(रैम) RAM क्या है, RAM के प्रकार और RAM कैसे काम करता हैं पूरी जानकारी हिंदी में

RAM Kya Hai Hindi – अपने दैनिक जीवन में और Computer आपने RAM शब्द तो जरुर सुना होगा. आप जब भी कोई मोबाइल, लेपटॉप या कंप्यूटर खरीदने जाते हैं तो सबसे पहले उसकी RAM और ROM को जरुर check करते हैं. या खरीदने से पहले अपने दोस्तों से पूछते हैं कि हमें कितनी GB RAM का मोबाइल खरीदना चाहिए.

पर क्या आप जानते हैं कि RAM क्या है, RAM के कितने प्रकार होते है और RAM कैसे काम करता हैं? RAM से सम्बंधित इसी प्रकार के ढेर सारी जानकारी के लिए हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख को पूरा पढ़िए, इसमें हमने आपको RAM के बारे में पूरी विस्तृत जानकारी दी है. 

तो आइये शुरू करते हैं और जानते हैं शुरुवात से RAM Kya Hota Hai और रैंडम एक्सेस मेमोरी इन हिंदी.

रैम क्या है (What is RAM in Hindi )

RAM (Random Access Memory) कंप्यूटर और मोबाइल की एक ऐसी Memory होती है जो कंप्यूटर में हो रहे काम को temporary रूप से स्टोर करता है. और जब हम उस काम को एक फाइल में save कर देते हैं तो वह Permanent रूप से कंप्यूटर में स्टोर हो जाता है. 

रैंडम एक्सेस मेमोरी क्या है?

RAM किसी भी कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग होता है. इसे Primary Memory, Volatile Memory और Physical Memory के नाम से भी जाना जाता है. 

हम अपने कंप्यूटर में जो भी काम current में करते हैं वह RAM में ही स्टोर होता है. RAM में कुछ भी चीज Permanent रूप से स्टोर नहीं होती है, अगर Electricity Power बंद हो जाती है तो RAM का सारा Data lost हो जाता है. 

जैसे हम कंप्यूटर में MS Word, Excel में काम करते हैं और अचानक से बिजली चली जाती है तो जिनता काम हमने किया वो सभी lost हो जाता है. इसलिए हमें कंप्यूटर में कर रहे काम को Hard Disk में सेव करना पड़ता है. 

इसी प्रकार हम अपने मोबाइल में जो भी application चलाते हैं वह सब RAM में Store होता है जैसे ही हम अपने Mobile को बंद कर देते हैं तो वह सारे Application भी बंद हो जाते हैं. क्योकि RAM में कोई भी DATA Permanent रूप से Store नहीं रहता है. 

RAM Full Form (रेम का पूरा नाम)

RAM का पूरा नाम (फुल फॉर्म) होता है – Random Access Memory (यादृच्छिक अभिगम स्मृति)

Definition of  RAM ( RAM की परिभाषा In Hindi)

RAM किसी भी कंप्यूटर की Primary Memory होती है जो कंप्यूटर में चल रहे current Work को temporary स्टोर करके रखता है. 

Measurement of RAM (RAM का मापन)

RAM को Capacity को MB, GB में मापा जाता है और इसकी Speed को MHz और GHz में मापा जाता है. 

Characteristic of RAM ( RAM की विशेषताएं )

  • यह कंप्यूटर या मोबाइल की Primary Memory होती है क्योकि सारे Software और Application RAM से ही चलते हैं.
  • जब तक कंप्यूटर में Power रहती है यह तब तक ही Memory को Store करके रखता है. Power off होने पर इसमें स्टोर सारा Data ख़त्म हो जाता है, इसलिए इसे Volatile Memory के नाम से भी जाना जाता है.
  • RAM ( Primary Memory ) की Capacity जितनी अधिक होगी कंप्यूटर के काम करने की क्षमता भी अधिक होगी.
  • Secondary Memory की तुलना में RAM की Speed अधिक होती है.
  • RAM अन्य Memory की तुलना में महँगी होती है.
  • यह Computer की Working Memory होती है. 

Type of RAM In Hindi ( RAM के प्रकार )

अभी तक आप अच्छे से समझ गए होंगे कि RAM क्या है अब जानते हैं यह कितने प्रकार का होता है. RAM मुख्यतः दो प्रकार का होता है – 

  1. Static RAM ( SRAM )
  2. Dynamic RAM ( DRAM )

Static RAM ( SRAM )

Static का मतलब होता है स्थिर. SRAM में Data को store करने के लिए बार Refresh करने की जरूरत नहीं पड़ती है, इसमें Data स्थिर रहता है. 

SRAM में DATA तभी तक Store रहता है जब तक इसमें Electricity Power आती रहती है क्योकि इसे काम करने के लिए बिजली की जरुरत पड़ती है. अगर Electricity Power आनी बंद हो जाती है तो इसमें Store सारा Data भी ख़त्म हो जाता है. 

Characteristic of Static RAM ( SRAM ) in Hindi 

  • इसे बार – बार Refresh करने की जरुरत नहीं पड़ती है. 
  • इसकी Speed High होती है. 
  • अधिक Power की जरूरत होती है. 
  • इसकी Size भी ज्यादा होती है. 
  • यह बहुत दिनों तक चलती है. 
  • इसका प्रयोग CPU Cache के लिए किया जाता है.
  • SRAM की Durability अच्छी होती है. 
  • DRAM की तुलना में SRAM महँगी होती है. 
  • SRAM का इस्तेमाल मुख्यतः Video Card, Digital to Analog Convertor के लिए किया जाता है.

Dynamic RAM ( DRAM )

Dynamic का मतलब होता है गतिशील. यह बिलकुल SRAM के विपरीत होते हैं, इसमें Data को store करने के लिए बार – बार refresh करने की जरूरत होती है. 

Power off होने पर DRAM में Store सारा Data भी ख़त्म हो जाता है. इसमें एक Capacitor और Transistor रहता है. 

Characteristic of Dynamic RAM ( DRAM ) in Hindi 

  • Data Store करने के लिए इसे बार – बार Refresh करने की जरूरत पड़ती है.
  • DRAM की Speed कम होती है.
  • कम Power की जरुरत पड़ती है.
  • इसकी Size कम होती है.
  • यह बहुत कम दिन तक ही चलती है.
  • Cache Memory के लिए इस्तेमाल की जाती है.
  • इसकी Durability भी कम होती है.
  • SRAM की तुलना में सस्ती है.
  • Memory capacity अच्छी होती है.
  • DRAM को System memory में इस्तेमाल किया जाता है.

RAM कैसे काम करता है (रैम के कार्य)

जब भी हम अपने कंप्यूटर या मोबाइल में कुछ भी करते हैं, जैसे कोई Game खेलते हैं, Movie देखते हैं या फिर कोई गाने सुनते हैं CPU Secondary memory से Game या Movie को निकालकर RAM में Play करने का कार्य करता है.

जब हमारा system off रहता है तो उस समय RAM बिलकुल खाली रहता है.उस स्तिथि में हमारे सारे Application, Data हमारे Hard Disk और Memory Card में स्टोर रहते हैं. 

जैसे ही हम system को on करते हैं तो पहले oprating system load होता है उसके बाद हम अन्य Application और software run करते हैं. यह सब Data RAM में temporary store होता है. 

हम जिनते अधिक Application चलाते हैं उतनी ही अधिक RAM का इस्तेमाल होता है. अगर हम एक साथ कई सारे Software या Application Run करते हैं तो हमारा System Hang होने लगता है. इसलिए आपको हमेशा अपनी RAM को Free रखनी चाहिए. 

ज्यादा RAM होने से क्या फायदे होते हैं?

ज्यादा RAM होने से बहुत फायदे होते हैं – 

हम एक साथ ज्यादा Application को चला सकते हैं. अगर हमारे Computer या Mobile की RAM कम होगी तो हम एक साथ अधिक Application नहीं चला पाएंगे, अगर हम एक साथ अधिक Application चलाने की कोशिस भी करेंगे तो हमारा System Hang होने लगता है. 

RAM के अधिक होने से System की Speed भी बढ़ जाती है. क्योकि हमारे पास काम करने के लिए Space भी अधिक होता है इसलिए हम आसानी से High Speed से एक साथ ज्यादा Software और Application को चला सकते हैं.

तो देखा आपने कैसे RAM के अधिक होने से हमारे System की कार्य क्षमता और स्पीड बढ़ जाती है. और System Hang होने की समस्या से भी छुटकारा मिलता है. 

Computer में कितनी RAM की जरुरत होती है?

वैसे तो कंप्यूटर की कोई RAM फिक्स नहीं होती है यह इस बात पर निर्भर करती है कि आपको कंप्यूटर पर किस प्रकार का काम करना है. 

वैसे घरों में इस्तेमाल होने वाले पर्सनल कंप्यूटर की RAM 4 से 6 GB होती है. किसी Professional काम करने के लिए computer की RAM 8 GB से अधिक होती है.

इसी प्रकार आपको जिनता ज्यादा काम कंप्यूटर पर करना होता है उसी के अनुसार RAM वाला कंप्यूटर आपके लिए सही रहता है. 

Mobile में कितने RAM की जरुरत होती है?

Android में 4GB RAM से आप कोई भी Application अच्छी Speed के साथ चला सकते हैं. क्योकि हम मोबाइल में प्रतिदिन जितना काम करते हैं उसके लिए 4GB RAM बहुत होती है. 4GB Smartphone में हम कोई भी काम अच्छे से कर सकते हैं. 

यदि आप iOS का इस्तेमाल कर रहें हैं तो इसमें आपको Android की तुलना में कम RAM की जरुरत होती है. इसलिए अधिकतर आपने देखा भी होगा कि Android में आपको iOS से अधिक RAM मिलती है. जैसे आपको iPhone 8 में केवल 2GB ही RAM मिलती है और बहुत सारे Android में 4GB RAM होती है. 

क्या कंप्यूटर रैम और मोबाइल में रैम अलग – अलग हैं?

 मोबाइल RAM और कंप्यूटर RAM का मुख्य काम एक ही होता है. यह दोनों System में current काम को run करने और Store करने के काम आते हैं. 

पर यह दोनों RAM Power में एक दुसरे से अलग होते हैं. जहाँ एक ओर मोबाइल RAM ज्यादा Power को save करने के लिए डिज़ाइन किया होता है वहीँ दूसरी ओर कंप्यूटर RAM performance को बढाने के लिए डिज़ाइन किया होता है. 

अधिकांश मोबाइल में LPDDR का इस्तेमाल होता है जबकि कंप्यूटर में PCDDR का. 

  • LPDDR का मतलब होता है – Low Power Double Data Synchronous RAM.
  • PCDDR का मतलब होता है – Standard Power Double Data Synchronous RAM.

रैम को परिवर्तनशील मेमोरी क्यों कहा जाता है?

रैम एक प्रकार की महत्वपूर्ण मेमोरी और एक परिवर्तनशील मेमोरी होती है. इसी कारण रैम को स्थायी स्टोरेज और डाटा का भण्डारण के रूप मे उपयोग नहीं किया जाता सकता है. रेम उस डाटा का भण्डारण करने के लिए प्रयोग किया जाता है जिसे अभी कंप्यूटर सीपीयू द्वारा चलाया जाना है.

इन्हें भी पढ़े 

निष्कर्ष : RAM in Hindi 

आज के इस लेख के माध्यम से हमने आपको बताया कि RAM Kya Hai और RAM से जुडी बहुत सारी जानकारी आपके साथ साझा की. जिसे पढने के बाद आप RAM के बारे में बहुत कुछ सीख गए होंगे.  उम्मीद करते हैं आपको हमेशा की तरह हमारा यह लेख What Is RAM in Hindi पसंद आया होगा और इससे आपको बहुत कुछ सीखने को मिला होगा. इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें. और इसी प्रकार के Knowledgeful लेख पढने के लिए हमारे हिंदी ब्लॉग पर आते रहिये.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.