मेनफ़्रेम कंप्यूटर क्या है (उपयोग और उदाहरण) Mainframe Computer In Hindi

Mainframe Computer Kya Hai in Hindi: अपने कार्यक्षमता और आकार के आधार पर कंप्यूटर अनेक प्रकार के होते हैं, जिनमें से कंप्यूटर का एक प्रकार मेनफ़्रेम कंप्यूटर है. मेनफ़्रेम कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े होने के साथ बहुत तेजी से अनेक कार्यों को एक साथ करने में सक्षम होते हैं. इसलिए इनका प्रयोग कुछ विशेष स्थानों में ही किया जाता है.

पर क्या आप जानते हैं Mainframe Computer क्या है, मेनफ़्रेम कंप्यूटर को किसने बनाया, मेनफ़्रेम कंप्यूटर के कॉम्पोनेन्ट कौन से हैं, मेनफ़्रेम कंप्यूटर की विशेषतायें क्या हैं, मेनफ़्रेम कंप्यूटर का उपयोग कहाँ किया जाता है तथा मेनफ़्रेम कंप्यूटर के फायदे और नुकसान क्या हैं.

अगर आपको मेनफ़्रेम कंप्यूटर के बारे में उपरोक्त सभी इनफार्मेशन नहीं है तो इस लेख को पूरा पढ़ें, इस लेख में हमने आपको मेनफ़्रेम कंप्यूटर से जुड़े हर एक पहलुओं पर विस्तार से बताया है. तो चलिए अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं आज का यह लेख.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर क्या है (Mainframe Computer in Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

Mainframe Computer एक बड़ी आकार वाले मशीन होते हैं जिसमे उच्च मेमोरी, विशाल स्टोरेज और बहुत उच्च ग्रेड के प्रोसेसर होते हैं. सामान्य डिजिटल कंप्यूटर की तुलना में मेनफ़्रेम कंप्यूटर बहुत तेज और शक्तिशाली होते हैं.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर क्या है (उपयोग और उदाहरण) Mainframe Computer In Hindi

यह काफी तेजी से डेटा को प्रोसेस करते हैं इसलिए इनका उपयोग बैंकिंग, सरकारी विभाग, बड़ी कंपनियों, वैज्ञानिक अनुसंधान और जनगणना डेटा आदि में एक centralized machine के रूप में किया जाता है. मेनफ़्रेम कंप्यूटर ultra speed पर एक साथ कई कार्यों को करने में सक्षम हैं, इन कंप्यूटर में एक साथ सैकड़ों यूजर काम कर सकते हैं.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े होते हैं. एक सामान्य मेनफ़्रेम कंप्यूटर 2000 Square feet से लेकर 10000 Square feet तक के एरिया को कवर कर सकते हैं. इनकी स्टोरेज क्षमता भी बहुत अधिक होती हैं. माइक्रो कंप्यूटर और मिनी कंप्यूटर की तुलना में मेनफ़्रेम कंप्यूटर बहुत महंगे होते हैं. इस लिए इन्हें मेनफ़्रेम कंप्यूटर कहते है.

हालांकि मेनफ़्रेम कंप्यूटर माइक्रो कंप्यूटर और मिनी कंप्यूटर से बहुत शक्तिशाली होते हैं, लेकिन एक सुपर कंप्यूटर के जितनी पॉवर मेनफ़्रेम कंप्यूटर में नहीं होती है.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर का इतिहास (History of Mainframe Computer)

कई शोधों के अनुसार दुनिया का पहला मेनफ़्रेम कंप्यूटर Harvard Mark I था, जिसे कि 1930 में Howard Aiken ने विकसित किया था, जो कि Harvard में एक Researcher थे. यह कंप्यूटर 1943 में बनकर तैयार हुआ. यह आकार में एक पूरे कमरे जितना बड़ा था और इसका वजन 5 टन था.

1945 में ENIAC (इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर एंड कंप्यूटर) मेनफ़्रेम कंप्यूटर बनकर तैयार हुआ इसे J. Presper Eckert और John Mauchly ने विकसित किया.

ENIAC के निर्माण के बाद Eckert और Mauchly ने EDVAC (इलेक्ट्रॉनिक डिस्क्रीट वेरिएबल ऑटोमैटिक कंप्यूटर) के निर्माण का प्रस्ताव रखा जिसमें कई Logical सुधार शामिल थे, EDVAC 1949 में बनकर पूरा हुआ और 1951 में इसने काम करना शुरू किया.

1951 में इन दोनों अविष्कारकों ने UNIVAC I (Universal Automatic Computer I) मेनफ़्रेम कंप्यूटर को अमेरिका में विकसित किया. आज मेनफ़्रेम कंप्यूटर के प्रमुख और लोकप्रिय विक्रेता IBM, Hitachi, Amdahl, और Unisys हैं.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के उदाहरण (Example of Mainframe Computer)

आज के समय में मेनफ़्रेम कंप्यूटर के अनेक उदाहरण मौजूद हैं, हमने नीचे आपको कुछ लोकप्रिय मेनफ़्रेम कंप्यूटर उदाहरणों के बारे में बताया है.

  • IBM z Series – IBM z15, IBM z14, IBM System z13, IBM System z10, IBM System z9 etc.
  • Tianhe-1A; NUDT YH Cluster
  • Jaguar; Cray XT5
  • Nebulae; Dawning TC3600 Blad
  • IBM 370, S/390
  • Fujitsu’s ICL VME
  • Hitachi’s Z800
  • I Series System

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के घटक (Component of Mainframe Computer)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर की अच्छी Performance को बनाये रखने के लिए इसके कॉम्पोनेन्ट बहुत महत्वपूर्ण हैं. इस लेख में आगे हमने मेनफ़्रेम कंप्यूटर के कुछ महत्वपूर्ण घटक के बारे में आपको बताया है.

1 – Processing Unit (प्रसंसकरण इकाई)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर में Processing Unit CPU होता है. CPU विभिन्न कॉम्पोनेन्ट और प्रत्येक चैनल के लिए इंटरफ़ेस होता है सभी चैनल इनपुट/आउटपुट टर्मिनल और मेमोरी मॉड्यूल के बीच संचार माध्यम के रूप में काम करते हैं.

2 – Control Unit (नियंत्रक इकाई)

कण्ट्रोल यूनिट को bus भी कहा जाता है, मेनफ़्रेम कंप्यूटर में विभिन्न उपकरणों जैसे टेप, डिस्क आदि के लिए अनेक Bus होते हैं.

3 – Storage Unit (स्टोरेज यूनिट)

Storage Unit का उपयोग विभिन्न कार्यों के लिए किया जाता है, जैसे डेटा स्टोर करना, डेटा retrieve करना, डेटा एक्सेस करना आदि. स्टोरेज यूनिट में कई डिवाइस होते हैं जैसे हार्ड ड्राइव, टेप ड्राइव, पंच कार्ड आदि, और इन सभी को कण्ट्रोल करने का कार्य CPU का होता है.

4 – Multiprocessors (मल्टीप्रोसेसर)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर में कई सारे प्रोसेसर होते हैं जो बड़े पैमाने पर डेटा को कम Time Frame में प्रोसेस करते हैं.

5 – Cluster Controller System (क्लस्टर नियंत्रक प्रणाली)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर में यह एक विशेष उपकरण होता है जो चैनल टर्मिनल को होस्ट टर्मिनल सिस्टम से जोड़ने का काम करता है.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर की विशेषतायें (Feature of Mainframe Computer)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर की कुछ प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं –

  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर आकार में मिनी और माइक्रो कंप्यूटर से बहुत बड़े होते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर यूजर को बड़ी मात्रा में डेटा को एक साथ प्रोसेस करने की अनुमति देते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर लंबे समय तक काम कर सकते हैं, इन्हें एक बार स्थापित करने के बाद ये लगभग 50 – 60 सालों तक सुचारू रूप से काम कर सकते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर पर एक साथ कई यूजर काम कर सकते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर में एक साथ कई प्रोग्राम को execute किया जा सकता है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर की मेमोरी बहुत अधिक होती है जिसके कारण यह बेहतर performance देते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर centralized computing सिस्टम को सपोर्ट करते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर विभिन्न जटिल ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे UNIX, VMS आदि को मैनेज करने में सक्षम हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर में डेटा प्रोसेसिंग के दौरान कोई बग या एरर होनी की संभावना कम रहती है, क्योकि ये सभी प्रकार के बग को सिस्टम में घुसने नहीं देते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर में virtual storage सिस्टम का इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर लगभग सभी प्रकार के इनपुट डिवाइस और आउटपुट डिवाइस को सपोर्ट करते हैं.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के उपयोग (Uses of Mainframe Computer)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर का उपयोग कई अलग – अलग क्षेत्रों में किया जाता है, जिनके बारे में हमने आपको लेख में नीचे बताया है.

  • चिकित्सा के क्षेत्र में हॉस्पिटल लाखों मरीजों की बीमारी, दवाई और उनके appointment schedule से सम्बंधित सभी रिकॉर्ड को रखने के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर का इस्तेमाल करती है.
  • रक्षा क्षेत्र में, मेनफ्रेम कंप्यूटर सिस्टम का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों जैसे भूमि, जहाज, विमानों आदि के साथ-साथ बड़े पैमाने पर सूचनाओं को भेजने के लिए किया जाता है.
  • बड़े विश्वविद्यालय में कर्मचारियों, Student, शिक्षकों आदि का डेटा ट्रैक करने के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है. मेनफ़्रेम कंप्यूटर सभी रिकॉर्ड को स्टोर करके रखता है.
  • बैंकिंग क्षेत्र में पैसों की लेन – देन, ग्राहकों के खाते के रिकॉर्ड आदि के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर इस्तेमाल किये जाते हैं.
  • बड़ी – बड़ी कंपनियां Bulk में डेटा प्रोसेस करने के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर का इस्तेमाल करती हैं.
  • E-Business में प्रोडक्ट का रिकॉर्ड रखने के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर इस्तेमाल किये जाते हैं.
  • रेलवे और एयरलाइन्स में टिकट के reservation में भी मेनफ़्रेम कंप्यूटर उपयोग किये जाते हैं.
  • इसके अलावा भी अनेक कार्यों के लिए मेनफ़्रेम कंप्यूटर उपयोग में लाये जाते हैं, जैसे कि जनगणना करने, टेलीकम्यूनिकेशन में, फाइनेंस सेक्टर में, अनुसंधान केन्द्रों आदि में भी मेनफ़्रेम कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के फायदे (Advantage of Mainframe Computer)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर की कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं.

  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर सभी प्रकार के कंप्यूटर वायरस, मैलवेयर आदि से कड़ी सुरक्षा प्रदान करते हैं.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर Ultra Computing स्पीड के साथ जटिल एप्लीकेशन को चलाने में सक्षम है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर लंबे समय तक चल सकते हैं.
  • मेनफ़्रेम की स्टोरेज यूनिट बहुत बड़ी होती है इसलिए इसमें  बड़े पैमाने पर डेटा स्टोर किया जाता है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर अधिक सुरक्षित होते हैं और बड़ी मात्रा में डेटा को मैनेज कर सकते हैं, इसलिए इनका इस्तेमाल बड़ी कंपनियों, सरकारी विभागों आदि में किया जाता है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर एक साथ कई ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट कर सकते हैं. 

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के नुकसान (Disadvantage of Mainframe Computer)

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं, जो कि निम्नलिखित हैं.

  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर बहुत महंगे होते हैं, इनका उपयोग घरों में, छोटे ऑफिस या स्कूलों में नहीं किया जा सकता है.
  • वैसे मेनफ़्रेम सभी ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करते हैं लेकिन इन्हें चलाने के लिए विशेष प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है.
  • आकार में बड़े होने के कारण मेनफ़्रेम कंप्यूटर को एक स्थान से दुसरे स्थान में स्थापित करना मुश्किल है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर को चलाने के लिए प्रशिक्षित व्यक्तियों की एक टीम होती है. बिना प्रक्षिक्षण के मेनफ़्रेम कंप्यूटर का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर की Maintenance भी बहुत खर्चीला है.
  • सुपर कंप्यूटर की तरह मेनफ़्रेम बहुत जटिल समीकरणों को हल नहीं कर सकते हैं.
  • यह अधिक संसाधनों की खपत करता है.

FAQ: Mainframe Computer Kya Hai

पहला मेनफ़्रेम कंप्यूटर कौन सा था?

दुनिया का पहला मेनफ़्रेम कंप्यूटर Harvard Mark I था, जिसे कि 1930 से बनाना शुरू किया और 1943 में जाकर यह पूरा हुआ.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर आकार में कैसे होते हैं.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े होते हैं, जो कि एक कमरे की जितनी जगह घेर लेते हैं. एक सामान्य मेनफ़्रेम कंप्यूटर 2000 Square feet से लेकर 10000 Square feet तक के एरिया को कवर कर सकता है.

मेनफ्रेम कम्प्यूटर का उपयोग किन कार्यों के लिए और कहाँ किया जाता है?

मेनफ़्रेम कंप्यूटर में उपयोग अधिकतर बड़ी कंपनियों में, बैंकिंग, डिफेंस, चिकत्सा आदि के क्षेत्र में किया जाता है. मेनफ़्रेम कंप्यूटर का उपयोग ऐसे कार्यों के लिए किया जाता है जहाँ बहुत कम समय में बड़े पैमाने पर डेटा प्रोसेस करने की आवश्यकता होती है.

मेनफ्रेम कंप्यूटर के कितने बिट्स होते है?

एक मेनफ़्रेम कंप्यूटर में 48, 60 या 64 बिट्स हो सकते हैं.

इन्हें भी पढ़े 

निष्कर्ष: मेनफ़्रेम कंप्यूटर क्या है हिंदी में

इस लेख के माध्यम से हमने आपको Mainframe Computer Kya Hai in Hindi के बारे में विस्तृत जानकारी दी है. हमने पूरी कोशिस की है कि आपको मेनफ्रेम कंप्यूटर के बारे में एक छोटी से छोटी चीज के बारे में भी बता सकें. अगर लेख को पूरा पढने के बाद भी आपके मन में मेनफ्रेम कंप्यूटर से जुड़े कोई सवाल हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, हम जल्दी ही आपका जवाब देने की कोशिस करेंगे.

इस लेख में इतना ही, उम्मीद करते हैं आपको यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, ताकि उन्हें भी मेनफ़्रेम कंप्यूटर के बारे में जानने को मिले.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

1 thought on “मेनफ़्रेम कंप्यूटर क्या है (उपयोग और उदाहरण) Mainframe Computer In Hindi”

  1. really halpfull information , thanks for this
    without operating system the computer is a bare machine that is hardware cannot be put into use.
    can you describe it for me .

    Reply

Leave a Comment