Mail सर्वर क्या है प्रकार और काम कैसे करता है (Mail Sever In Hindi)

Mail Server Kya Hai In Hindi: आप लोगों ने कभी न कभी ईमेल जरुर भेजा होगा और आपने यह भी जरुर नोटिस किया होगा कि जब आप इंटरनेट के माध्यम से मेल भेजते हैं तो वह पलक झपकते ही प्राप्तकर्ता के पास पहुँच जाता है. आपको ईमेल भेजना बहुत आसान लगता होगा, पर ईमेल भेजना एक बहुत जटिल प्रक्रिया है जिसमें अनेक प्रोटोकॉल तथा प्रक्रियाओं का इस्तेमाल किया जाता है.

ईमेल को भेजने और प्राप्त करने में सबसे महत्वपूर्ण होते हैं Mail Server. पर क्या आप जानते हैं Mail Server क्या है, मेल सर्वर काम कैसे करता है, मेल सर्वर कितने प्रकार के होते हैं, मेल सर्वर की विशेषताएं क्या हैं तथा मेल सर्वर के फायदे नुकसान क्या हैं.

Mail सर्वर क्या है इसके प्रकार और काम कैसे करता है (Mail Sever In Hindi)

अगर आप मेल सर्वर के विषय में उपरोक्त सभी जानकारी को प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. क्योंकि इस लेख में हमने आपको बहुत ही आसान भाषा में मेल सर्वर की इनफार्मेशन प्रदान की है, और हमें पूरा विश्वाश है कि इस लेख को पढ़ लेने के बाद आपको मेल सर्वर के विषय में जानकारी लेने के लिए किसी अन्य लेख पर नहीं जाना पड़ेगा.

तो चलिए आपका अधिक समय न लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं मेल सर्वर क्या है हिंदी में विस्तार से.

मेल सर्वर क्या है (What is Mail Server in Hindi)

एक मेल सर्वर जिसे कि Email Server भी कहा जाता है, यह एक कंप्यूटर या एप्लीकेशन है जो यूजर के वितरण को आने वाले सभी मेल को स्टोर करता है और फिर उन e-mail को क्लाइंट तक भेजता है. एक Mail Server ईमेल भेजने पर प्राप्त करने के लिए Simple Mail Transfer Protocol (SMTP) का इस्तेमाल करता है.

मेल सर्वर को आप एक पोस्ट ऑफिस की तरह समझ सकते हैं. जिस प्रकार पुराने समय में आप अपने प्रियजन को कोई चिट्ठी लिखते थे तो आपको उसे पहले पोस्ट ऑफिस में देना होता था. पोस्ट ऑफिस उस चिट्ठी पर लिखे एड्रेस के अनुसार चिट्ठी को सही व्यक्ति के पास पहुंचा देता था.

वही पोस्ट ऑफिस के समान कार्य मेल सर्वर करते हैं. एक और जहाँ पोस्ट ऑफिस के द्वारा चिट्ठी भेजने और प्राप्त करने की प्रक्रिया में काफी समय लग जाता था, वहीँ दूसरी ओर उन्नत टेक्नोलॉजी के कारण मेल सर्वर Real Time में ईमेल को क्लाइंट तक पहुंचा देते हैं.

कुल मिलाकर कहें तो मेल सर्वर ऐसे कंप्यूटर सिस्टम होते हैं जो ईमेल को प्राप्त करने और भेजने का कार्य करते हैं.

मेल सर्वर काम कैसे करता है (How Does Mail Server Work in Hindi)

जब आप किसी भी व्यक्ति को ईमेल भेजते हैं तो वह पलक झपकते ही उसके पास पहुँच जाता है. लेकिन एक ईमेल मेल सर्वरों की कई श्रंखला से होकर गुजरता है, जिसमे कई जटिल प्रोटोकॉल और प्रक्रियाएं शामिल होती हैं. एक मेल सर्वर के बेसिक काम करने के तरीके के बारे में हमने आपको समझाया है.

जब आप ईमेल भेजते हैं तो ईमेल भेजने के बाद आपका क्लाइंट सर्वर (जिसे आप ईमेल भेज रहे हैं) आपके डोमेन के SMTP सर्वर से जुड़ जाता है. SMTP एक आउटगोइंग मेल सर्वर है, बिना SMTP के आपके मेल कहीं भी नहीं जायेंगे.

आपका ईमेल क्लाइंट SMTP सर्वर के साथ संचार करता है, और इसे आपका ईमेल एड्रेस, प्राप्तकर्ता का ईमेल एड्रेस, संदेश का मुख्य भाग और कोई अटैचमेंट देता है.

SMTP सर्वर प्राप्तकर्ता के ईमेल एड्रेस को प्रोसेस करता है और यदि डोमेन नाम sender के समान होता है तो इसे सीधे POP3 या IMAP सर्वर पर भेज दिया जाता है, और इस प्रकार क्लाइंट को ईमेल प्राप्त हो जाता है.

लेकिन यदि डोमेन नाम अलग होता है तो प्राप्तकर्ता (recipient) के सर्वर को खोजने के लिए, sender के SMTP सर्वर को DNS या डोमेन नाम सर्वर के साथ संचार करना पड़ता है. DNS प्राप्तकर्ता का ईमेल डोमेन नाम लेता है और उसे एक IP एड्रेस में ट्रांसलेट करता है.

Sender का SMTP सर्वर अकेले डोमेन नाम के साथ ईमेल को ठीक से रूट नहीं कर सकता है, एक आईपी एड्रेस एक यूनिक नंबर होता है जो इंटरनेट से जुड़े हर कंप्यूटर को दिया जाता है. IP एड्रेस के द्वारा ही एक आउटगोइंग मेल सर्वर अपना काम अधिक कुशलता से कर सकता है.

अब जब SMTP सर्वर के पास प्राप्तकर्ता का IP एड्रेस है, तो वह अपने SMTP सर्वर से जुड़ जाता है. यह आमतौर पर सीधे नहीं किया जाता है, इसके बजाय ईमेल को असंबंधित SMTP सर्वरों की एक श्रृंखला के साथ तब तक रूट किया जाता है जब तक कि वह अपने Destination पर नहीं पहुंच जाता.

प्राप्तकर्ता का SMTP सर्वर आने वाले ईमेल को स्कैन करता है, यदि यह डोमेन और यूजर नाम को पहचानता है, तो यह ईमेल को डोमेन के POP3 या IMAP सर्वर पर अग्रेषित करता है. वहां से, इसे एक send mail कतार में रखा जाता है जब तक कि प्राप्तकर्ता का ईमेल क्लाइंट इसे डाउनलोड करने की अनुमति नहीं देता. उस समय, संदेश प्राप्तकर्ता द्वारा पढ़ा जा सकता है. एक ईमेल को भेजने के लिए इतनी जटिल प्रोसेस होती है.

मेल सर्वर के प्रकार (Types of Mail Server in Hindi)

मेल सर्वर को मुख्य रूप से दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है. आउटगोइंग और इनकमिंग मेल सर्वर.

1 – आउटगोइंग मेल सर्वर (Outgoing Mail Server)

आउटगोइंग मेल सर्वर को SMTP (Simple Mail Transfer Protocol) मेल सर्वर के नाम से भी जाना जाता है, यह भेजे जाने वाले ईमेल requests को हैंडल करता है और ईमेल भेजता है.

2 – इनकमिंग मेल सर्वर (Incoming Mail Server)

इनकमिंग मेल सर्वर ऐसे सर्वर को कहते हैं जो मेल को क्लाइंट तक पहुंचाने में मदद करते हैं, या फिर ईमेल को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण होते हैं. इनकमिंग मेल सर्वर भी दो प्रकार के होते हैं. POP3 और IAMP.

POP3, या पोस्ट ऑफिस प्रोटोकॉल वर्शन 3, सर्वर कंप्यूटर की लोकल हार्ड ड्राइव पर भेजे और प्राप्त ईमेल को स्टोर करते हैं.

IAMP या इंटरनेट संदेश एक्सेस प्रोटोकॉल, सर्वर हमेशा सर्वर पर संदेशों की Copies को स्टोर करते हैं. अधिकांश POP3 सर्वर संदेशों को सर्वर पर भी स्टोर कर सकते हैं.

मेल सर्वर की विशेषताएं (Feature of Mail Server in Hindi)

Mail Server की प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं –

  • मेल सर्वर SSL/ TLS सपोर्ट के साथ SMTP/ POP3 / IMAP / HTTP और प्रॉक्सी सर्विस की सेवाएं प्रदान करता है.
  • मेल सर्वर में प्रभावी एंटी स्पैम की सुविधा होती है जिसे आप अपने बिज़नस के अनुरूप बना सकते हैं.
  • मेल सर्वर में मेल क्लाइंट ऑटो-कॉन्फ़िगर सपोर्ट होता है.
  • मेल सर्वर में तेज और Powerful मैसेज प्रोसेसिंग होती है.
  • Administer मेल सर्वर को आसानी से Set up कर सकता है.
  • मेल सर्वर लगभग सब ही प्रकार के एंटी वायरस को सपोर्ट करते हैं.
  • एक व्यापक मेल सर्वर कार्यान्वयनके लिए कई डोमेन और मेलबॉक्स को सपोर्ट करता है.
  • मेल सर्वर की लागत अधिक होती है.

मेल सर्वर के फायदे (Advantage of Mail Server in Hindi)

मेल सर्वर के अनेक सारे फायदे यूजर को मिलते हैं जिनमें से कुछ प्रमुख निम्नलिखित हैं.

  • प्रत्येक व्यक्ति अपने बिज़नस को ईमेल के द्वारा अधिक सुविधाजनक बना सकता है.
  • ईमेल सर्वर के द्वारा केवल authorized people ही ईमेल को भेज सकता है या प्राप्त कर सकता है.
  • ईमेल सर्वर स्पैम ईमेल को Inbox में भेजने से पहले ही फ़िल्टर कर देते हैं.
  • ईमेल सर्वर के द्वारा भिन्न प्रकार का डेटा सुरक्षित साझा किया जा सकता है.

मेल सर्वर के नुकसान (Disadvantage of Mail Server in Hindi)

मेल सर्वर के कुछ नुकसान भी होते हैं जैसे कि –

  • ईमेल सर्वर को मैनेज करने के लिए तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है.
  • छोटे व्यवसायों के लिए ईमेल सेवा अधिक लागत प्रभावी हो सकती है.

FAQ: Mail Server Kya Hai In Hindi

मेल सर्वर क्या है?

मेल सर्वर ऐसे कंप्यूटर सिस्टम होते हैं जो ईमेल को भेजने और प्राप्त करने का कार्य करते हैं.

SMTP मेल सर्वर क्या होता है?

SMTP (Simple Mail Transfer Protocol) ऐसा मेल सर्वर होता है जिसका इस्तेमाल ईमेल को भेजने के लिए किया जाता है.

POP3 मेल सर्वर क्या होता है?

POP3 (Post Office Protocol, Version 3) ऐसे मेल सर्वर होते हैं जो कंप्यूटर की हार्ड डिस्क पर भेजे गए और प्राप्त किये गए ईमेल को स्टोर करते हैं.

ईमेल करने के लिए किस प्रोटोकॉल का इस्तेमाल किया जाता है?

ईमेल भेजने और प्राप्त करने के लिए SMTP प्रोटोकॉल का इस्तेमाल किया जाता है.

इन्हें भी पढ़े

आपने सीखा: मेल सर्वर क्या है हिंदी में

इस लेख में हमने आपको Mail Server in Hindi, यह काम कैसे करता है, मेल सर्वर की विशेषता, प्रकार, फायदे व नुकसानों के बारे में विस्तृत जानकारी दी है. हमें पूरी उम्मीद है कि अगर आपने इस लेख को ध्यानपूर्वक पूरा अंत तक पढ़ा है तो आपको मेल सर्वर के बारे में सभी जानकारी प्राप्त हो गयी होगी.

अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, और अगर इस लेख से जुड़े आपके कोई प्रश्न या सुझाव हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं.

5/5 - (1 vote)

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment