प्रोजेक्टर (Projector) क्या है इसके प्रकार (What is Projector in Hindi)

Projector Kya Hai In Hindi: दोस्तों आप लोगों ने कभी न कभी प्रोजेक्टर को जरुर देखा होगा. अगर आप एक विधार्थी है तो स्कूल में आपने प्रोजेक्टर देखें होंगे या आप नौकरी करते हैं तो किसी business meeting में आपने प्रोजेक्टर को देखा होगा या मूवी हॉल में आपको प्रोजेक्टर को देखा होगा जो कि किसी भी Image या Video को बड़े सफ़ेद पर्दे या दीवार पर दिखाता है.

पर आपको प्रोजेक्टर के बारे में शायद ही सही जानकारी होगी. आपको प्रोजेक्टर के बारे में पूरी विस्तृत जानकारी देने के लिए ही हमने यह लेख आपके लिए लिखा है.

 इस लेख के द्वारा हम आपको Projector Kya Hai, प्रोजेक्टर कितने प्रकार का होता है, प्रोजेक्टर के क्याक्या उपयोग हैं और प्रोजेक्टर के फायदे, नुकसान क्या है इन सब की विस्तृत जानकारी देंगे जिससे कि प्रोजेक्टर को लेकर आपके मन में किसी भी प्रकार का कोई संदेह न रहें. तो चलिए बिना देरी के शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं प्रोजेक्टर क्या होता है.

प्रोजेक्टर क्या होता है (What is Projector in Hindi)

प्रोजेक्टर कंप्यूटर की एक आउटपुट डिवाइस है जिसके द्वारा किसी भी प्रकार के इमेज या विडियो को सफ़ेद परदे या दीवार पर दिखाया जाता है. इमेज या विडियो को विस्तार से समझाने के लिए प्रोजेक्टर का इस्तेमाल किया जाता है. प्रोजेक्टर के द्वारा स्क्रीन पर दिखाई देने वाली इमेज या विडियो को यूजर अपने अनुसार व्यवस्थित कर सकता है.

प्रोजेक्टर का इस्तेमाल अधिकतर स्कूल, सिनेमा हॉल, बिज़नस मीटिंग आदि में किया जाता है. कंप्यूटर स्क्रीन में दिख रही इमेज या विडियो को प्रोजेक्टर Reflected  करके दीवार या सफ़ेद पर्दे पर बड़े आकार में दिखाते हैं.

प्रोजेक्टर को हिंदी में मतलब व अर्थ – प्रक्षेपक (प्रक्षेपित्र) होता है. साधारण भाषा में इसे दीवार पर डिज़ाइन बनाने वाला डिवाइस कहते है.

प्रोजेक्टर का शिक्षा में उपयोग

प्रोजेक्टर का शिक्षा में योगदान अभूतपूर्व है. प्रोजेक्टर की मदद से बच्चो को उच्च शिक्षा और उसमें आने वाले प्रोजेक्ट को आखों देखी अंदाज में समझने में आसानी होती है. प्रोजेक्टर की मदद से पढ़ाई करने पर किसी भी स्टूडेंट के लिए आसान  हो जाता है. आज के आधुनिक कंप्यूटर युग में प्रोजेक्टर का उपयोग अतिआवश्यक हो गया है.

प्रोजेक्टर कैसे काम करता है (How a Projector Work)

प्रोजेक्टर किसी सतह पर किसी भी इमेज या विडियो को प्रोजेक्ट करता है जिसे कि Projection Screen कहा जाता है.अधिकतर प्रोजेक्टर एक छोटे लेंस के द्वारा एक Bright Light Projecting करके स्क्रीन पर इमेज को बनाते हैं. कुछ नए प्रोजेक्टर लेजर के द्वारा भी इमेज को प्रोजेक्ट करते हैं.

आधुनिक प्रोजेक्टर में एक उच्च तीव्रता के प्रकाश को छोटे – छोटे Pixel के द्वारा होकर गुजरती है. यह इमेज को 3 Display में दिखाती है जिससे लाइट को 3 रंगों में होकर गुजरना पड़ता है फिर लाइट प्रिज्म में जाकर इसे रंगीन बनाती है और फिर इमेज प्रोजेक्ट होकर एक स्क्रीन पर दिखाई देती है.

प्रोजेक्टर के प्रकार (Type of Projector in Hindi)

प्रोजेक्टर कई प्रकार के हो सकते हैं, जिनमें से तीन मुख्य प्रकार के प्रोजेक्टर निम्न हैं –

1 – DLP Projector (Digital Light Processing)

DLP प्रोजेक्टर एक विडियो प्रोजेक्टर है जिसे Texas Instruments के द्वारा बनाया गया है. इसका इस्तेमाल back और front प्रोजेक्शन Unit के लिए किया जाता है. टीवी के लिए यह एक Back Projection है जबकि स्कूल में या Organization में इसका इस्तेमाल Front प्रोजेक्शन के रूप में किया जाता है.

DLP Projector (Digital Light Processing)

एक DLP प्रोजेक्टर दो प्रकार की संरचनाओं में आता है 1 चिप DLP और 3 चिप DLP. DLP किसी सफ़ेद सतह या स्क्रीन पर प्रकाश और इमेज को प्रतिबिम्ब करने के लिए Micro Mirror का इस्तेमाल करता है जिसे Digital Micro Mirror भी कहा जाता है. ये Micro Mirror छोटे होते हैं तथा Semiconductor Chip में लगे रहते हैं.

2 – CRT Projector (Cathode Ray Tube)

CRT प्रोजेक्टर Basically Video Projecting Device होता है. यह प्रोजेक्टर एक छोटी कैथोड रे ट्यूब का इस्तेमाल करता है जिससे Image के लिए High Brightness होती है.

CRT प्रोजेक्टर के सामने एक लेंस रखा जाता है जो Image को Focus करता है और एक बड़ी Projection Screen पर Image को बड़ा करता है.

CRT Projector (Cathode Ray Tube)
CRT Projector (Cathode Ray Tube)

एक CRT प्रोजेक्टर इमेज या विडियो को स्क्रीन पर दिखाने के लिए लेंस का इस्तेमाल करता है. CRT ट्यूब की मदद से इमेज को तीन अलग – अलग रंगों (लाल, नीला और हरा) में Process किया जाता है.

CRT प्रोजेक्टर आकार में बड़े और वजनी होते हैं. और तीन लाइट गन के कारण वे बिजली की खपत भी अधिक करते हैं. CRT प्रोजेक्टर को स्थापित करना मुश्किल भरा हो सकता है.

3 – LCD Projector (Liquid Crystal Display)

जैसे कि नाम से ही स्पष्ट है LCD पदार्थ की दो अवस्थाओं का मिलता – जुलता रूप है. LCD प्रोजेक्टर किसी इमेज को स्क्रीन पर प्रोजेक्ट करने के लिए Liquid Crystal का उपयोग करते हैं. इस प्रकार के Display Panel का इस्तेमाल टीवी, लैपटॉप, गेमिंग, मोबाइल फ़ोन आदि में किया जाता है. CRT की तुलना में LCD Display पतली होती है.

LCD Projector (Liquid Crystal Display)
LCD Projector (Liquid Crystal Display)

प्रोजेक्टर के उपयोग (Uses of Projector in Hindi)

आज के समय में प्रोजेक्टर का इस्तेमाल बहुत सारे कामों के लिए किया जाता है जैसे कि –

  • बिज़नस में प्रोजेक्टर का इस्तेमाल Business Meeting में Presentation दिखाने के लिए किया जाता है.
  • सिनेमा हॉल, मूवी Theater में प्रोजेक्टर का इस्तेमाल मूवी को परदे पर दिखने के लिए किया जाता है.
  • शिक्षा के क्षेत्र में प्रोजेक्टर का इस्तेमाल बच्चों को पढ़ाने के लिए किया जाता है.
  • विडियो गेम को बड़े Size में खेलने के लिए प्रोजेक्टर का इस्तेमाल किया जाता है.
  • आजकल प्रोजेक्टर का इस्तेमाल हर छोटे – बड़े Function  में किया जाता है.

प्रोजेक्टर के फायदे (Advantage of Projector in Hindi)

प्रोजेक्टर के निम्न फायदे हैं –

  • आप प्रोजेक्टर की मदद से स्क्रीन को अपने अनुसार व्यवस्थित कर सकते हैं.  
  • प्रोजेक्टर का इस्तेमाल किसी सफ़ेद दीवार या पर्दे पर कर सकते हैं.
  • टीवी की तुलना में प्रोजेक्टर बड़े आकार में चित्रों को दिखाते हैं जिससे आखों में परेशानी की समस्या कम हो जाती है.
  • प्रोजेक्टर को आप आसानी से एक स्थान से दुसरे स्थान में ले जा सकते हैं जो कि टीवी के साथ इतना सहज नहीं है.

प्रोजेक्टर के नुकसान (Disadvantage of Projector in Hindi)

एक ओर जहाँ प्रोजेक्टर इस्तेमाल करने के बहुत सारे फायदे मिलते हैं तो वहीँ दूसरी ओर प्रोजेक्टर इस्तेमाल करने के कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जैसे कि –

  • प्रोजेक्टर अक्सर अँधेरे कमरे में अच्छी Quality में इमेज बनाते हैं लेकिन कक्षाओं में, बिज़नस मीटिंग आदि में पुरे कमरे को अँधेरा करना मुश्किल है जिससे प्रोजेक्टर की Quality में फरक आ सकता है.
  • प्रोजेक्टर को अधिक देखभाल की जरुरत होती है.
  • प्रोजेक्टर की कीमत अधिक होती है.
  • अधिकांश प्रोजेक्टरों को एक अलग ऑडियो सिस्टम की आवश्यकता होती है.

इन्हें भी पढ़े 

FAQ For Projector in Hindi

प्रोजेक्टर का क्या काम होता है?

प्रोजेक्टर कंप्यूटर स्क्रीन पर चल रहे किसी भी इमेज या विडियो को सफ़ेद पर्दे या दीवार पर बड़ी स्क्रीन में दिखाते हैं.

प्रोजेक्टर कौन सा डिवाइस है?

प्रोजेक्टर कंप्यूटर की आउटपुट डिवाइस है.

प्रोजेक्टर की कीमत क्या है?

एक अच्छे प्रोजेक्टर को लेने के लिए आपको कम से कम 30 से 35 हजार रूपये खर्च करने पड़ेंगे.

क्या मोबाइल में प्रोजेक्टर चल सकता है?

जी हाँ, मोबाइल में भी प्रोजेक्टर चल सकता है इसके लिए आपको पहले अपने play store से Video Projector को डाउनलोड करना होगा.

निष्कर्ष – प्रोजेक्टर क्या है हिंदी में 

इस लेख को पूरा पढने के बाद आपको Projector Kya Hai In Hindi जरुर समझ में आ गे होगा और आप जान गए होंगे कि प्रोजेक्टर के क्या उपयोग है और इसके कितने सारे फायदे होते हैं. प्रोजेक्टर पर हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में बताइए और इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने अधिक से अधिक दोस्तों के साथ शेयर करें.

हमारी हमेशा कोशिस रहती है कि अपने लेख के द्वारा आपको लेख के विषय में पूरी जानकारी दें. लेकिन तब भी अगर कोई जानकारी रह जाती है या आपके मन में कोइ भी सवाल होते हैं तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं या हमें सुझाव दे सकते हैं.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment