शेयर मार्केट व म्यूच्यूअल फण्ड में अंतर | Share Market vs Mutual Fund In Hindi

Share Bajar Vs Mutual Fund In Hindi: दोस्तों आजकल हर कोई शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड में पैसे निवेश करना चाहता है लेकिन बहुत कम लोगों को ही पता होता है कि शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड में अंतर क्या है. आज के इस लेख में हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले हैं और साथ ही आपको शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के फायदे और नुकसानों के बारे में भी बतायेंगें.

जब भी आप शेयर मार्केट या म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना स्टार्ट करते हैं तो आपको इन दोनों के बीच अंतर पता होना जरुरी है, कि इसमें निवेश करने से क्या फायदा और नुकसान होता है. अगर आपको शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड की अच्छी नॉलेज नहीं होगी तो आपके पैसे डूब भी सकते हैं.

तो दोस्तों अगर आप शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड के बीच अंतर जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक जरुर पढ़ें. तो चलिए दोस्तों बिना किसी देरी के शुरू करते हैं इस लेख को.

शेयर मार्केट क्या है (Stock Market Kya Hai In Hindi)

शेयर मार्केट ऐसा बाजार है जहाँ पर आम नागरिक शेयर मार्केट में लिस्टेड कंपनियों के शेयरों को खरीदने और बेचने का काम करते हैं. भारत में मुख्य रूप से दो स्टॉक एक्सचेंज है एक BSE और दूसरा NSE. निवेशक इन दोनों स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं. जब निवेशक किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो वह उस कंपनी के हिस्सेदार बन जाते हैं.

शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फण्ड में अंतर Share Market vs Mutual Fund In Hindi

शेयर मार्केट में हमेशा वित्तीय जोखिम शामिल रहता है, इसलिए अगर आपको शेयर मार्केट की अच्छी नॉलेज नहीं है तो पहले आप इसे सीख लीजिये फिर जाकर ही शेयर बाजार में निवेश करें.

म्यूच्यूअल फंड क्या है (Mutual Fund Kya Hai In Hindi)

म्यूच्यूअल फंड एक ऐसी योजना है जिसमें कई सारे लोग सामूहिक रूप से अपने पैसों को फंड हाउस में निवेश कर देते हैं जहाँ Expert फंड मैनेजर उनके पैसों को शेयर मार्केट, बांड, सरकारी प्रतिभूतियों आदि में निवेश कर देते हैं, और जब कुछ समय बाद प्रॉफिट होता है तो फंड हाउस 2 से 3 प्रतिशत रखकर बाकी का पैसा निवेशकों को दे देते हैं.

म्यूच्यूअल फंड में आप दो प्रकार से निवेश कर सकते हैं एक SIP (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) और दूसरा Lump Sum (लम्प सम). SIP में आपको हर महीने एक निश्चित धनराशी एक निश्चित समय अवधि तक म्यूच्यूअल फंड में निवेश करनी होती है और Lump Sum में आप एक साथ बड़ी राशि निश्चित समय के लिए म्यूच्यूअल फंड में  निवेश कर सकते हैं.

म्यूच्यूअल फंड उन लोगों के लिए अच्छा विकल्प है जिन्हें शेयर मार्केट की अधिक समझ नहीं है.

शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड में अंतर

शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड दोनों एक दुसरे से भिन्न हैं, इनके बीच के अंतर को हमने नीचे टेबल के माध्यम से आपको समझाया है –

अंतर का आधारशेयर मार्केटम्यूच्यूअल फंड
स्वामित्वशेयर मार्केट में आप स्वयं सीधे कंपनी के शेयर में निवेश करते हैं.म्यूच्यूअल फंड में निवेश Indirect रूप से होता है भले ही पैसे आपके होते है परतुं उसे किस शेयर में लगाना है यह फंड मैनेजर निधारित करते है.
निवेश में फायदाआप एक समय में एक ही कंपनी के शेयर खरीद सकते हैं.फंड मैनेजर एक साथ आपके पैसों को बहुत सारी कंपनी के शेयर में निवेश करते हैं.
नियंत्रणआप शेयरों में निवेश के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार होते हैं.स्टॉक का पूर्वनिर्धारित portfolio होता है, निवेश का आप पर कोई नियंत्रण नहीं होता है.
शुल्कशेयर मार्केट में आपको बहुत सारे फ़ीस और चार्ज pay करने होते हैं जैसे ब्रोकरेज, अन्य लेनदेन शुल्क.म्यूच्यूअल फंड में आपको फंड मैनेजमेंट चार्ज, फ्रंट-एंड लोड/बैक-एंड लोड चार्ज, आदि का भुगतान करना होगा.
नियमितताशेयर मार्केट में Fixed investment का कोई ऑप्शन नहीं हैं क्योंकि शेयर की कीमतों में नियमित रूप से उतार – चढ़ाव होता है.म्यूच्यूअल फंड में आप एक निश्चित मासिक व्यवस्थित निवेश योजना (SIP) के माध्यम से निवेश कर सकते हैं.
रिटर्नशेयर मार्केट में आपको बहुत जल्दी return प्राप्त हो जाते हैं.म्यूच्यूअल फंड लंबे समय अवधि में अच्छे return देते हैं. आमतौर पर 5 – 6 साल बाद.
जोखिमशेयर मार्केट में जोखिम अधिक होता है.म्यूच्यूअल फंड में जोखिम शेयर मार्केट की तुलना में कम होता है.
किसे चुनेंजिन लोगों को शेयर मार्केट की अच्छी समझ है उनके लिए शेयर मार्केट में निवेश करना अधिक फायदेमंद है.जिन लोगों को शेयर मार्केट की समझ नहीं है पर वे अपने पैसों को निवेश करना चाहते हैं उनके लिए म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना फायदेमंद है.
Difference between stock market and mutual fund In Hindi

शेयर मार्केट में निवेश करने के फायदे

ये तो आप लोग जानते ही होंगें शेयर मार्केट में निवेश करने से कई सारे निवेशक रातों – रात करोडपति बन जाते हैं, इसलिए जिस व्यक्ति को शेयर मार्केट की अच्छी समझ होती है उसे शेयर मार्केट के अनेक सारे फायदे होते हैं. शेयर मार्केट में निवेश करने पर होने वाले कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

  • अन्य किसी भी निवेश की तुलना में शेयर मार्केट में निवेशकों को बहुत अधिक फायदा मिलता है.
  • आप जिस कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के कुछ प्रतिशत हिस्सेदार बन जाते हैं.
  • कंपनी के लाभ, बोनस आदि निवेशकों को Dividend के रूप में मिलते हैं.
  • शेयर मार्केट के अंदर आप कभी भी शेयर खरीद और बेच सकते हैं.
  • SEBI शेयर मार्केट में नियामक के रूप में काम करती है जो कि निवेशकों के हितों की रक्षा करती है, इसलिए शेयर मार्केट में निवेश करना बिल्कुल सुरक्षित है.

शेयर मार्केट में निवेश करने के नुकसान

शेयर मार्केट में फायदे होने के साथ – साथ कुछ नुकसान भी होते हैं इसलिए सभी लोग शेयर मार्केट में निवेश नहीं करते हैं. शेयर मार्केट के कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं –

  • शेयर बाजार में हमेशा वित्तीय जोखिम रहता है क्योंकि मार्केट में उतार – चढ़ाव होते रहते हैं.
  • अगर आपको शेयर बाजार की अच्छी नॉलेज नहीं है तो आप शेयर बाजार में अपने पैसे गंवा बैठोगे.
  • जब कोई कंपनी बंद हो जाती है तो शेयरधारकों को सबसे अंतिम में भुगतान किया जाता है.

म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के फायदे

म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के अनेक सारे फायदे मिलते हैं  जैसे कि –

  • शेयर मार्केट की तुलना में म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना कम जोखिम भरा है.
  • म्यूच्यूअल फंड में आपके निवेश को Expert लोग मैनेज करते हैं जिससे कि म्यूच्यूअल फंड में जोखिम कम हो जाता है.
  • म्यूच्यूअल फंड में कई scheme होती हैं जिसके अंतर्गत निवेशक म्यूच्यूअल फंड में निवेश कर सकते हैं.
  • आप न्यूनतम 500 रूपये महीने से SIP के द्वारा म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना स्टार्ट कर सकते हैं.
  • बैंक के Fixed Deposit और Recurring Deposit की तुलना में म्यूच्यूअल फंड में फायदा अधिक होता है.
  • म्यूच्यूअल फंड में आप कभी भी अपनी जरुरत के अनुसार फंड निकाल सकते हैं.

म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के नुकसान

शेयर मार्केट की भांति म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के कुछ नुकसान भी होते हैं, जिसके बारे में हमने आपको नीचे बताया है –

  • FD, RD की तरह म्यूच्यूअल फंड में return की कोई गांरटी नहीं होती है.
  • चूँकि म्यूच्यूअल फंड में हमारे पैसों को फंड मैनेजर निवेश करते हैं इसलिए हम अपने पसंदीदा शेयरों में निवेश नहीं कर पाते हैं.
  • म्यूच्यूअल फंड में निवेशकों को Tax Pay करना होता है जिससे कि मुनाफे में से कुछ प्रतिशत कम हो जाता है.

FAQs: Stock Market And Mutual Fund In Hindi

मै नया निवेशक हूँ तो मुझे कहाँ निवेश करना चाहिए?

यदि आप बिल्कुल नए निवेशक है तो आपको Groww App से म्यूच्यूअल फण्ड में SIP के रूप में Index Fund में प्रत्येक महीने बिना किसी रुकावट के निवेश करना चाहिए.

ज्यादा जोखिम किसमें है शेयर मार्केट या म्यूच्यूअल फण्ड?

शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फण्ड दोनों में ही रिस्क है परतुं म्यूच्यूअल फण्ड में कम जोखिम रहता है.

निष्कर्ष – स्टॉक मार्केट और म्यूच्यूअल फण्ड में अंतर हिंदी में

तो दोस्तों आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हमने सीखा कि शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड में क्या अंतर है. अगर आपको शेयर मार्केट की नॉलेज है तो आप शेयर मार्केट में निवेश कर सकते हैं इसमें आपको बहुत कम समय में अच्छे return मिलते हैं. लेकिन अगर आपको शेयर मार्केट की अच्छी नॉलेज नहीं है तो आप म्यूच्यूअल फंड में अपने पैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं, इसमें लंबे समय में अच्छे return मिलते हैं.

हमें पूरी उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढने के बाद आप शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड के बीच अंतर को अच्छी प्रकार से समझ गए होंगें, यदि अभी भी इस लेख को लेकर आपके कोई सवाल हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब जल्दी देने कि कोशिस करेंगें. इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरुर करें ताकि वे भी शेयर मार्केट और म्यूच्यूअल फंड को अच्छे से समझ सके.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment