सिप क्या है और एसआईपी में निवेश कैसे शुरू करें – SIP in Hindi

SIP Full Form in Hindi: अगर आप हर महीने एक छोटी राशि निवेश करके लंबे समयांतराल में अच्छे पैसे कमाना चाहते हैं तो SIP आपके लिए एक बेहतर विकल्प है. SIP की मदद से आप अपनी वित्तीय स्थिति में अनावश्यक बोझ डाले बिना कम जोखिम के साथ शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं.

अधिकतर आपने सुना भी होगा कि शेयर बाजार में ज्यादा पैसे कमाने के लिए ज्यादा पैसे निवेश करने होते हैं. यह बात काफी हद तक सही है लेकिन इसमें जोखिम का ख़तरा अधिक होता है. आप एक साथ अपनी सारी कमाई गवां सकते हैं. लेकिन SIP आपको एक ऐसा अवसर प्रदान करता है जिसमें आप हर महीने छोटी Investment के साथ लंबे समय में अच्छी कमाई कर सकते हैं.

आज के इस लेख में हम आपको SIP क्या है, SIP का फुल फॉर्म क्या है, SIP में निवेश कैसे करें, SIP में रिस्क, SIP के फायदे और नुकसानों के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं. अगर आप भी SIP के द्वारा निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो आपको यह लेख पूरा अंत तक जरुर पढना चाहिए.

तो चलो शुरू करते हैं आज का यह लेख और जानते हैं SIP Investment in Hindi.

सिप क्या है और एसआईपी में निवेश कैसे शुरू करें - SIP Full Form in Hindi

सिप क्या है (What is SIP in Hindi)

SIP यानि कि सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (Systematic  Investment Plan) म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने की एक ऐसी Process है जिसमें निवेशक एक निश्चित राशि को नियमित रूप से एक निश्चित समय अंतराल के लिए निवेश करता है.

SIP निवेश करने का एक अच्छा तरीका है, क्योंकि इसमें आपको हर महीने एक निश्चित राशि निवेश करनी होती है. आप 500 रूपये प्रतिमाह भी SIP में निवेश कर सकते हैं. SIP के जरिये निवेश करने पर आपको अधिक वित्तीय समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है.

लंबे समय में अच्छा पैसा कमाने के लिए SIP में निवेश करना एक अच्छा विकल्प है. SIP ने निवेश करने से आप ज्यादा जोखिम न लेते हुए एक सुरक्षित निवेश कर सकते हैं, और लम्बी अवधि बाद आपके कोष में अच्छी धनराशि जमा हो जायेगी. एक मध्यमवर्गीय व्यक्ति जिसकी कमाई निश्चित होती है, वह भी SIP के द्वारा शेयर बाजार में निवेश कर सकता है.

SIP बैंक में recurring deposits (RD) खुलवाने जैसा है, जहाँ पर हम एक निश्चित धनराशि को हर महीने एक निश्चित समय के लिए जमा सकते हैं, और समय अवधि पूरी हो जाने के बाद अपने पैसे ब्याज सहित निकाल सकते हैं.

लेकिन RD की तुलना में SIP से आप अधिक Return प्राप्त कर सकते हैं, और SIP Flexible भी होता है, आप कभी भी अपने निवेश की राशि को निकाल सकते हैं या फिर अपने निवेश को घटा या बढ़ा सकते हैं.

SIP का फुल फॉर्म (SIP Full form in Hindi)

एसआईपी (SIP) का Full Form “Systematic  Investment Plan होता है जिसका हिंदी में पूरा नाम व्यवस्थित निवेश योजना है.

SIP की परिभाषा (Definition of SIP in Hindi)

SIP को हम इस प्रकार से परिभाषित कर सकते हैं “ म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने का ऐसा प्लान जिसमें निवेशक हर महीने एक निश्चित राशि को निश्चित समय अवधि के लिए निवेश करता है सिप कहलाता है. “

एसआईपी में निवेश कैसे शुरू करें – SIP Investment in Hindi

सिप (SIP) में आप किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड हाउस की ऑफिसियल वेबसाइट में अपना अकाउंट बनाकर निवेश कर सकते हैं. एसआईपी शुरू करने की प्रक्रिया निम्न प्रकार से है.

1 – सबसे पहले आपको KYC Complete करनी होती है. प्रत्येक फंड हाउस में निवेश शुरू करने से पहले निवेशकों को केवाईसी दस्तावेज प्रक्रिया पूरी करने की आवश्यकता होती है. आपको अपना पहचान पत्र, निवास प्रमाण पत्र और फोटोग्राफ Submit करने होते हैं.

2 – अपने निवेश का लक्ष्य पहचाने कि आप SIP में निवेश करके क्या प्राप्त करना चाहते हैं. इसके बाद उन फंडों को ढूंढे जो आपके लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेंगे. 

3  – एक निश्चित रकम निर्धारित करें, जिसे आप बिना जोखिम के निवेश कर सकते हैं. इसके लिए आप SIP Calculator की सहायता ले सकते हैं.

4  – इसके बाद एक निश्चित समय अंतराल तय करें जिसके अंतर्गत आप निवेश करेंगे.

5 – अब निवेश करना शुरू करें. आप इसमें अपने वित्तीय सलाहकार की भी मदद ले सकते हैं.

SIP के फायदे (Advantage of SIP in Hindi)

SIP के द्वारा निवेश करने के निम्न फायदे होते हैं –

  • SIP के साथ आप एक छोटी राशि के निवेश से शुरू कर सकते हैं. आप महीने के केवल 500 रूपये से SIP के साथ निवेश कर सकते हैं.
  • SIP आपको flexibility प्रदान करता है, आप कभी भी अपने निवेश से पूरी या आंशिक राशि निकाल सकते हैं. इसके अलावा निवेश की मात्रा को भी बढाया या घटाया जा सकता है.
  • SIP fixed deposits और  recurring deposits की तुलना में दुगना Return देती है.
  • लम्बी समय अवधि के लिए निवेश की गयी एक निश्चित राशि एक बार में निवेश की गयी बड़ी राशि की तुलना में अधिक Return देती है.
  • SIP में निवेश करना बहुत ही आसान और सुविधाजनक है. आपको एक बार अपना प्लान चुनना होता है और फिर म्यूच्यूअल फण्ड निश्चित तारीख को आपके खाते से राशि निकालकर आपके चुने प्लान में जमा कर देते हैं. 
  • SIP में जोखिम की संभावना बहुत कम रहती है.
  • SIP के साथ आप एक अनुशासन के तहत निवेश करते हैं. एक अनुशासन के तहत निवेश करने से आपको ज्यादा वित्तीय समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा.

SIP के नुकसान (Disadvantage of SIP in Hindi)

SIP के फायदों के साथ – साथ इसके कुछ नुकसान भी होते हैं. SIP के कुछ नुकसान निम्न प्रकार से हैं –

  • उन निवेशकों के लिए SIP उपयुक्त नहीं है जिनके पास निश्चित आय का श्रोत नहीं है, क्योंकि SIP के द्वारा आपको हर महीने में एक निश्चित धनराशि जमा करनी होती है.
  • SIP हर बार Lump Sum (एक साथ बड़ी रकम निवेश) से बेहतर नहीं होते हैं. जब बाजार में शेयर के दाम बढ़ते हैं तो Lump Sum आपको SIP में तुलना में अधिक return देता है.
  • SIP लंबी अवधि में अच्छा रिटर्न देने के लिए जाने जाते हैं. हालांकि, अगर कोई निवेशक कम अवधि में SIP में निवेश करता है, तो रिटर्न उतना अच्छा नहीं हो सकता है.
  • शेयर बाजार में उतार – चढ़ाव होने के कारण return मिलने की कोई गारंटी नहीं होती है.

SIP में रिस्क क्या है (SIP Me Risk Kya Hai)

SIP में लंबे समय तक निवेश किया जाता है जिससे कि इसमें रिस्क को कम देखा जाता है. लेकिन SIP के कुछ रिस्क भी हैं, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए.

  • SIP में कम समय के लिए निवेश करने पर अच्छे Return नहीं मिलते हैं. इसलिए SIP में हमेशा लंबे समय निवेश की सलाह दी जाती है.
  • SIP में मिलने वाला return मार्केट की स्थिति पर निर्भर करता है.
  • SIP में बैंक RD या FD पर की तरह return मिलने की कोई गारंटी नहीं होती है.
  • कंपनी के ग्रेड गिरने से म्यूच्यूअल फण्ड के यूनिट मूल्य में भी गिरावट आती है.

इन्हें भी पढ़े

SIP से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

SIP स्कीम क्या है?

SIP म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने की एक ऐसी स्कीम है जिसमें निवेशक एक निश्चित धन राशि को हर महीने एक निश्चित समय अंतराल तक जमा करता है. जिससे लंबे समय बाद उसे अच्छे Return प्राप्त हो सके.

SIP का फुल फॉर्म क्या है?

SIP का फुल फॉर्म Systematic Investment Plan होता है जिसे हिंदी में व्यवस्थित निवेश योजना कहा जाता है.

SIP में कितने रूपये जमा कर सकते हैं?

SIP में आप न्यूनतम 500 रूपये प्रतिमाह पर निवेश शुरू कर सकते हैं.

आपने सीखा: SIP क्या है हिंदी में

हमें पूरी उम्मीद है कि इस लेख को पढने के बाद आप समझ गए होंगे कि SIP Kya Hai In Hindi और आप SIP में निवेश कैसे कर सकते हैं. और साथ में ही आपको SIP के फायदों और नुकसान के बारे में भी जानने को मिला होगा. आपको हमारे द्वारा लिखी गयी यह पोस्ट कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं और साथ में ही अपने दोस्तों के साथ भी इस आर्टिकल को शेयर करें.

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और इस Best Hindi Blog का संस्थापक हूँ. मुझे ब्लॉग्गिंग, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग जैसे विषयों पर गहरी नॉलेज है! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

1 thought on “सिप क्या है और एसआईपी में निवेश कैसे शुरू करें – SIP in Hindi”

Leave a Comment