का IFSC कोड

#2 – Person to Person (P2P) भुगतान के लिए

अगर आप IMPS से Person to Person (P2P) भुगतान करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको निम्नलिखित डिटेल की आवश्यकता होती है.

  • Beneficiary का मोबाइल नंबर
  • Beneficiary का MMID नंबर
  • अपना mPIN, Transaction के सत्यापन के लिए

बहुत सारे लोगों को MMID कोड और mPIN के बारे में जानकारी नहीं होती है, उनके नॉलेज के लिए हमने यहाँ आपको संक्षिप्त रूप से MMID और mPIN के बारे में जानकारी दी है. क्योंकि ये दोनों IMPS के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं इसलिए लेख में आगे बढ़ने से पहले आपको इन दोनों में बारे में जानकारी होनी जरुरी है.

MMID क्या है?

MMID का फुल फॉर्म Mobile Money Identifier होता है, यह सात अंकों का एक यूनिक कोड होता है. इसका उपयोग मोबाइल बैंकिंग के द्वारा फंड ट्रान्सफर करने में किया जाता है. आप अपने बैंक में जाकर भी MMID कोड बना सकते हैं या फिर ऑनलाइन बैंक के पोर्टल से भी MMID के लिए आवेदन कर सकते हैं.

mPIN क्या है?

mPIN का फुल फॉर्म Mobile Banking Personal Identification Number होता है. ATM पिन की तरह ही यह 4 या 6 अंकों का एक पिन होता है जिसका इस्तेमाल मोबाइल के द्वारा फंड ट्रान्सफर करने में किया जाता है. आप मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन में mPIN को जनरेट कर सकते हैं.

IMPS कैसे करें (How to do IMPS in Hindi)

IMPS से पैसे ट्रान्सफर करने के बहुत सारे तरीके हैं, आप नेट बैंकिंग, मोबाइल एप्लीकेशन, SMS आदि चैनलों से IMPS कर सकते हैं. यहाँ हमने आपको IMPS करने के कुछ लोकप्रिय तरीकों के बारे में बताया है.

#1 – नेट बैंकिंग से IMPS कैसे करें (Account Number और IFSC कोड से)

नेट बैंकिंग के द्वारा IMPS करने के लिए आपको नेट बैंकिंग की सर्विस को एक्टिव करना होगा और इसके साथ आपको Beneficiary के बैंक अकाउंट डिटेल की जरुरत होती है. यदि आपके पास Beneficiary की अकाउंट डिटेल है तो आप निम्नलिखित प्रोसेस को फॉलो करके नेट बैंकिंग के द्वारा IMPS कर सकते हैं.

  • सबसे पहले अपने बैंक के ऑनलाइन पोर्टल को ओपन कीजिये और अपनी नेट बैंकिंग यूजरनाम और पासवर्ड के द्वारा इसमें Login कर लीजिये.
  • इसके बाद आपको Profile वाले ऑप्शन में Beneficiary का विकल्प मिलेगा आप इस पर क्लिक करें और फिर Add Beneficiary वाले विकल्प पर क्लिक करें.
  • अब आपको Beneficiary की पूरी अकाउंट डिटेल fill कर लेनी है. जिसमें आपको Beneficiary का अकाउंट में नाम, अकाउंट नंबर, बैंक और ब्रांच का नाम तथा IFSC कोड को इंटर करना है.
  • यह सब इनफार्मेशन fill करके Next पर क्लिक कीजिये और उस अमाउंट को दर्ज करें जो आप भेजना चाहते हैं.
  • इसके बाद आपको Payment Method सेलेक्ट करने के लिए कहा जायेगा, आप यहाँ पर IMPS सेलेक्ट कर लीजिये.
  • अंत में Confirm वाले ऑप्शन पर क्लिक करके पेमेंट कम्पलीट कर लीजिये.
  • कुछ ही सेकंड में फंड Beneficiary के बैंक अकाउंट में क्रेडिट हो जायेगा. फंड के क्रेडिट होते ही आपके मोबाइल नंबर पर भी एक मैसेज आयेगा.

#2 – Mobile Application से IMPS कैसे करें

  • मोबाइल एप्लीकेशन से IMPS करने के लिए आप अपने मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन में Login कर लीजिये.
  • इसके बाद फंड ट्रान्सफर वाले विकल्प में जाइए और यहाँ पर IMPS को सेलेक्ट करें.
  • अब आपको Beneficiary के मोबाइल नंबर और MMID को दर्ज करना है, और फिर Continue वाले विकल्प पर क्लिक करें.
  • Transaction को Verify करने के लिए आपके बैंक से लिंक मोबाइल नंबर में एक OTP आयेगा, आप उस OTP को इंटर करके Transaction की प्रोसेस को कम्पलीट कर लीजिये.
  • Transaction कम्पलीट होने के कुछ ही सेकंड में Beneficiary के बैंक अकाउंट में फंड क्रेडिट हो जायेगा. आपको बैंक की तरफ से अमाउंट डेबिट का एक मैसेज आयेगा.
  • इस प्रकार आप बहुत आसानी से मोबाइल के द्वारा IMPS से फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.

#3 – SMS से IMPS कैसे करें

अगर आपके पास इन्टरनेट कनेक्शन नहीं है तो आप SMS से भी IMPS के द्वारा पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं. लेकिन SMS से  फंड ट्रान्सफर करने के लिए आपको बैंक का फॉर्मेट पता होना चाहिए. आप अपने बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट से इस Format को पता कर सकते हैं.

  • SMS के द्वारा IMPS करने के लिए सबसे पहले आप अपने बैंक अकाउंट को अपने मोबाइल नंबर से लिंक कर लीजिये.
  • अब आपको बैंक के द्वारा दिए गए प्रारूप में एक मैसेज टाइप करना है और फिर बैंक के द्वारा दिए गए SMS बैंकिंग नंबर पर उस मैसेज को भेजना है.
  • अधिकतर बैंकों में यह प्रारूप इस रूप में हो सकता है – IMPS > Beneficiary Mobile Number > MMID >Amount >mPin.लेकिन फिर भी आप एक बार अपने बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट पर जरुर चेक कर लीजिये.
  • मैसेज भेजने के कुछ ही देर में अमाउंट आपके बैंक अकाउंट से क्रेडिट हो जायेगा और पैसे Beneficiary के अकाउंट में क्रेडिट कर दिए जाते हैं.

#4 – ATM से IMPS कैसे करें

आप ATM से भी IMPS के द्वारा फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं. ATM से IMPS करने के लिए नीचे बताई गयी प्रोसेस को फॉलो करें.

  • सबसे पहले अपने नजदीकी ATM में जायें.
  • इसके बाद अपना डेबिट कार्ड ATM मशीन के अन्दर डालें.
  • अब अपनी भाषा को सेलेक्ट करें तथा अपने 4 अंकों का ATM पिन दर्ज करें.
  • अप आपको फंड ट्रान्सफर पर क्लिक करना है.
  • Beneficiary का मोबाइल नंबर दर्ज करें.
  • इसके बाद MMID और जो अमाउंट आपको Send करना है उसे दर्ज करें.
  • यह सब डिटेल इंटर करने के बाद आप Confirm पर क्लिक करें.
  • इसके बाद फंड Beneficiary के बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर हो जायेगा, और आपके मोबाइल नंबर पर इसका मैसेज आ जायेगा.

IMPS करने में लगने वाली फीस (IMPS Fees in Hindi)

IMPS की सर्विस फ्री में Available नहीं है, IMPS करने में Sender को कुछ चार्ज भी pay करना होता है. लेकिन Beneficiary को किसी भी प्रकार का कोई अमाउंट Pay नहीं करना होता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें IMPS की फीस NEFT की भांति फिक्स नहीं होती है, अलग – अलग बैंकों में IMPS की फीस भी Different हो सकती है. IMPS की फीस 2.50 रूपये से लेकर 25 रूपये तक हो सकती है. नीचे टेबल के माध्यम से हमने आपको IMPS की औसत फीस के बारे में बताया है.

IMPS द्वारा ट्रान्सफर राशिIMPS शुल्क
1 रूपये से लेकर1000 तक2.50 RS + Applicable GST
1001 से लेकर1 लाख रूपये तक5 RS + Applicable GST
1 लाख से लेकर 2 लाख तक15 RS + Applicable GST
2 लाख से अधिक25 RS + Applicable GST
IMPS Fees in Hindi

IMPS के फायदे (Advantage of IMPS in Hindi)

IMPS ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर करने की एक बेहतरीन सर्विस है जिसके अनेक सारे फायदे होते हैं. IMPS के कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

  • IMPS की सर्विस दिन में 24 घंटे और सप्ताह के सातों दिन उपलब्ध रहती है, आप कभी भी IMPS के द्वारा फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं. आप छुट्टी वाले दिन भी IMPS से फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • IMPS के द्वारा आप केवल MMID, आधार नंबर और मोबाइल नंबर के द्वारा आप फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • IMPS से फंड ट्रान्सफर करने में आपको Beneficiary के बैंक अकाउंट डिटेल की आवश्यकता नहीं होती है.
  • IMPS सर्विस बहुत ही सुरक्षित और किफायती है.
  • IMPS से फंड ट्रान्सफर करने पर पैसे तुरंत कुछ ही सेकंड में Beneficiary के अकाउंट में क्रेडिट हो जाते हैं.
  • IMPS के द्वारा आप ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं, जिससे कि आप बैंक के लम्बे कतारों से बच जाते हैं.
  • IMPS से फंड ट्रान्सफर करने में आपके समय की बचत भी होती है.
  • IMPS से आप केवल मोबाइल के द्वारा फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • आप ATM, Net banking, SMS, USSD, और मोबाइल एप्लीकेशन जैसे विभिन्न प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से IMPS कर सकते हैं.
  • IMPS में फंड ट्रान्सफर करने में लगने वाला चार्ज बहुत कम है.
  • IMPS आपको इंट्राबैंक और इंटरबैंक दोनों में फंड ट्रान्सफर करने की सुविधा देता है.

IMPS के नुकसान (Disadvantage of IMPS in Hindi)

IMPS के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं.

  • IMPS की सर्विस फ्री में उपलब्ध नहीं है.
  • आप ऑफलाइन IMPS नहीं कर सकते हैं. IMPS केवल ऑनलाइन उपलब्ध है.
  • IMPS के द्वारा आप 5 लाख से अधिक फंड ट्रान्सफर नहीं कर सकते हैं.
  • हम बैंक में लेनदेन की सीमा अलग – अलग हो सकती है.

NEFT और IMPS में अंतर

NEFT और IMPS दोनों ही ऑनलाइन फण्ड ट्रान्सफर करने के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं, लेकिन यह दोनों एक दुसरे से बहुत अलग होते हैं.NEFT और IMPS के बीच अंतर को हमने नीचे टेबल के द्वारा आपको स्पष्ट रूप से समझाया है.

NEFT (एनईएफटी)IMPS (आईएमपीएस)
NEFT का फुल फॉर्म National Electronic Fund Transfer होता है.IMPS का फुल फॉर्म Immediate Payment Service होता है.
NEFT में फण्ड ट्रान्सफर घंटों के बैच में किया जाता है और बैंक तथा सरकारी छुट्टी के दिन NEFT की सर्विस बंद रहती है.IMPS की सर्विस 365 दिन 24*7 Available होती है.
NEFT के द्वारा आप ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों प्रकार से फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.IMPS के द्वारा आप केवल ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
NEFT के द्वारा अधिकतम फंड ट्रान्सफर करने की कोई लिमिट नहीं है.IMPS के द्वारा आप अधिकतम 5 लाख रूपये ट्रान्सफर कर सकते हैं.
NEFT से पैसे भेजने पर Beneficiary के अकाउंट में क्रेडिट होने में 2 Working Hour का समय लगता है.IMPS के द्वारा पैसे भेजने पर Beneficiary के अकाउंट में कुछ ही सेकंड में पैसे क्रेडिट हो जाते हैं.
NEFT फंड ट्रान्सफर करने की एकSlow प्रोसेस है.IMPS फंड ट्रान्सफर करने का एक Fast प्रोसेस है.
NEFT और IMPS में अंतर

IMPS और RTGS में अंतर

IMPS और NEFT के बीच अंतर जान लेने के बाद अब हम IMPS और RTGS के बीच भी अंतर को जान लेते हैं. IMPS और RTGS के बीच अंतर को भी हमने नीचे टेबल के द्वारा आपको समझाया है.

RTGSIMPS
RTGS का फुल फॉर्म Real Time Gross Settlement होता है.IMPS का फुल फॉर्म Immediate Payment Service होता है.
RTGS से आप ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों प्रकार से फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.IMPS के द्वारा आप केवल ऑनलाइन फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
RTGS से पैसे भेजने पर Beneficiary के अकाउंट में क्रेडिट होने में अधिकतम 30 मिनट का समय लगता है.IMPS के द्वारा पैसे भेजने पर Beneficiary के अकाउंट में कुछ ही सेकंड में पैसे क्रेडिट हो जाते हैं.
RTGS के द्वारा बड़ी मात्रा में फंड ट्रान्सफर किया जाता है.IMPS से आप अधिकतम 5 लाख रूपये तक भी ट्रान्सफर कर सकते हैं. कुछ बैंकों में यह लिमिट 2 लाख की है.
RTGS से फंड ट्रान्सफर करने की न्यूनतम राशि 2 लाख है.IMPS से आप न्यूनतम 1 रूपये भी ट्रान्सफर कर सकते हैं.
RTGS से पैसे ट्रान्सफर करने के लिए Beneficiary के बैंक अकाउंट डिटेल की आवश्यकता होती है.IMPS से आप केवल Beneficiary के MMID कोड और मोबाइल नंबर के द्वारा फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
IMPS और RTGS में अंतर

FAQ: IMPS In Hindi

IMPS क्या होता है, समझाइये?

IMPS एक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रान्सफर सर्विस है जिसके द्वारा कुछ ही सेकंड में एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर किये जा सकते हैं वह भी बिना बैंक डिटेल के.

IMPS का फुल फॉर्म बताइये?

IMPS का फुल फॉर्म Immediate Payment Service होता है जिसे कि हिंदी में तत्काल भुगतान सेवा कहते हैं.

IMPS से न्यूनतम कितने पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं?

IMPS के द्वारा आप न्यूनतम 1 रूपये भी ट्रान्सफर कर सकते हैं.

IMPS से अधिकतम कितने पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं?

वैसे पहले एक यूजर IMPS के द्वारा अधिकतम केवल 2 लाख रूपये ही ट्रान्सफर कर सकता था, लेकिन RBI ने अपने नियमों में कुछ संसोधन किया जिसके बाद कोई भी यूजर IMPS के द्वारा अधिकतम 5 लाख रूपये ट्रान्सफर कर सकता है.

IMPS करने का समय क्या है?

IMPS की सर्विस दिन में 24 घंटे और सप्ताह के सातों दिन उपलब्ध है, NEFT की तरह IMPS करने का कोई निश्चित समय नहीं है आप पुरे दिन कभी भी IMPS के द्वारा पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं और अपने अकाउंट में मंगवा सकते हैं.

IMPS के द्वारा पैसे ट्रान्सफर करने में कितना समय लगता है?

IMPS के द्वारा पैसे ट्रान्सफर करने में कोई भी समय नहीं लगता है, इसमें कुछ ही सेकंड में पैसे Beneficiary के बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर हो जाते हैं.

IMPS की शुरुवात कब हुई?

IMPS की शुरुवात National Payments Corporation Of India (NPCI) के द्वारा अगस्त 2010 में की गयी थी.

इन्हें भी पढ़े

निष्कर्ष: IMPS Meaning in Hindi

तो दोस्तों इस लेख से आपको IMPS Kya Hai, IMPS Full Form in Hindi, IMPS कैसे काम करता है, IMPS कैसे करें तथा IMPS से जुडी अनेक सारी चीजों के बारे में सीखने को मिला होगा. अगर आपने यह लेख पूरा अंत तक पढ़ा है तो हमें पूरी उम्मीद है कि आपको IMPS के बारे में बहुत ही उपयोगी और बहुमूल्य जानकारी मिली होगी.

हम सभी आज मोबाइल के द्वारा ऑनलाइन पैसे भेजते हैं इसलिए हम सभी को IMPS के बारे में जानकारी होना आवश्यक है. यदि अभी भी आपके मन में IMPS से जुड़े कोई प्रश्न या डाउट हैं तो आप बेझिझक हमें नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, हम जल्दी ही आपके सवालों का जवाब देने की कोशिस करेंगें.

अंत में आपसे निवेदन करते हैं कि इस लेख को सोशल मीडिया पर अन्य लोगों के साथ भी जरुर शेयर करें. इस लेख में इतना ही, मिलते हैं बहुत जल्द एक और नए लेख में तब तक आप पढ़ते रहिये Techshole ब्लॉग को.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment