लोकल एरिया नेटवर्क क्या है (What Is LAN In Hindi)

LAN Full Form In Hindi:  नेटवर्क कई प्रकार के होते हैं जिनका व्यापक रूप से कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है, उन्हीं में से नेटवर्क का एक सबसे प्रमुख प्रकार LAN है. LAN का इस्तेमाल आपने भी किया होगा. क्योंकि इस नेटवर्क का इस्तेमाल स्कूल, घरों, ऑफिस आदि स्थानों में डेटा को शेयर करने के लिए किया जाता है.

पर क्या आप जानते हैं LAN क्या है, LAN कितने प्रकार का होता है, LAN को बनाने में किस तकनिकी का इस्तेमाल किया जाता है, LAN के उपयोग क्या हैं और LAN के फायदे और नुकसान क्या हैं.

लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) क्या है (What Is Full Form LAN In Hindi)

अगर आप इस प्रकार की सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. इस लेख को पढने के बाद आपके LAN से सम्बंधित सारे Confusion दूर हो जायेंगे.

तो चलिए शुरू करते है इस लेख को और जानते हैं LAN क्या होता है हिंदी में.

LAN क्या है (What is LAN in Hindi)

LAN जिसका फुल फॉर्म लोकल एरिया नेटवर्क होता है, यह एक प्रकार का नेटवर्क है जिसकी मदद से हम एक स्थानीय क्षेत्र में दो या दो से अधिक कंप्यूटर को आपस में कनेक्ट कर सकते हैं.

LAN नेटवर्क का इंटरनेट के रूप में इस्तेमाल घर, ऑफिस, स्कूल, कॉलेज, हवाई अड्डे, रेलवे स्टेशन आदि स्थानों में किया जाता है. एक LAN में कम से कम दो डिवाइस आपस में कनेक्ट हो सकते हैं और अधिकतम हजार डिवाइस को भी हम LAN से Connect कर सकते हैं.

LAN की मदद से फाइल, ईमेल, प्रिंटर, इन्टरनेट एक्सेस आदि Resource को Share किया जा सकता है. LAN का इस्तेमाल आप एक निश्चित एरिया में ही कर सकते हो, अगर आप एरिया से बाहर चले जाते हैं तो आप LAN का इस्तेमाल नहीं कर पाओगे.

LAN बनाने के लिए ज्यादा हार्डवेयर की आवश्यकता नहीं होती है. एक LAN में केबल, एक्सेस पॉइंट, स्विच, राऊटर और अन्य घटक शामिल होते हैं जो उपकरणों को विस्तृत एरिया नेटवर्क (WAN) के माध्यम से आंतरिक सर्वर, वेब सर्वर और अन्य दुसरे LAN से कनेक्ट करने में सक्षम बनाते हैं.

ऑफिस, स्कूल, घरों के लिए LAN सबसे बढ़िया नेटवर्क है क्योंकि इसमें हम हार्डवेयर जैसे प्रिंटर की भी शेयरिंग कर सकते हैं. MAN और WAN नेटवर्क LAN की तुलना में बड़े नेटवर्क होते हैं. LAN 100 मीटर से लेकर 1 किलोमीटर तक के क्षेत्र को Cover कर सकता है.

आमतौर पर LAN में केबल के द्वारा दो या दो से अधिक डिवाइस को आपस में कनेक्ट किया जाता है, लेकिन आज के समय में वायरलेस तरीके से भी LAN नेटवर्क बनाया जाता है.

LAN का पूरा नाम क्या है (LAN Full Form in Hindi )

LAN Full Form in Hindi  – Local Area Network

LAN का पूरा नाम हिंदी में स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क होता है. सामान्य भाषा में इसे लेन भी कहा जाता है.

LAN के प्रकार (Type of LAN in Hindi)

सामान्य तौर पर, LAN दो प्रकार के होते हैं –

  • क्लाइंट सर्वर LAN (Client – Server LAN)
  • पीयर-टू-पीयर LAN (Peer to Peer LAN)

आइये अब इनके बारे में एक – एक कर समझते हैं –

#1 – Client Server LAN (क्लाइंट सर्वर लेन)

क्लाइंट सर्वर LAN में कई सारे डिवाइस (क्लाइंट) एक Central Server के द्वारा आपस में जुड़े होते हैं. सर्वर फाइल स्टोरेज, एप्लिकेशन एक्सेस, डिवाइस एक्सेस और नेटवर्क ट्रैफिक को मैनेज करता है.  क्लाइंट कोई भी कनेक्टेड डिवाइस हो सकता है जो एप्लिकेशन या इंटरनेट एक्सेस करता है. क्लाइंट केबल या वायरलेस कनेक्शन के माध्यम से सर्वर से जुड़ते हैं. Client Server LAN का इस्तेमाल अधिकांश छोटे – बड़े ऑफिस, सरकारी अनुसन्धान, स्कूल, कॉलेज में किया जाता है.

#2 – Peer – to – Peer LAN (पिअर टू पिअर लेन)

जिस प्रकार से Client Server LAN में एक Central Server होता है पर Peer – to – Peer LAN में कोई Central Server नहीं होता है. central सर्वर Client Server LAN में अधिक Workload संभाल सकता है पर Peer – to – Peer LAN में ऐसा नहीं होता है इसलिए ये छोटे होते हैं. P2P LAN में प्रत्येक डिवाइस सामान functioning शेयर करता है. डिवाइस वायर्ड या वायरलेस तरीके से आपस में कनेक्ट रहते हैं. अधिकांश घरों में इस्तेमाल किया जाने वाला नेटवर्क Peer – to – Peer LAN होता है.

LAN बनाने में प्रयोग होने वाली तकनीकी

लोकल एरिया नेटवर्क किसी नेटवर्क में कंप्यूटर और डिवाइस को जोड़ने के लिए वाई-फाई या ईथरनेट का उपयोग करते हैं.

एक विशिष्ट वाई-फाई LAN एक या अधिक वायरलेस एक्सेस पॉइंट Operate करता है जिसमें coverage area के भीतर के डिवाइस कनेक्ट होते हैं. ये एक्सेस प्वाइंट, नेटवर्क ट्रैफिक को मैनेज करते हैं जो कनेक्टेड devices में और उससे प्रवाहित होता है. घर, स्कूल, कार्यालय के लैन में वायरलेस ब्रॉडबैंड या राऊटर एक एक्सेस प्वाइंट का कार्य करते हैं.

एक विशिष्ट ईथरनेट लैन जिसमें एक ईथरनेट केबल होता है जिससे सभी Device जैसे हब, राऊटर आदि जुड़ी होती हैं.

लोकल एरिया नेटवर्क का उपयोग (Uses of LAN in Hindi )

लोकल एरिया नेटवर्क स्कूल, घरों, ऑफिस आदि स्थानों में डेटा शेयरिंग को आसान बनाते हैं. LAN की मदद से हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, इन्टरनेट जैसी महत्वपूर्ण चीजें शेयर कर सकते हैं जिससे कि कम खर्चे में अधिक कार्य हो सकता है. LAN का उपयोग एक स्थानीय क्षेत्र में डेटा शेयरिंग के लिए किया जाता है. इसके साथ ही केन्द्रीय सर्वर में डेटा स्टोर होता है जिससे कि किसी फाइल की Recovery आसान होती है.

लोकल एरिया नेटवर्क के फायदे (Advantage of LAN in Hindi)

LAN के फायदे निम्न हैं –

  • LAN की मदद से हम कंप्यूटर संसाधनों जैसे प्रिंटर, स्कैनर, मोडेम, डीवीडी-रोम ड्राइव आदि को शेयर कर सकते हैं. जिसकी मदद से हमारे हार्डवेयर का खर्चा बच जाता है.
  • LAN की मदद से सॉफ्टवेयर को शेयर कर सकते हैं जिससे हमें प्रत्येक डिवाइस के लिए अलग से सॉफ्टवेयर लाइसेंस लेने की जरुरत नहीं होती है.
  • डेटा और संदेशों को नेटवर्क से जुड़े दूसरे कंप्यूटर के साथ आसानी से साझा किया जा सकता है
  • चूंकि डेटा सर्वर कंप्यूटर पर स्टोर होता है, इसलिए डेटा को केवल एक ही स्थान पर मैनेज करना आसान होता है और डेटा अधिक सुरक्षित भी होता है.
  • लोकल एरिया नेटवर्क सभी यूजर के बीच इन्टरनेट शेयर करने की सुविधा भी प्रदान करता है.

लोकल एरिया नेटवर्क के नुकसान (Disadvantage of LAN in Hindi )

LAN के फायदों के साथ – साथ कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –

  • आरम्भ में LAN को Setup करने में खर्चा ज्यादा होता है. क्योंकि सर्वर बनाने के लिए विशेष प्रकार के सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है और साथ में ईथरनेट केबल, स्विच, हब, राउटर, केबल जैसे संचार डिवाइस महंगे होते हैं.
  • LAN में Privacy नहीं होती है क्योंकि प्रत्येक LAN यूजर दुसरे LAN यूजर के डेटा फ़ाइलों, कंप्यूटर व इन्टरनेट हिस्ट्री को देख सकता है.
  • लोकल एरिया नेटवर्क में LAN एडमिनिस्ट्रेटर की आवश्यकता होती है क्योंकि लोकल एरिया नेटवर्क में सॉफ्टवेयर इंस्टॉलेशन, प्रोग्राम फॉल्ट या हार्डवेयर फेल्योर या केबल डिस्टर्बेंस जैसी समस्याएं होती हैं.
  • LAN एक सीमित क्षेत्र को ही कवर कर सकता है.

LAN से सम्बंधित कुछ सामान्य प्रश्न (FAQ Section)

LAN का फुल फॉर्म क्या है?

LAN का फुल फॉर्म Local Area Network है.

LAN की रेंज कितनी होती है?

LAN की रेंज 100 से 1000 मीटर तक हो सकती है.

LAN की मदद से कितने डिवाइस को कनेक्ट कर सकते हैं?

LAN की मदद से कम से कम 2 डिवाइस को कनेक्ट कर सकते हैं, जरूरत पड़ने पर आप हजारों डिवाइस को भी LAN से Connect कर सकते हैं.

LAN कैसे जुड़ा होता है?

एक वायर्ड LAN सभी डिवाइस को एक साथ जोड़ने के लिए ईथरनेट केबल का इस्तेमाल करता है. और वायरलेस LAN को Wi–Fi का इस्तेमाल करके बनाया जाता है.

LAN की स्पीड कितनी होती है?

LAN की अधिकतम स्पीड 1000 MBps हो सकती है.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: लेन क्या है हिंदी में  

इस लेख को पूरा पढने के बाद आप समझ गए होंगे कि LAN Kya Hai In Hindi. इस लेख में हमने कोशिस की है कि आपको LAN के बारे में अधिक से अधिक जानकारी प्रदान करायी जाए. उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.

5/5 - (1 vote)

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment