Primary Memory क्या है इसके प्रकार (प्राइमरी मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी में अंतर)

Primary Memory Kya Hai In Hindi: क्या आप इंटरनेट पर खोज रहें हैं कि Primary Memory क्या है तो आप सही लेख पर आये हैं, क्योंकि आज के इस लेख में हम आपको प्राइमरी मेमोरी के बारे में जानकारी देने वाले हैं.

इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि प्राइमरी मेमोरी क्या है, प्राइमरी मेमोरी कितने प्रकार की होती है, प्राइमरी मेमोरी की विशेषताएं, प्राइमरी मेमोरी के फायदे नुकसान क्या हैं और प्राइमरी मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी में अंतर क्या है.

हमें पूरी उम्मीद है कि इस लेख को पूरा अंत तक पढने के बाद आप इंटरनेट पर प्राइमरी मेमोरी के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए किसी अन्य लेख पर नहीं जाना होगा, इसलिए आप लेख को अंत तक जरुर पढ़ें – प्राथमिक मेमोरी क्या है हिंदी में.

प्राइमरी मेमोरी क्या है (What is Primary Memory in Hindi)

कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी को ही प्राइमरी मेमोरी कहते हैं, प्राइमरी मेमोरी में वह डाटा स्टोर होता है जो Current Time में CPU के द्वारा process किया जा रहा है. प्राइमरी मेमोरी का दूसरा नाम मुख्य मेमोरी (Main Memory) होता है.

Primary Memory क्या है इसके प्रकार और प्राइमरी मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी में अंतर - Primary Memory In Hindi

प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर मदरबोर्ड में CPU में लगी होती है. CPU के प्रोसेसिंग के लिए सभी आवश्यक डेटा Primary Memory में स्टोर रहता है. Primary Memory की स्टोरेज क्षमता सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में बहुत कम होती है, लेकिन इसकी स्पीड सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में अधिक होती है.

प्राइमरी मेमोरी एक Volatile मेमोरी होती है जिसमें डेटा स्टोर होने के लिए पॉवर की जरुरत होती है. जैसे ही कंप्यूटर को पॉवर मिलना बंद हो जाता है तो प्राइमरी मेमोरी में स्टोर डेटा भी मिट जाता है. इसलिए प्राइमरी मेमोरी को Backup के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता है. प्राइमरी मेमोरी को बनाने में अर्द्धचालक पदार्थ यानि सेमीकंडक्टर का इस्तेमाल किया जाता है.

प्राइमरी मेमोरी के प्रकार (Types of Primary Memory in Hindi)

कंप्यूटर में मुख्य रूप से तीन प्रकार की प्राइमरी मेमोरी होती है –

  • रैम (Random Access Memory)
  • रोम (Read only Memory)
  • कैश मेमोरी (Cache Memory)
प्राइमरी मेमोरी के प्रकार

#1 – रैम मेमोरी (Random Access Memory)

रैम (RAM) कंप्यूटर की एक ऐसी मेमोरी होती है जो कि कंप्यूटर में वर्तमान समय में चल रहे काम को Temporary रूप से स्टोर करती है. और जब कंप्यूटर को Shut down कर दिया जाता है तो RAM में स्टोर डेटा भी मिट जाता है.

जैसे अगर आप Word में काम कर रहें है और अचानक लाइट चली जाती है, तो जितना काम आपने word में किया है वह सब भी मिट जाता है. इसलिए कंप्यूटर में काम करते समय डेटा को हार्ड डिस्क या SSD में स्टोर करना पड़ता है. Current time में कंप्यूटर में जितने भी सॉफ्टवेयर, एप्लीकेशन या प्रोग्राम run होते हैं वह सभी RAM में ही चलते हैं.

RAM भी दो प्रकार की होती है –

  • स्थैतिक रैम – Static RAM (SRAM)
  • डायनामिक रैम – Dynamic RAM (DRAM)

#2 – रोम मेमोरी (Read only Memory)

ROM भी कंप्यूटर की प्राइमरी मेमोरी होती है, जिसमें स्टोर डेटा को केवल read किया जा सकता है. ROM में डेटा को निर्माता कंपनियों के द्वारा पहले से ही फिक्स कर दिया जाता है. ROM में कंप्यूटर के मुख्य निर्देश स्टोर रहते हैं, जो कि कंप्यूटर को खोलने – बंद करने, कंप्यूटर में प्रोग्राम को run करने आदि महत्वपूर्ण कामों में मदद करते हैं.यूजर ROM में स्टोर डेटा को आसानी से हटा नहीं सकता है, या write नहीं कर सकता है.

ROM एक Non – volatile मेमोरी होती है, अर्थात इसमें स्टोर डेटा पॉवर नहीं मिलने पर भी डिलीट नहीं होती है. इसलिए ROM को कंप्यूटर की स्थाई मेमोरी भी कहा जाता है.

ROM 4 प्रकार की होती है –

  • MROM (Masked Read Only Memory)
  • PROM (Programable Read Only Memory)
  • EPROM (Erasable And Programable Read Only Memory)
  • EEPROM (Electricity Erasable And Programable Read Only Memory)

#3 – कैश मेमोरी (Cache Memory)

Cache Memory कंप्यूटर में एक छोटे आकार की मेमोरी होती है जो CPU और RAM के बीच में स्थित होती है. यह मेमोरी requested data और instructions को स्टोर करती है, ताकि जरुरत पढ़े पर वह CPU के लिए उपलब्ध हो. Cache Memory बहुत फ़ास्ट होती है. आधुनिक कंप्यूटरों में Cache Memory बहुत महत्वपूर्ण है.

अब आप समझ ही गये होंगे की प्राइमरी मेमोरी कितने प्रकार की होती है.

प्राइमरी मेमोरी की विशेषताएं (Feature of Primary Memory in Hindi)

  • प्राइमरी मेमोरी volatile memory होती है इसमें डेटा अस्थाई रूप से स्टोर होता है.
  • प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर का महत्वपूर्ण भाग होती है, बिना इसके कंप्यूटर कार्य नहीं कर सकता है.
  • कंप्यूटर के बंद हो जाने के बाद प्राइमरी मेमोरी में स्टोर डेटा स्वतः ही मिट जाता है.
  • प्राइमरी मेमोरी सेमीकंडक्टर की बनी होती है.
  • प्राइमरी मेमोरी को इंटरनल मेमोरी, volatile मेमोरी, Main Memory आदि नामों से भी जाना जाता है.
  • प्राइमरी मेमोरी की स्टोरेज क्षमता सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में कम होता है और लेकिन स्पीड सेकेंडरी मेमोरी से अधिक होती है.

प्राइमरी मेमोरी के फायदे (Advantage of Primary Memory in Hindi)

प्राइमरी मेमोरी के फायदे निम्न हैं –

  • सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में प्राइमरी मेमोरी की स्पीड अधिक होती है.
  • प्राइमरी मेमोरी को सीधे CPU के द्वारा उपयोग किया जाता है.
  • कंप्यूटर के work करने में प्राइमरी मेमोरी बहुत महत्वपूर्ण होती है.

प्राइमरी मेमोरी के नुकसान (Disadvantage of Primary Memory in Hindi)

  • सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस की तुलना में प्राइमरी मेमोरी की स्टोरेज क्षमता कम होती है.
  • सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में यह बहुत महंगी होती है.
  • पॉवर सप्लाई बंद हो जाने पर प्राइमरी मेमोरी में स्टोर डेटा मिट जाता है.
  • ख़राब होने पर कंप्यूटर में भी Problem आ जाती है.

प्राइमरी मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी में अंतर

प्राइमरी मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी में अंतर को हमने नीचे सारणी के द्वारा बताया है –

प्राइमरी मेमोरी (Primary Memory)सेकेंडरी मेमोरी (Secondary Memory)
यह कंप्यूटर की Temporary मेमोरी होती है.यह कंप्यूटर की Permanent मेमोरी होती है.
प्राइमरी मेमोरी volatile होती है.सेकेंडरी मेमोरी non – volatile होती है.
स्टोरेज क्षमता बहुत कम होती है.स्टोरेज क्षमता बहुत अधिक होती है.
प्राइमरी मेमोरी की स्पीड अधिक होती है.सेकेंडरी मेमोरी की स्पीड कम होती है.
सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में बहुत महंगी है.प्राइमरी मेमोरी की तुलना में सस्ती है.
पॉवर सप्लाई बंद हो जाने पर प्राइमरी मेमोरी में स्टोर डेटा मिट जाता है.पॉवर सप्लाई बंद हो जाने के बाद में सेकेंडरी मेमोरी में स्टोर डेटा मिटता नहीं है.
उदाहरण – RAM, ROMउदाहरण – SSD, हार्ड डिस्क, पैन ड्राइव, ऑप्टिकल डिस्क
Difference Between Primary Memory and Secondary Memory In Hindi

प्राइमरी मेमोरी से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

प्राथमिक मेमोरी क्या है?

प्राथमिक मेमोरी कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी होती है, जिसमें कंप्यूटर में Current Time में चल रहे काम का सारा डेटा स्टोर रहता है. प्राथमिक मेमोरी को volatile memory या Main Memory के नाम से भी जाना जाता है. कंप्यूटर के कार्य करने के लिए यह मेमोरी बहुत महत्वपूर्ण होती है.

प्राइमरी मेमोरी कितने प्रकार की होती है?

प्राइमरी मेमोरी मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है – RAM, ROM और Cache Memory.

प्राथमिक मेमोरी का दूसरा नाम क्या है?

प्राथमिक मेमोरी का दूसरा नाम Main Memory, Internal Memory और Volatile Memory है.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: प्राइमरी मेमोरी क्या है हिंदी में

आज के इस लेख में हमने आपको Primary Memory Kya Hai In Hindi के बारे में जानकारी दी है, साथ में ही आपको प्राइमरी मेमोरी के प्रकार, विशेषताएं, फायदे और नुकसानों के बारे में बताया है. लेख को पूरा पढने के बाद आप समझ अगये होंगे कि प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर का कितना महत्वपूर्ण भाग होता है. बिना प्राइमरी मेमोरी के कंप्यूटर कार्य नहीं कर सकता हैं.

आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.  और इसी प्रकार के valuable  लेख पढने के लिए हमारे ब्लॉग में आते रहिये.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment