नेटवर्क क्या है और इसके प्रकार (What is Network in Hindi)

Network Kya Hai in Hindi: आज के समय में हर कोई व्यक्ति नेटवर्क का इस्तेमाल करता है चाहे वह मोबाइल नेटवर्क हो या कंप्यूटर नेटवर्क है. बिना नेटवर्क के हम दूर बैठे किसी व्यक्ति से आसानी से बात कर सकते हैं. अपनी इमेज, विडियो आदि शेयर कर सकते हैं.

पर कभी आपके मन में ये सवाल आया कि Network क्या है, नेटवर्क कितने प्रकार का होता है, नेटवर्क के उपयोग क्या हैं और नेटवर्क के फायदे और नुकसान क्या है. अगर आपके मन में ऐसे ही सवाल आते हैं और आप इनका जवाब जानना चाहते हो तो आप एकदम सही लेख पर आये हो.

नेटवर्क क्या है और इसके प्रकार (What is Network in Hindi) PAN,LAN,MAN,WAN Network

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको आसान शब्दों में नेटवर्क के बारे में बताने वाले हैं, इस लेख को पढने के बाद आपको Network क्या होता है के बारे में समझने में आसानी होगी. तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं नेटवर्क किसे कहते हैं हिंदी में.

नेटवर्क क्या है (What is Network in Hindi)

जब दो या दो से अधिक कंप्यूटर Wire या Wireless तरीके से आपस में जुड़कर संचार स्थापित करते हैं, तथा सूचनाओं और संसाधनों का आदान – प्रदान करते हैं तो उसे नेटवर्क कहा जाता है. कंप्यूटरों के आपस में जुड़ने को ही हम नेटवर्क कहते हैं.

नेटवर्क बनाने के लिए हम वायर या वायरलेस तरीके का इस्तेमाल कर सकते हैं. वायर में हम दो कंप्यूटर को Coaxial cable, Fiber Optics Cable के द्वारा कनेक्ट कर सकते हैं. वही वायरलेस तरीके में हम नेटवर्क बनाने के लिए WiFi, ब्लूटूथ, Satellite आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं.

नेटवर्क के इस्तेमाल से हम कंप्यूटर के बीच विडियो, इमेज, टेक्स्ट आदि आसानी से शेयर कर सकते हैं. नेटवर्क का सबसे बढ़िया उदाहरण इंटरनेट है.

सीधे शब्दों में कहें तो कंप्यूटिंग में नेटवर्क दो या दो से अधिक डिवाइस का समूह होता है जिनके द्वारा हम कम्युनिकेशन कर सकते हैं. नेटवर्क में भौतिक रूप से या वायरलेस कनेक्शन से जुड़े कंप्यूटरों का समूह होता है. 

नेटवर्क का इतिहास (History of Network in Hindi)

नेटवर्क की शुरुवात 1960 के दशक में हो गयी थी. 1960 के शुरुवात में US Department of Defense ने दुनिया का पहला कंप्यूटर नेटवर्क बनाया था जिसका नाम ARPANET (Advance Research Project Agency Network) था.

ARPANET के द्वारा वायर की मदद से 4 विश्वविध्यालयों के कंप्यूटर को आपस में जोड़ा गया था, जिसमें UCLA, SRI, UCSB और University of Utah के कंप्यूटर शामिल थे. 29 अक्टूबर 1969 को ARPANET के माध्यम से पहला संदेश भेजा गया था.

धीरे – धीरे इस नेटवर्क में और भी सुधार हुए और इसे अधिक Develop किया गया. आगे चलकर यह विश्व का सबसे बड़ा नेटवर्क बन गया जिसे कि आज हम इन्टरनेट के नाम से जानते हैं.

नेटवर्क के प्रकार (Type of Network in Hindi)

नेटवर्क अनेक प्रकार के हो सकते हैं और प्रत्येक नेटवर्क की बनावट, कार्यक्षमता अलग – अलग हो सकती है. नेटवर्क को हम मुख्य रूप से चार भागों में बाँट सकते हैं –

  • PAN (Personal Area Network)
  • LAN (Local Area Network)
  • MAN (Metropolitan Area Network)
  • WAN (Wide Area Network)

#1 – PAN (Personal Area Network)

Personal Area Network सबसे छोटा नेटवर्क होता है. इसकी मदद से एक घर या बिल्डिंग में दो या दो से अधिक कंप्यूटर को आपस में जोड़कर नेटवर्क बना सकते हैं. PAN की मदद से कोई व्यक्ति अपने स्मार्टफ़ोन, कंप्यूटर आदि को एक डिवाइस से नियंत्रित कर सकता है. 

#2  – LAN (Local Area Network)

Local Area Network एक स्थानीय स्तर पर काम करने वाला नेटवर्क है. घर, स्कूल, ऑफिस आदि स्थानों पर LAN का इस्तेमाल किया जाता है. LAN सबसे Popular कंप्यूटर नेटवर्क में से एक है. इस नेटवर्क का इस्तेमाल आप एक निश्चित क्षेत्र में कर सकते हो. लगभग 10 किलोमीटर क्षेत्रफल तक के कंप्यूटर को आपस में जोड़कर आप डेटा का आदान – प्रदान कर सकते हो.

एक LAN में हम कम से कम 2 कंप्यूटर से लेकर 1000 कंप्यूटर तक को आसानी से जोड़कर नेटवर्क बना सकते हैं. अधिकतर LAN में Wire का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन आज के समय में Wireless तरीके से भी LAN को बना सकते हैं.

Local Area Network की स्पीड बहुत अच्छी होती है और इसे बनाने में खर्चा भी कम लगता है. साथ में ही LAN की सिक्योरिटी भी अच्छी होती है. इसमें नेटवर्क बनाने के लिए हब, स्विच, ईथरनेट केबल, राऊटर और नेटवर्क एडाप्टर की जरुरत पड़ती है.

#3 – MAN (Metropolitan Area Network)

Metropolitan Area Network ऐसा नेटवर्क होता है जो कि पुरे शहर के कंप्यूटर को आपस से जोड़ता है. एक शहर में जितने भी कॉलेज, स्कूल, सरकारी दफ्तर होते हैं MAN उन सभी के नेटवर्क को जोड़ कर रखता है. Metropolitan Area Network LAN की तुलना में बड़ा होता है.

MAN की मदद से आप 10 से लेकर 1000 किलोमीटर क्षेत्रफल तक के कंप्यूटरों को आपस में जोड़ सकते हैं. MAN का सबसे बढ़िया उदाहरण केबल TV नेटवर्क है. दो या दो से अधिक LAN को आपस में कनेक्ट करने के लिए MAN का इस्तेमाल किया जाता है. 

#4  – WAN (Wide Area Network)

Wide Area Network क्षेत्रफल की द्रष्टि से सबसे बड़ा नेटवर्क होता है. यह नेटवर्क पुरे विश्व के कंप्यूटर को आपस में जोड़े रखता है. WAN की मदद से पुरे विश्व के कंप्यूटर को आपस में जोड़ कर आसानी से डेटा का आदान – प्रदान कर सकते हैं. WAN में डेटा rate कम होता है क्योंकि यह बहुत बड़े एरिया को कवर करता है.

WAN को LAN और MAN को जोड़कर बनाया गया है. इन्टरनेट WAN का सबसे बढ़िया उदाहरण है. इन्टरनेट के अलावा भी बहुत सारे Wide Area network हैं जैसे कि बैंकिंग नेटवर्क, रेलवे नेटवर्क, एयरलाइन्स नेटवर्क आदि.

नेटवर्क में इस्तेमाल होने वाले डिवाइस

नेटवर्क को बनाने के लिए बहुत सारे डिवाइस आपस में कनेक्ट रहते हैं. नेटवर्क में इस्तेमाल आने वाली कुछ प्रमुख डिवाइस निम्न प्रकार से हैं –

कंप्यूटर नेटवर्क के उपयोग (Uses of Network in Hindi)

कंप्यूटर नेटवर्क का इस्तेमाल निम्न कार्यों के लिए किया जाता है –

  • नेटवर्क की मदद से एक कंप्यूटर दुसरे कंप्यूटर के साथ आसानी से डेटा का आदान – प्रदान कर सकता है.
  • नेटवर्क के इस्तेमाल से Communication  करना बहुत ही आसान हो गया है. हम दूर बैठे किसी व्यक्ति से ऐसे बात कर सकते हैं जैसे कि वह हमारे पास में ही हो.
  • नेटवर्क की मदद से हम डेटा के साथ – साथ संसाधनों को भी शेयर कर सकते है.
  • नेटवर्क का उपयोग सॉफ्टवेयर को शेयर करने के लिए भी किया जाता है.

नेटवर्क के फायदे (Advantage of Network in Hindi)

एक कंप्यूटर नेटवर्क के बहुत सारे फायदे हैं जो कि निम्न प्रकार से हैं –

  • नेटवर्क की मदद से हम कम्युनिकेशन करना बहुत ही आसान है. लोग अन्य लोगों के समूहों के साथ आसानी से communicate कर सकते हैं.
  • नेटवर्क के माध्यम से हम किसी भी फाइल का आदान – प्रदान बहुत ही आसानी के साथ कर सकते हैं.
  • नेटवर्क का सबसे बड़ा फायदा यह भी है कि हम हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों को शेयर कर सकते हैं. जैसे प्रिंटर को एक नेटवर्क में यूजर के बीच में शेयर किया जा सकता है.
  • नेटवर्क में डेटा को ट्रान्सफर करने की स्पीड बहुत ही Fast होती है.
  • नेटवर्क पर हम किसी संवेदनशील फाइल को पासवर्ड के द्वारा भी सुरक्षित कर सकते हैं.

नेटवर्क के नुकसान (Disadvantage of Network in Hindi)

जिस प्रकार से एक सिक्के के दो पहलु होते हैं उसी प्रकार से नेटवर्क के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं. नेटवर्क के कुछ नुकसान निम्न हैं –

  • नेटवर्क में हैकिंग का खतरा भी होता है.
  • नेटवर्क में कंप्यूटर वायरस एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर में आसानी से फ़ैल सकते हैं.
  • एक बड़े नेटवर्क का प्रबंधन करना बहुत ही जटिल होता है इसके लिए training की आवश्यकता होती है.
  • नेटवर्क बनाने के लिए network cabling और file servers की कीमत महंगी हो सकती है.

इन्हें भी पढ़े 

FAQ For Network in Hindi

नेटवर्क क्या होता है?

जब दो या दो से अधिक कंप्यूटर को वायर या वायरलेस तरीके से आपस में जोड़ा जाता है तो इसे ही नेटवर्क कहते हैं.

दुनिया का पहला नेटवर्क कौन सा है?

ARPANET दुनिया का पहला नेटवर्क है जिसे 1960 के दशक में बनाया गया था.

नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है?

एक नेटवर्क टोपोलॉजी एक नेटवर्क के Layout का वर्णन करता है. नेटवर्क में विभिन्न डिवाइस कैसे जुड़े हैं, वे कैसे Communicate कर रहे हैं आदि की जानकारी रखना नेटवर्क टोपोलॉजी कहलाता है. कंप्यूटर के आपस में जुड़ने के तरीके को ही नेटवर्क टोपोलॉजी कहते हैं.

नेटवर्क कितने प्रकार के होते हैं?

अपनी बनावट, कार्यक्षमता और शैली के आधार पर नेटवर्क विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं. जिनमें से कुछ प्रमुख निम्न हैं – PAN (Personal Area Network), LAN (Local Area Network), MAN (Metropolitan Area Network), WAN (Wide Area Network).

किस नेटवर्क डिवाइस का कनेक्शन सबसे धीमा है.

डायल-अप मोडेम (Dial-up modems) नेटवर्क डिवाइस का कनेक्शन सबसे धीमा है.

आपने सीखा: नेटवर्क क्या है हिंदी में

इस लेख के माध्यम से हमने आपको बहुत ही आसान शब्दों में बताया कि Network Kya Hai In Hindi, जिसे पढ़कर आपको भी नेटवर्क के बारे में ज्ञान मिला होगा. लेख का निष्कर्ष निकालें तो दो या दो से अधिक कंप्यूटर के आपस में जुड़ने को ही नेटवर्क कहते हैं जिसके द्वारा हम संचार बना सकते हैं, डेटा और संसाधनों का आदान – प्रदान कर सकते हैं.

उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस What Is Network In Hindi लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें और इसी प्रकार के ज्ञानवर्धक लेख पढने के लिए हमारे ब्लॉग में आते रहिये.  

5/5 - (2 votes)

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment