पेन ड्राइव (Pen Drive) क्या है इसके प्रकार, उपयोग, कार्य (Pen Drive in Hindi)

पेन ड्राइव (Pen Drive) क्या है इसके प्रकार, उपयोग, कार्य (Pen Drive in Hindi)

Pen Drive in Hindi: आप लोगों ने कभी न कभी पेन ड्राइव तो जरुर देखा होगा और आपमें से बहुत सारे लोग पेन ड्राइव का इस्तेमाल भी करते होंगे पर क्या आप जानते हैं कि Pen Drive क्या है, पेन ड्राइव कैसे काम करता है, पेन ड्राइव को किसने बनाया, पेन ड्राइव की क्या विशेषताएं हैं, पेन ड्राइव का उपयोग तथा पेन ड्राइव के फायदे और नुकसान क्या है.

अगर आप ऊपर पूछी गयी सारी Information के बारे में जानना चाहते हैं तो आप एकदम सही लेख पर आये हैं आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको पेन ड्राइव के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिस करेंगे आप लेख को अंत तक जरुर पढ़ें ताकि आपको कुछ न कुछ सीखने को मिलेगा.

तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं पेन ड्राइव क्या होता है.

पेन ड्राइव क्या है (What is Pen Drive in Hindi)

पेन ड्राइव (Pen Drive) कंप्यूटर में इस्तेमाल की जाने वाली एक External डिवाइस है जिसकी मदद से हम कंप्यूटर के फाइल और डेटा का Backup बना सकते हैं. और साथ में ही पेन ड्राइव का इस्तेमाल करके Information (डाटा) को एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर तक पहुंचा सकते हैं. पेन ड्राइव एक Portable डिवाइस होता है जिसमें डेटा को आसानी कॉपी पेस्ट के द्वारा डाल सकते हैं. पैन ड्राइव को हिंदी में स्मृति शालिका कहते है.

अगर हम अपने काम के लिए अपने कंप्यूटर से डेटा को एक स्थान से दुसरे स्थान में ले जाते हैं तो इसमें पेन ड्राइव हमारे बहुत काम आता है. कंप्यूटर को दुसरे स्थान में ले जाना मुश्किल भरा काम है लेकिन पेन ड्राइव आकार में छोटा और वजन में बहुत हल्का होता है इसलिए इसमें डेटा को स्टोर करके एक स्थान से दुसरे स्थान में आसानी से ले जा सकते हैं. छोटा सा दिखने वाला यह डिवाइस बहुत काम का होता है.

पेन ड्राइव का इतिहास (History of Pen Drive in Hindi)

पेन ड्राइव का आविष्कार IBM कंपनी के द्वारा 1998 में किया गया था. IBM का उस समय Pen Drive को बनाने का intention था कि वह अपने Think pad Product को floppy drive में बदल सके.

पहला Flash Drive इजराइल की कंपनी M-System द्वारा बनाया गया था जिन्होंने IBM के अनुबंध के तहत इसे बनाया था. इस पेन ड्राइव को बनाने का श्रेय Dov Maron को जाता है जो कि M – System कंपनी में काम करते थे. इस पेन ड्राइव को डिस्गो कहा जाता था वह विभिन्न आकारों 8 MB, 16 MB, 32 MB और 64 MB में आता था.

डिस्गो पेन ड्राइव का एडवांस वर्जन मलेशिया के K.S Pua Khein Seng ने बनाया था. KS Pua पेन ड्राइव के आते ही पूरी दुनिया में पेन ड्राइव फेमस होने लगा और बड़ी – बड़ी कंपनियां पेन ड्राइव का निर्माण करने लगी.

आज विभिन्न आकारों, प्रकारों और ब्रांडों के कई पेन ड्राइव बाजार में उपलब्ध हैं. पेन ड्राइव का उपयोग मोबाइल फोन, वीडियो-गेम कंसोल और डिजिटल-म्यूजिक प्लेयर जैसे कई उपकरणों में किया जाता है

पेन ड्राइव के भाग (Part of Pen Drive in Hindi)

पेन ड्राइव के मुख्य रूप से 8 Part होते हैं –

  • USB Connector – इसकी मदद से पेन ड्राइव को कंप्यूटर के साथ Plug करते हैं.
  • Controller Chip – यह चिप पेन ड्राइव से Information को Retrieve करता है.
  • Test Points – ये इलेक्ट्रॉनिक पिन होते हैं. जब पेन ड्राइव को assemble किया जाता है तो इस पिन की मदद से पेन ड्राइव को stimulate किया जाता है.
  • Flash Memory Chip – यह चिप फाइल और डेटा को स्टोरेज करने में काम आता है, इसकी मदद से हम पेन ड्राइव से डेटा को Delete भी कर सकते हैं.
  • Crystal Oscillator – यह Quartz Crystal का एक टुकड़ा होता है जो एक विशेष frequency पर कम्पन करता है.
  • LED – इसकी मदद से पता चलता है पेन ड्राइव सही से काम कर रहा है या नहीं.
  • Write – Protect Chip – इसकी मदद से पेन ड्राइव में स्टोर डेटा की सुरक्षा की जाती है.
  • Second  Flash Memory Chip – Extra मेमोरी चिप डालने के यह यह एक स्लॉट होता है जिससे कि पेन ड्राइव की स्टोरेज क्ष मता को बढाया जा सके.

पेन ड्राइव कैसे काम करता है (Pen Drive Work in Hindi)

पेन ड्राइव को Gate Style Data Storage Device भी कहते हैं क्योकि तकनीकी रूप से पेन ड्राइव को NOT AND, NAND में वर्गीकृत किया जाता है. इस प्रकार की तकनीकी में डेटा को Block के According Storage करते हैं न कि Randomly जैसे RAM और ROM करते हैं. Block के रूप में Data को स्टोर करने से अधिक Information को स्टोर किया जा सकता है वह भी बहुत कम दामों में.

जब आप पेन ड्राइव को कंप्यूटर से Plug करते हैं तो आप जिस फाइल को पेन ड्राइव में स्टोर करना चाहते हैं उसे Copy / Paste के द्वारा पेन ड्राइव में Save कर सकते हैं. इससे अगर कभी आपके कंप्यूटर में Problem भी आती है तो आपके पास Data सुरक्षित रहता है.

पेन ड्राइव के प्रकार (Types of Pen Drive in Hindi)

उपयोग के आधार पर पेन ड्राइव निम्न 3 प्रकार के होते हैं –

#1 – Security Flash Drive ( सुरक्षित फ्लैश ड्राइव)

यह पेन ड्राइव आपके डेटा को सुरक्षित रखने के लिए एक सामान्य यूएसबी स्टोरेज डिवाइस है. इसमें यूएसबी डिस्क तक पहुंचने से पहले एक संयोजन लॉक होता है.

#2 – Music Flash Drive (संगीत फ्लैश ड्राइव)

Music Flash Drive एक फ्लैश ड्राइव है जिसका उपयोग संगीत को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में Store या Transfer करने के लिए किया जा सकता है.

#3 – Boot Flash Drive (बूट फ्लैश ड्राइव)

Boot Flash Drive एक सामान्य यूएसबी मेमोरी स्टिक है जो कि ऑपरेटिंग सिस्टम को Install करने में सक्षम होता है.

पेन ड्राइव की विशेषताएं (Feature of Pen Drive in Hindi)

  • पेन ड्राइव में डेटा को स्टोर करने की क्षमता 512 MB से लेकर 128 GB तक होती है.
  • पेन ड्राइव बहुत पोर्टेबल होते हैं इन्हें आसानी से एक स्थान से दुसरे स्थान में ले जाया जा सकता है.
  • पेन ड्राइव में हम अपने महत्वपूर्ण फाइलों को स्टोर कर सकते हैं.
  • पेन ड्राइव Primary Memory की भांति ही डेटा को स्टोर करके रख सकती है.
  • पेन ड्राइव को किसी प्रकार के External Power की जरुरत नहीं पड़ती है.
  • Computer Component की तुलना में पेन ड्राइव Fast Data Transfer करते हैं.

पेन ड्राइव का उपयोग (Uses of Pen Drive in Hindi)

पेन ड्राइव का इस्तेमाल निम्न प्रकार के कामों के लिए इस्तेमाल किया जाता है –

  • USB पैन ड्राइव का सबसे आम इस्तेमाल Personal File जैसे कि डॉक्यूमेंट, इमेज, विडियो आदि को Store करने के लिए किया जाता है.
  • अगर कभी हमारे कंप्यूटर में कोई खराबी आ जाती है तो पेन ड्राइव का इस्तेमाल Back Up के रूप में किया जाता है. आप पेन ड्राइव में महत्वपूर्ण फाइलों को स्टोर करके रख सकते हैं.
  • पेन ड्राइव की मदद से आप किसी अन्य कंप्यूटर में भी अपने पेन ड्राइव में स्टोर फाइलों को Access कर सकते हैं. यह एक पोर्टेबल गैजेट है.
  • पेन ड्राइव की मदद से Operating System भी इनस्टॉल किये जाते हैं.

पेन ड्राइव के फायदे (Advantage of Pen Drive in Hindi)

एक पेन ड्राइव के बहुत सारे फायदे होते हैं जैसे कि –

  • पेन ड्राइव में हम अपने कंप्यूटर का Back Up बना सकते हैं.
  • पेन ड्राइव आकार में छोटा और वजन में भी हल्का होता है इसलिए हम पेन ड्राइव को एक स्थान से दुसरे स्थान में आसानी से ले जा सकते हैं.
  • अपने महत्वपूर्ण डेटा को पेन ड्राइव में स्टोर कर सकते हैं.
  • पेन ड्राइव मार्किट में बहुत कम दामों में मिल जाती है.
  • पेन ड्राइव की डेटा स्टोरेज Capacity 512 MB से 128 GB से अधिक तक होती है, आप अपनी आवश्यकतानुसार पेन ड्राइव खरीद सकते हैं.

पेन ड्राइव के नुकसान (Disadvantage of Pen Drive in Hindi)

एक ओर जहाँ पेन ड्राइव इस्तेमाल करने के बहुत सारे फायदे हैं वहीँ दूसरी ओर इसके कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –

  • पेन ड्राइव आकार में बहुत छोटे होते हैं आपको इन्हें एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले जाने में सावधानी बरतनी जरुरी है क्योकि ये खो भी सकते हैं.
  • Computer Virus पेन ड्राइव की मदद से आसानी से आ जा सकते हैं इसलिए पेन ड्राइव को समय – समय पर वायरस स्कैन करते रहना चाहिए.
  • पेन ड्राइव की Storage क्षमता  Hard Disk से बहुत कम होती है.

इन्हें भी पढ़े 

पेन ड्राइव के अन्य नाम (Other Names of Pen Drive)

पेन ड्राइव के अन्य कुछ नाम निम्न हैं –

  • USB Drive
  • Jump Drive
  • Flash Drive
  • Thump Drive
  • USB Memory

पेन ड्राइव बनाने वाली कंपनियां

कुछ Popular पेन ड्राइव बनाने वाली कंपनियां निम्न प्रकार से हैं –

  • SanDisk
  • Sony
  • Toshiba
  • HP
  • iBall
  • Kingston Technology

FAQ For Pen Drive in Hindi

पेन ड्राइव को हिंदी में क्या कहते हैं?

पेन ड्राइव को हिंदी में स्मृतीशलाक़ा कहते हैं.

पेन ड्राइव किस प्रकार का डिवाइस है?

पेन ड्राइव एक External डिवाइस है.

पेन ड्राइव का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?पेन ड्राइव का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

पेन ड्राइव का इस्तेमाल कंप्यूटर में Data के Backup और फाइल को एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर में ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है.

पेन ड्राइव कौन सी मेमोरी है?

पेन ड्राइव एक External Memory है. इसे हम कंप्यूटर की Secondary Memory भी कह सकते हैं क्योकि हम पेन ड्राइव में कंप्यूटर की सभी फाइल को स्टोर करके रख सकते हैं.

हमने सीखा: पैन क्या है हिंदी में

पेन ड्राइव देखने में बहुत छोटा होता है लेकिन यह बड़े ही काम की डिवाइस है जिसका इस्तेमाल हर उस व्यक्ति को जरुर करना चाहिए जो कंप्यूटर का इस्तेमाल करता है, क्योकि पेन ड्राइव की मदद से आप अपने Data को खोने से बचा सकते हैं. मार्किट में अलग – अलग क्षमता वाले पेन ड्राइव मौजूद हैं आप अपने Data Size के अनुसार पेन ड्राइव को बहुत कम कीमत में खरीद सकते हैं.

इस लेख के माध्यम से हमने आप Pen Drive Kya Hai के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिस की है. जिससे आप समझ गए होंगे कि क्यों पेन ड्राइव इतना Popular है. हमारी कोशिस हमेशा यही रहती है कि हम अपने लेख में आपको पूरी Information दें ताकि आपको Same Topic के लिए किसी अन्य लेख में जाने की जरुरत नहीं पड़े.

उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख What Is Pen Card In Hindi जरुर पसंद आया होगा इस लेख को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी जरुर शेयर करें.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment