Utility Software क्या है और यूटिलिटी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में अंतर

Utility Software क्या है और यूटिलिटी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में अंतर

Utility Software Kya Hai in Hindi: पिछले लेखों में हमने आपको एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर और सिस्टम सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी दी है, आज के इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि Utility Software क्या है, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के उदाहरण क्या हैं, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के फायदे क्या हैं और यूटिलिटी सॉफ्टवेयर तथा एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में अंतर क्या है.

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं ये कंप्यूटर की Performance बनाये रखने के अलावा भी अनेक प्रकार के महत्वपूर्ण कार्य कंप्यूटर में करते हैं जिससे कि यूजर बिना किसी परेशानी के सुचारू रूप से कंप्यूटर पर अपना कार्य कर सकता है.

कंप्यूटर में कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर पहले से इनबिल्ट रहते हैं कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर को हम बाहर से इनस्टॉल करते हैं जिससे कंप्यूटर की कार्यक्षमता बनी रहती है.

इस लेख में माध्यम से हम यूटिलिटी सॉफ्टवेयर को अच्छी प्रकार से समझेंगे तो चलिए बिना देरी के शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या होते हैं.

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या है (Utility Software in Hindi)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में ऐसे Program होते हैं जो कंप्यूटर को Analyze, Configure, Optimize और Maintain करते हैं. इन्हें Service Program, या सिर्फ Utility भी कहा जाता है.

कंप्यूटर में चाहे फाइल का प्रबंधन करना हो, Backup बनाना हो, कंप्यूटर को वायरस से सुरक्षित रखना हो आदि प्रकार के सभी कार्य यूटिलिटी सॉफ्टवेयर करते हैं. कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ ही आते हैं और कुछ Third Party  Developer के द्वारा बनाए जाते हैं.

यूटिलिटी प्रोग्राम को कंप्यूटर सिस्टम और सिस्टम सॉफ्टवेयर के लिए बनाया गया है जिससे कि कंप्यूटर अच्छी प्रकार से अपना कार्य कर सके. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का फायदा यूजर को सबसे ज्यादा मिलता है. इनके द्वारा कंप्यूटर की Performance बनी रहती है जिससे कि यूजर Smoothly अपना कार्य कंप्यूटर पर कर सकता है.

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के उदाहरण (Example of Utility Software in Hindi)

  • Anti – Virus (एंटीवायरस)
  • File Manager (फाइल मेनेजर)
  • Screen Saver (स्क्रीन सेवर)
  • Encryption Tool (एन्क्रिप्शन टूल)
  • Font (फॉण्ट)
  • Debuggers (डेबुग्गेर्स)
  • Memory Tester (मेमोरी टेस्टर)
  • Space Cleaner (स्पेस क्लीनर)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के प्रकार (Type of Utility Software in Hindi)

वैसे तो यूटिलिटी सॉफ्टवेयर अनेक प्रकार के होते हैं जिनमें से कुछ प्रमुख प्रकार के यूटिलिटी सॉफ्टवेयर निम्न प्रकार से हैं –

  • File Management Program (फाइल मैनेजमेंट प्रोग्राम)
  • Disk Manager and Disk Cleaner (डिस्क मेनेजर और डिस्क क्लीनर)
  • File Compression Program (फाइल कम्प्रेशन प्रोग्राम)
  • Security Program (सिक्यूरिटी प्रोग्राम)
  • Back up and Recovery Tool (बेकअप और रिकवरी टूल)

चलिए अब इनके बारे में एक – एक कर जानते हैं

#1 – File Management Program (फाइल मैनेजमेंट प्रोग्राम)

कंप्यूटर की मेमोरी में अनेक प्रकार के बहुत सारा Data अनेक प्रकार की File Save रहती है और इन सभी Files को Manage करने का कार्य File Management Program का होता है.

इस प्रकार के प्रोग्राम की मदद से यूजर कंप्यूटर में उपस्थित File को Manage करता है जैसे कि फाइल को सेव करना, डिलीट करना, फाइल में डेटा Edit करना, Rename करना, Location बदलना, Copy करना आदि.

File Management Program यूजर को File Hierarchy Access करने को Allow करते हैं जिससे कि यूजर किसी भी Specific File को आसानी से ढूंढ पाता है और उस पर काम कर सकता है.

#2 – Disk Management and Disk Cleaner Program (डिस्क मेनेजर और डिस्क क्लीनर)

दिन – प्रतिदिन टेक्नोलॉजी के बढ़ने के साथ यूजर को चाहिए होता है कि उसका कंप्यूटर Smoothly काम करें. जब भी यूजर कंप्यूटर में किसी भी प्रकार का कोई काम करता है जैसे Data Edit करना, File Open, Close करना, कोई नया Program Install या Remove करना आदि तो कंप्यूटर में बहुत सारा Unused Data का निर्माण हो जाता है. जिससे कंप्यूटर की गति और कार्य क्षमता पर Negative Effect पड़ता है.

यूजर के द्वारा कंप्यूटर में काम करने से जो यह Unused Data बन जाता है उसकी सफाई के लिए जरुरत पड़ती है Disk Cleaner Program की. ये Program हमारे कंप्यूटर सिस्टम से Unused Data को Remove कर देते हैं जिससे कि कंप्यूटर Smoothly काम करता है.

इसके अलावा Same Data जो कंप्यूटर में अलग – अलग जगह मौजूद होते हैं उनकी जानकारी को यूजर तक पहुचाने का काम भी Disk Management का होता है. जिससे कि यूजर Duplicate Data या File को Remove कर सके.

Defragmenters, Disk Partition Editor आदि Disk Management या Disk Cleaner Program के उदाहरण हैं.

#3 – File Compression Program (फाइल कम्प्रेशन प्रोग्राम)

जैसा कि नाम से स्पष्ट है  File Compression Program कंप्यूटर में मौजूद फाइल के आकार को Compress करता है जिससे कि यूजर के Drive में Space बचता है और वह अधिक Data को Computer में Input कर सकता है.

कंप्यूटर में किसी File को Compress करने पर उस फाइल का आकार कम हो जाता है और साथ में ही वह Protect भी हो जाती है. File का Original Size कम हो जाने से वह कम Disk Space का इस्तेमाल करती है और Protected File पर वायरस का खतरा भी कम रहता है. WinZip, WinRAR, 7ZIP आदि ये सभी Third Party Utility Software हैं.

#4 – Security Program (सिक्यूरिटी प्रोग्राम)

कंप्यूटर में लगभग सभी लोग इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हैं जिससे कि Malware, Hacking आदि का खतरा बढ़ जाता है जिससे कि कंप्यूटर पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और साथ में यूजर का Data भी चोरी होने का खतरा होता है. इसी के लिए हमें जरुरत पड़ती है Security Program की.

Security Program कंप्यूटर को Malware और ऑनलाइन आने वाले खतरों से बचाते हैं. कंप्यूटर के लिए Security Program Utility Software बहुत महत्वपूर्ण होते हैं. Anti – Virus, Firewall आदि कुछ Utility Software के उदाहरण हैं.

#5 – Backup and Recovery Tool (बेकअप और रिकवरी टूल)

कई बार कंप्यूटर में गलती से कुछ Important Data Delete हो जाता है जिससे कि यूजर को भरी नुकसान उठाना पड़ सकता है ऐसे में काम आते हैं Backup और Recovery Tool. कंप्यूटर में किसी फाइल या Data को सुरक्षित रखने के लिए ये Tool बहुत महत्वपूर्ण हैं.

कंप्यूटर में आपको अनेक प्रकार के Utility Software मिल जाते हैं जिनके द्वारा आप अपने Data का Backup बना सकते हो. ये सॉफ्टवेयर आपके Data का दूसरी जगह Backup बना देते हैं. अगर Cloud Storage पर Data Save करने की बात करें तो Google Drive, Microsoft One Drive आदि इसके उदाहरण हैं.

Recovery Tool की मदद से आप Delete हुए डाटा को पुनः Data Recover कर सकते हैं. अगर आपके Data Recycle Bin से भी डिलीट कर दिया है तो Recovery सॉफ्टवेयर के द्वारा Data को वापस प्राप्त कर सकते हैं.

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के फायदे (Advantage of Utility Software in Hindi)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के अनेक फायदे होते हैं जिनमें से कुछ प्रमुख निम्न हैं –

  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में फाइल का प्रबंधन करते हैं जिससे कि यूजर को किसी भी फाइल को Access करने में आसानी होती है.
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर आपके कंप्यूटर को खतरनाक इन्टरनेट वायरस से सुरक्षित रखते हैं.
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की मदद से आप कंप्यूटर में बड़ी साइज़ की फाइल को Compress कर सकते हैं जिससे कि आपके Disk Space बच जाता है.
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की मेमोरी को Manage करके कंप्यूटर की Performance बढ़ाने में भी मदद करती है.
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की मदद से यूजर अपने Data का Backup बना सकता है.
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में unused data को Clean करती है और कंप्यूटर की Performance बनाये रखती है.

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में अंतर

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में निम्न अंतर हैं –

क्रम संख्याएप्लीकेशन सॉफ्टवेयरयूटिलिटी सॉफ्टवेयर
1 एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को यूजर की सुविधा के अनुसार बनाया जाता है.यूटिलिटी सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर के साथ काम करने के लिए बनाया जाता है.
2एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को इन्टरनेट के माध्यम से डाउनलोड किया जाता है.यूटिलिटी सॉफ्टवेयर या तो पहले से कंप्यूटर में इनस्टॉल रहते हैं या फिर Web के माध्यम से इन्हें डाउनलोड कर सकते हैं.
3एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का कार्य और आकार दोनों ही अधिक होते हैं.यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का कार्य सीमित रहता है और आकार में भी ये अधिक नहीं होते हैं.
4एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम का भाग नहीं होता है ये स्वतंत्र होते हैं. पर ये ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भर रहते हैं.यूटिलिटी सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा होते हैं.
5एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल एक सामान्य यूजर भी आसानी से कर सकता है.यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने के लिए तकनीकी नॉलेज की जानकारी होनी चाहिए.
6अक्सर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर Paid होते हैं. और इन्हें इन्टरनेट की मदद से कंप्यूटर में डाउनलोड करना पड़ता है.अक्सर यूटिलिटी सॉफ्टवेयर फ्री में होते हैं.
7MS Office एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का एक बढ़िया उदाहरण है.Anti – Virus यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का एक अच्छा उदाहरण है.
(Difference Between Utility Software in Application Software in Hindi)

इन्हें भी पढ़े 

FAQ For Utility Software in Hindi

यूटिलिटी प्रोग्राम क्या है?

यूटिलिटी प्रोग्राम ऐसे कंप्यूटर प्रोग्राम होते हैं जो कि कंप्यूटर को Configure, Maintain और Optimize करते हैं.

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का क्या कार्य है?

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के अनेक कार्य होते हैं जैसे कि – फाइलों का प्रबंधन करना,
Unused Data की सफाई करना, फाइलों के आकार को कम करना जिससे कि Disk Space की बचत हो, कंप्यूटर को Security प्रदान करना, फाइलों का Backup बनाना इत्यादि.

यूटिलिटी का हिंदी में मतलब क्या होता है?

Utility का हिंदी में मतलब में मतलब उपयोगिता होता है.

हमने सिखा: Utility Software क्या है हिंदी में

इस लेख के माध्यम से हमने सीखा कि Utility Software क्या है और किसी कंप्यूटर सिस्टम के लिए यह कितने महत्वपूर्ण है. लेख का निष्कर्ष निकालें तो यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की Performance को बनाये रखते हैं, Security को मजबूत करते हैं तथा यूजर को Allow करते हैं कि वह कंप्यूटर पर आसानी से अपना कार्य कर सके. उम्मीद करते हैं दोस्तों आपको लेख What Is Utility Software In Hindi समझ में आया होगा, इस लेख को आप सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार ! मेरा नाम रणजीत सिंह है और मुझे इन्टरनेट पर लोगो की मदद करने में रूचि है. साथ ही Techshole.com का Fownder हु. इस Best Hindi Blog पर Blogging और Earn Money Online इत्यादि इन्टरनेट से जुडी जानकारी हिंदी में शेयर करता हु! हमारे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment