ऑप्टिकल फाइबर केबल क्या है (Optical Fiber Cable in Hindi)

Optical Fiber Cable In Hindi: आज के इस लेख में हम जानेंगे Optical Fiber Cable क्या है, ऑप्टिकल फाइबर केबल कितने प्रकार की होती है, ऑप्टिकल फाइबर केबल के उपयोग, ऑप्टिकल फाइबर केबल काम कैसे करती है, ऑप्टिकल फाइबर केबल का अबिष्कार किसने किया तथा ऑप्टिकल फाइबर केबल के फायदे नुकसान क्या हैं.

आज हम इतनी तेजी के साथ इंटरनेट अपने डिवाइस में चलाते हैं, इसके पीछे फाइबर ऑप्टिक्स केबल का अहम् योगदान है. ऑप्टिकल फाइबर केबल लगभग प्रकाश की गति के 70 प्रतिशत तक की स्पीड से डाटा ट्रांसमिट करती है. जिससे कि यह बहुत कम समय अंतराल में बड़ी मात्र में डाटा ट्रांसमिट करने में समर्थ है.

इंटरनेट का जाल बिछाने के लिए इन्हीं ऑप्टिकल फाइबर केबल का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए आपको ऑप्टिकल फाइबर केबल के बारे में जरुर जानना चाहिए. इस लेख में आपको ऑप्टिकल फाइबर केबल के बारे में बहुमूल्य जानकारी प्राप्त होने वाली है, इसलिए इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें.

तो चलिए हम बिना समय गंवाए शुरू करते हैं इस लेख को और सबसे पहले जानते हैं ऑप्टिकल फाइबर केबल का हिंदी मतलब क्या होता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल क्या है और कैसे काम करता है (Optical Fiber Cable in Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर का अर्थ (Optical Fiber Meaning in Hindi)

अनुक्रम दिखाएँ

ऑप्टिकल फाइबर दो शब्दों से मिलकर बना है जिसमें Optical का मतलब प्रकाश होता है और Fiber का मतलब तार होता है. Optical Fiber का शाब्दिक अर्थ होता है प्रकाश का तार. Optical Fiber ग्लास या प्लास्टिक की बनी एक पतली केबल होती है, जिसमें Light का इस्तेमाल करके डाटा ट्रांसमिट किया जाता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल क्या है (What is Optical Fiber Cable in Hindi)

Optical Fiber Cable जिसे कि Fiber Optics Cable के नाम से भी जाना जाता है, यह सिलिका ग्लास या प्लास्टिक की बनी लचीली केबल होती है, जिसमें light pulse का इस्तेमाल करके डाटा को ट्रांसमिट किया जाता है. इसके अंतरजाल को ऑप्टिकल फाइबर केबल नेटवर्क कहा जाता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल के अन्दर ग्लास या प्लास्टिक के बने कई सारे तार के गुच्छे होते हैं जिनके द्वारा डाटा ट्रांसमिट किया जाता है. इसमें प्रत्येक तार की मोटाई लगभग इंसान के बाल जितनी मोटी होती है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल की स्पीड Normal Cable, Coaxial Cable या twisted pair cable की तुलना में बहुत अधिक होती है. यह एक ब्रॉडबैंड कनेक्शन है जिसमें बहुत कम समय अंतराल में 940 MBps की स्पीड से डाटा ट्रान्सफर कर सकता है. Fiber Optics Cable में डाटा प्रकाश की गति के लगभग 70 प्रतिशत की स्पीड से ट्रेवल करता है.

डाटा को लम्बी दुरी तक कम समय में पहुँचाने के लिए Fiber Optics Cable नेटवर्क का इस्तेमाल किया जाता है. इंटरनेट का जाल बिछाने के लिए Fiber Optical Cable का ही इस्तेमाल किया जाता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल की परिभाषा (Definition of Optical Fiber Cable in Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर केबल सिलिका ग्लास या प्लास्टिक की बनी एक केबल होती है, जिसका इस्तेमाल डाटा को तेज गति से ट्रांसमिट करने के लिए किया जाता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल की संरचना (Structure of Optical Fiber Cable in Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर केबल की बनावट की बात करें तो, इसमें दो प्रकार की लेयर होती हैं. अन्दर वाले लेयर को कोर और दुसरे लेयर को Cladding कहा जाता है.

अन्दर वाले लेयर Core के द्वारा ही डाटा को ट्रांसमिट किया जाता है यह प्लास्टिक या ग्लास का बना हो सकता है. इसके बाद वाली परत Cladding भी प्लास्टिक और ग्लास से बनी होती है.

Cladding के ऊपर से प्लास्टिक की एक और परत होती है और फिर सबसे बाहरी परत होती है जिसे कि Outer Jack कहा जाता है.  Cladding के बाहर की दोनों परतें केबल की सुरक्षा को बढ़ाती हैं. 

ऑप्टिकल फाइबर केबल का इतिहास (History of Optical Fiber Cable in Hindi)

सबसे पहली बार 1840 के दशक में Daniel Colladon and Jacques Babinet ने सिद्धांत दिया कि प्रकाश को अपवर्तन के द्वारा मार्गदर्शन किया जा सकता है, इसी सिद्धांत के द्वारा फाइबर ऑप्टिक्स की कल्पना की गयी.

इसके बाद 1854 में ब्रिटिश मूल के physicist John Tyndall ने यह सिद्ध किया कि प्रकाश पानी की घुमावदार धारा से यात्रा कर सकता है. जिससे कि इस बात की पुष्टि हो गयी कि प्रकाश को मोड़ा जा सकता है. 

समय के साथ इस प्रणाली में और भी विकास हुआ. 1960 में भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक नरिंदर सिंह कपानी ने पहली बार फाइबर ऑप्टिकल केबल का आविष्कार किया.

धीरे – धीरे इस केबल में और भी विकास होता गया और इसकी गति के साथ इसका दायरा भी बढ़ता गया. और आज इन केबल की मदद से पूरी दुनिया को आपस में जोड़ा गया है. इंटरनेट को बनाने के लिए ऑप्टिकल फाइबर केबल का योगदान बहुत अहम् है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल कैसे काम करता है (Optical Fiber Cable Work in Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर केबल में डाटा ट्रांसमिट Light pulse के रूप में होता है. ऑप्टिकल फाइबर में जहाँ से डाटा को भेजा जाता है वहां पर एक ट्रांसमीटर लगा होता है, यह ट्रांसमीटर डाटा को डिजिटल सिग्नल में बदलकर केबल में भेजता है.

केबल के दूसरी ओर जहाँ डाटा Receive होना होता है, वहां भी एक ट्रांसमीटर लगा होता है जो डिजिटल कोड को बाइनरी भाषा में बदल देता है. जिसे कि कंप्यूटर समझता है.

ऑप्टिकल केबल में डाटा ट्रांसमिशन काफी तेजी से होता है, इसलिए सिग्नल क्षमता को बनाये रखने के लिए बीच में amplifiers का इस्तेमाल होता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल के प्रकार (Types of Optical Fiber Cable in Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर केबल आमतौर पर दो प्रकार की होती है –

  • सिग्नल मोड फाइबर केबल (Single Mode Fiber)
  • मल्टी मोड फाइबर केबल (Multi Mode Fiber)

#1 –  सिंगल मोड फाइबर केबल (Single Mode Fiber Cable)

जैसे कि नाम से ही स्पष्ट है इस प्रकार का केबल एक ही प्रसार पथ को सपोर्ट करता है. Single Mode Fiber Cable में कोर की व्यास बहुत कम होता है जिससे कि प्रकाश की एक ही किरण के द्वारा डाटा को ट्रांसमिट किया जाता है.

इस केबल में reflection भी कम होता है जिसके कारण डाटा लंबी दुरी तक ट्रांसमिट कर पाता है. एक ही प्रकाश किरण में डाटा ट्रान्सफर करने के कारण इसमें डाटा को नुकसान होने का खतरा कम होता है.

#2 – मल्टी मोड फाइबर केबल (Multi Mode Fiber Cable)

Single Mode की तुलना में Multi Mode अधिक प्रसार पथ को सपोर्ट करता है. इस केबल में एक साथ Multiple Data Light ट्रेवल कर पाती है. 

Multi Mode Fiber Cable में कोर व्यास भी अधिक होता है, जिससे कि इसमें reflection भी अधिक होता है. डाटा को ट्रान्सफर करने के लिए अनेक प्रकाश किरणों का इस्तेमाल करने के कारण इसमें नुकसान का खतरा भी अधिक होती है. इसलिए Multi Mode Fiber Cable का इस्तेमाल कम दुरी में डाटा ट्रांसमिट करने के लिए किया जाता है.   

Video By Lesics हिंदी

ऑप्टिकल फाइबर केबल के उपयोग (Uses of Optical Fiber Cable in Hindi)

Optical Fiber Cable के प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं –

  • इंटरनेट का जाल बिछाने में Optical Fiber Cable का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि यह बहुत तेज गति से डाटा ट्रांसमिट करते हैं.
  • केबल टेलीविज़न में  केबल सिग्नल के प्रसारण के लिए फाइबर ऑप्टिक केबल का उपयोग किया जाता है. ये केबल हाई डेफिनिशन टेलीविज़न के लिए सिग्नल ट्रांसमिट करने के लिए ideal हैं.
  • फाइबर ऑप्टिक केबल का इस्तेमाल Telephone Line में किया जाता है, जिसके कारण हम दूर बैठे इंसान से बिना किसी समय अंतराल के स्पष्ट बातें कर सकते हैं.
  • कंप्यूटर नेटवर्क में फाइबर ऑप्टिक केबल का इस्तेमाल किया जाता है, इसके द्वारा कंप्यूटरों के बीच नेटवर्किंग को फ़ास्ट और आसान बनाया जाता है.
  • चिकित्सा के क्षेत्र में भी फाइबर ऑप्टिक केबल का इस्तेमाल किया जाता है. जैसे X-ray, MRI, Light therapy आदि में.
  • Military और अंतरिक्ष अनुप्रयोग में उच्च स्तर की सुरक्षा के साथ डाटा को ट्रांसमिट करने के लिए भी फाइबर ऑप्टिक केबल का इस्तेमाल किया जाता है.
  • घरों में सजावट के लिए भी ऑप्टिकल फाइबर केबल का इस्तेमाल किया जाता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल के फायदे (Advantage of Optical Fiber Cable in Hindi)

Optical Fiber Cable के अनेक सारे फायदे हैं जिनमें से कुछ प्रमुख फायदों के बारे में हमने आपको नीचे बताया है –

  • ऑप्टिकल फाइबर केबल लंबी दुरी तक डाटा ट्रांसमिट करने में सक्षम होते हैं.
  • High Frequency पर काम करने के कारण ऑप्टिकल फाइबर केबल बहुत कम समय अंतराल में बड़ी मात्रा में डाटा ट्रांसमिट कर सकते हैं.
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल मेटल केबल की तुलना में अधिक सुरक्षित रहती है, क्योंकि इसमें काफी ज्यादा सुरक्षा की परतें होती हैं और डाटा भी लाइट के रूप में ट्रान्सफर होता है, जिससे डाटा के साथ छेड़ – छाड़ करना आसान काम नहीं है.
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल के अन्दर electric pass नहीं होती है जिससे करंट का खतरा नहीं होता है.
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल को Maintain करना बहुत आसान होता है. 

ऑप्टिकल फाइबर केबल के नुकसान (Disadvantage of Optical Fiber Cable in Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर केबल के कुछ नुकसान भी होते हैं, आइये इनके नुकसानों के बारे में भी जान लेते हैं –

  • फाइबर ऑप्टिक्स केबल Copper Cable की तुलना में अधिक महंगे होते हैं.
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल को स्थापित करना बहुत जटिल कार्य होता है.
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल को Install करना भी बहुत महंगा होता है.
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल को रिपेयर करना भी बहुत मुश्किल होता है, इसे रिपेयर करने के लिए Splicing Machine और कुशल कारीगरों की जरूरत होती है.

ऑप्टिकल फाइबर कलर कोड (Optical Fiber Colour Code In Hindi)

  फाइबर के प्रकाररंग कोड
गैर-सैन्य अनुप्रयोगोंसैन्य अनुप्रयोगोंसुझाव प्रिंट नामकरण
OM1 62.5/125μm बहुपद्वतिनारंगीस्लेट62.5/125
OM2 50/125μm बहुपद्वतिनारंगीनारंगी50/125
OM3 50/125 मीटर (850 एनएम लेजर अनुकूलित) बहुपद्वतिएक्वाअपरिभाषित850 लो 50/125
OM4 50/125μm (850 एनएम लेजर अनुकूलित) बहुपद्वतिएक्वा/बैंगनीअपरिभाषित850 लो 50/125
100/140µm बहुपद्वतिनारंगीग्रीन100/140
OS1/OS2 एकल मोडपीलेपीलेSM/NZDS, एस. एम.
ध्रुवीकरण बनाए रखने एकल मोडनीलेअपरिभाषितअपरिभाषित
ऑप्टिकल फाइबर कलर कोड (Optical Fiber Colour Code In Hindi)

ऑप्टिकल फाइबर केबल से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

ऑप्टिकल फाइबर केबल क्या है समझाइये?

ऑप्टिकल फाइबर केबल ऐसी केबल को कहा जाता है जिनमें डाटा ट्रांसमिशन के लिए light का इस्तेमाल किया जाता है. इस केबल की मदद से कम समय अंतराल में बड़ी मात्रा में डाटा को लंबी दुरी में ट्रांसमिट किया जा सकता है.

ऑप्टिकल फाइबर केबल कितने प्रकार के होते हैं?

ऑप्टिकल फाइबर केबल मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं. सिंगल मोड़ फाइबर और मल्टी मोड फाइबर.

सिंगल मोड फाइबर क्या है?

सिंगल मोड फाइबर ऐसे ऑप्टिकल फाइबर केबल को कहा जाता है जिसमें एक ही प्रकाश किरण के द्वारा डाटा को ट्रांसमिट किया जाता है.

ऑप्टिकल फाइबर के आविष्कारक कौन है?

नरिंदर सिंह कपानी को ऑप्टिकल फाइबर केबल का अविष्कारक माना जाता है.

इन्हें भी पढ़े

आपने सीखा: ऑप्टिकल फाइबर केबल क्या है हिंदी में

अगर आपने इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ा है और लेख में बताई गयी बातों को समझा है तो आप जरुर समझ गए होंगे कि Optical Fiber Cable Kya Hai In Hindi और यह क्यों उपयोग की जाती है. साथ में इस लेख में आपको Optical Fiber Cable की परिभाषा, हिंदी मतलब, ऑप्टिकल फाइबर केबल के टाइप, फायदे और नुकसानों के बारे में भी जानकारी मिली होगी.

हमें पूरी उम्मीद हैं कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा, आप अपने सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं, और हाँ इस लेख को शेयर करना न भूलें. 

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

2 thoughts on “ऑप्टिकल फाइबर केबल क्या है (Optical Fiber Cable in Hindi)”

    • Standards use color codes for fiber and connector types to make it easy to find the right patchcord. Color codes make it easy to identify these patchcords which all have SC connectors:

      Reply

Leave a Comment