रिपीटर क्या है कैसे काम करता है (फायदें, नुकसान) Repeater In Hindi

Repeater in Computer Network In Hindi: किसी भी नेटवर्क में सिग्नल जब कुछ दुरी तय कर लेता है तो Signal की intensity weak हो जाती है अर्थात एक निश्चित दुरी तय कर लेने के बाद सिग्नल कमजोर होने लगता है जिससे कि नेटवर्क के performance में कमी आ जाती है. नेटवर्क की performance को बनाये रखने के लिए सिग्नल को boost या regenerate करना बहुत आवश्यक होता है. इसी के लिए जरुरत पड़ती है रिपीटर की.

रिपीटर एक नेटवर्क डिवाइस होता है जिसकी मदद से नेटवर्क में सिग्नल को regenerate किया जा सकता है. रिपीटर नेटवर्क के आकार को बढ़ा देते हैं और नेटवर्क के performance में भी कमी नहीं आती है.

रिपीटर क्या है कैसे काम करता है (What Is Repeater In Hindi) Repeater in Computer Network In Hindi

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको रिपीटर के बारे में जानकारी देंगे. इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि Repeater क्या है, रिपीटर कैसे काम करता है, रिपीटर की विशेषता तथा रिपीटर के फायदे और नुकसान क्या है.

अगर आप भी रिपीटर के बारे में उपरोक्त जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख में अंत तक बने रहिये. तो चलिए बिना किसी देरी के शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं रिपीटर क्या होता है इन हिंदी.

रिपीटर क्या है (What is Repeater in Hindi)

रिपीटर एक हार्डवेयर नेटवर्क डिवाइस होता है जिसका काम नेटवर्क में Weak Signal को Boost up करने का होता है. जब सिग्नल नेटवर्क में Travel करता है तो कुछ दुरी तय करने के बाद नेटवर्क में सिग्नल की तीव्रता कम हो जाती है और सिग्नल Weak होने लगता है. इस स्थिति में एक रिपीटर को नेटवर्क में लगाया जाता है यह रिपीटर सिग्नल को regenerate करता है, जिससे कि Weak हो रहे सिग्नल की तीव्रता फिर से High हो जाती है.

रिपीटर OSI मॉडल की Physical Layer पर काम करता है यह सिग्नल को retransmit करने से पहले amplify और regenerate करता है. Repeater को Signal Booster के नाम से भी जाना जाता है.

एक रिपीटर में network segment में डेटा सिग्नल को extend करने और फिर इसे दुसरे network segment में Pass करने की क्षमता होती है जिससे कि नेटवर्क का आकार बढ़ जाता है.

रिपीटर कैसे काम करता है (How Does Repeater Work in Hindi)

जब एक चैनल के माध्यम से इलेक्ट्रिकल सिग्नल को broadcast किया जाता है तो यह टेक्नोलॉजी के Nature के आधार पर सिग्नल attenuated या कमजोर हो जाता है. नेटवर्क में इसी प्रकार की समस्या को दूर करने के लिए रिपीटर का इस्तेमाल किया जाता है.

रिपीटर नेटवर्क में सिग्नल को प्राप्त करता है और Signal की तीव्रता को बढ़ा देता है और सिग्नल को retransmit करता है. रिपीटर का इस्तेमाल करने से सिग्नल में आई हुई Weakness को दूर किया जाता है. दो छोटे LAN या बड़े LAN को जोड़ने के लिए रिपीटर का इस्तेमाल किया जाता है.

ईथरनेट में रिपीटर का इस्तेमाल

Ethernet में रिपीटर का इस्तेमाल करना सबसे उपयोगी माना जाता है. ईथरनेट में रिपीटर का इस्तेमाल करने का उद्देश्य यह है कि रिपीटर सिग्नल को carry करने में सक्षम होता है और सिग्नल को बिना Damage के अन्य Ethernet पर प्रसारित कर सकता है. रिपीटर एक intelligent device होती है क्योंकि यह Signal flow को नियंत्रित कर सकती है. अधिकतर Ethernet segment को आपस में जोड़ने के लिए Multiport Repeater का इस्तेमाल किया जाता है.

रिपीटर की विशेषताएं (Feature of Repeater in Hindi)

  • रिपीटर डिवाइस सिग्नल को ट्रांसमिट करने से पहले सिग्नल की strength को regenerate करती है.
  • एक रिपीटर OSI मॉडल की Physical Layer पर काम करता है और सभी प्रोटोकॉल के लिए transparent होता है जो Physical Layer के ऊपर की परत में काम कर रहे होते हैं.
  • रिपीटर के इस्तेमाल से नेटवर्क में single, physical, cable segment की Size Limit को बढाया जा सकता है.
  • रिपीटर की संख्या LAN implementation पर निर्भर करती है. दो या दो से अधिक LAN cables segment के बीच रिपीटर का इस्तेमाल करने के लिए आवश्यक है कि सभी cables segment पर सिग्नल भेजने के लिए समान Physical Layer protocol का उपयोग किया जाए.
  • एक रिपीटर यह सुनिश्चित करता है कि destination point पर पहुँचने से पहले amplified signal कमजोर तो नहीं हैं. 

रिपीटर के फायदे (Advantage of Repeater in Hindi)

रिपीटर के फायदे निम्नलिखित हैं –

  • रिपीटर के द्वारा सिग्नल को regenerate किया जा सकता है जिससे कि सिग्नल को लम्बी दुरी तक ट्रांसमिट कर सकते हैं.
  • रिपीटर एक बुद्धिमान डिवाइस होती है यह नेटवर्क सिग्नल को regenerate करने के साथ – साथ सिग्नल में error और noise को भी ठीक करती है.
  • रिपीटर को कनेक्ट करना बहुत ही आसान है. 
  • रिपीटर की कीमत भी अंत नेटवर्क डिवाइस की तुलना में अधिक नहीं होती है.
  • रिपीटर वायर्ड और वायरलेस दोनों प्रकार के आते हैं, यूजर अपनी सुविधा अनुसार इसे इस्तेमाल कर सकता है.
  • रिपीटर का इस्तेमाल करके नेटवर्क के आकार को बढाने पर भी नेटवर्क की performance पर कोई फरक नहीं पड़ता है.
  • Small नेटवर्क के लिए रिपीटर एक effective डिवाइस है.

रिपीटर के नुकसान (Disadvantage of Repeater in Hindi)

जिस प्रकार हर सिक्के के दो पहलु होते हैं, उसी प्रकार रिपीटर के भी कुछ नुकसान होते हैं जो कि निम्न प्रकार से हैं –

  • रिपीटर नेटवर्क को मॉनिटर नहीं कर सकता है.
  • रिपीटर नेटवर्क ट्रैफिक को कम करने में सक्षम नहीं होता है.
  • एक केबल के ख़राब होने से पूरा नेटवर्क ख़राब हो जाता है.
  • केबल में डेटा ट्रान्सफर करने की एक सीमा होती है.
  • रिपीटर Noise और वास्तविक सिग्नल के बीच अंतर करने में सक्षम नहीं है.
  • अन्य नेटवर्क टोपोलॉजी की तुलना में रिपीटर की गति धीमी होती है.

वाई – फाई रिपीटर क्या है (What is Wi-Fi Repeater in Hindi)

वर्तमान समय में ईथरनेट से ज्यादा वाई फाई का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए मार्किट में वाई – फाई राऊटर की मांग अधिक है. वायरलेस सिग्नल की रेंज को बढाने के लिए वायरलेस रिपीटर का इस्तेमाल किया जाता है. वायरलेस रिपीटर का इस्तेमाल करके केबल और डिवाइस को जोड़ने की जरुरत नहीं होती है. अगर आपको Instant प्रभावशाली नेटवर्क को स्थापित करना है तो आप वायरलेस रिपीटर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

रिपीटर से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

रिपीटर कौन सी डिवाइस है?

रिपीटर एक हार्डवेयर नेटवर्किंग डिवाइस है जिसकी मदद से नेटवर्क में सिग्नल को regenerate किया जाता है.

नेटवर्क में रिपीटर का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

जब एक नेटवर्क में Signal Travel करता है तो कुछ दुरी के बाद सिग्नल की intensity weak होने लगती है. नेटवर्क में सिग्नल की intensity को बढाने के लिए रिपीटर का इस्तेमाल किया जाता है.

रिपीटर का हिंदी में मतलब क्या होता है?

रिपीटर का हिंदी में मतलब पुनरावर्तक होता है.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: कंप्यूटर नेटवर्क में रिपीटर क्या है हिंदी में

रिपीटर एक Small नेटवर्क जैसे LAN को बनाने में बहुत मददगार डिवाइस है. अगर आप कंप्यूटर नेटवर्क का आकार बढ़ाना चाहते हैं बिना performance को कम करे तो आप रिपीटर का इस्तेमाल कर सकते हैं. नेटवर्क की strength और performance में बिना किसी कमी के रिपीटर नेटवर्क के आकार को बढाने के लिए बहुत प्रभावशाली डिवाइस है.

इस लेख को पढने के बाद आप लोगों को Repeater नेटवर्क डिवाइस के बारे में बहुत जानने को मिला होगा.

उम्मीद करते हैं आपको हमारे  द्वारा लिखा गया यह लेख Repeater Kya Hai In Hindi जरुर पसंद आया होगा और इस लेख से कुछ बहुत कुछ सीखने को मिला होगा. अंत में आपसे निवेदन है कि इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.

5/5 - (1 vote)

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

Leave a Comment