मैग्नेटिक टेप क्या है (मैग्नेटिक टेप और मैग्नेटिक डिस्क में अंतर)

Magnetic Tape Kya Hai In Hindi: कंप्यूटर में अनेक प्रकार की स्टोरेज डिवाइस डिवाइस होती हैं जिनका इस्तेमाल डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है. अधिकतर नए स्टोरेज डिवाइस पुराने स्टोरेज डिवाइस को replace कर देते हैं जिससे कि हमें पुराने समय में इस्तेमाल होने वाले स्टोरेज डिवाइस के बारे में अधिक जानकारी नहीं रहती है.

लेकिन कुछ स्टोरेज डिवाइस ऐसी भी होती हैं जिनका इस्तेमाल वर्षों से लेकर आज तक भी किया जाता है क्योंकि ये बहुत किफायती होती हैं. उन्हीं में से एक स्टोरेज डिवाइस है मैग्नेटिक टेप, जिसके बारे में आज हम इस लेख में जानने वाले हैं.

मैग्नेटिक टेप क्या है और चुम्बकीय टेप और मैग्नेटिक डिस्क में अंतर (Magnetic Tape in Hindi)

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको Magnetic Tape क्या है, मैग्नेटिक टेप का आविष्कार किसने किया, मैग्नेटिक टेप की विशेषताएं, मैग्नेटिक टेप के फायदे, नुकसान और मैग्नेटिक टेप तथा मैग्नेटिक डिस्क के बीच में अंतर के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं.

अगर आप भी मैग्नेटिक टेप के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. तो चलिए बिना समय गंवाए शुरू करते है इस लेख चुम्बकीय टेप क्या है इन हिंदी में.

मैग्नेटिक टेप क्या है (What is Magnetic Tape in Hindi)

मैग्नेटिक टेप या चुम्बकीय टेप कंप्यूटर में एक सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस होता है जिसका इस्तेमाल Data को स्टोर करने के लिए किया जाता है. मैग्नेटिक टेप डेटा स्टोर करने की सबसे पुरानी तकनीकी में से है. मैग्नेटिक टेप एक non volatile memory होती है. जिसका मतलब है कि पॉवर सप्लाई बंद हो जाने पर भी इसमें स्टोर डेटा नष्ट नहीं होता है.

मैग्नेटिक टेप में डेटा को स्टोर करने के लिए रिबन के केवल एक तरफ का उपयोग किया जाता है. यह sequential मेमोरी है जिसमें डेटा स्टोर करने के लिए पतली प्लास्टिक रिबन होती है और चुंबकीय ऑक्साइड द्वारा लेपित होती है.

Sequential access के कारण डेटा read और write की गति धीमी है. रिबन की चौड़ाई 4 मिमी से 1 इंच तक होती है. मैग्नेटिक टेप की स्टोरेज क्षमता 100 MB से 200 GB तक होती है.

मैग्नेटिक टेप में डेटा एक्सेस की दर धीमी होती है इसलिए इसका इस्तेमाल अधिकतर backup memory के तौर पर किया जाता है.

मैग्नेटिक टेप का इतिहास

मैग्नेटिक टेप का आविष्कार सबसे पहले sound record करने के लिए 1928 में Fritz Pfleumer ने किया था जो कि एक जर्मन वैज्ञानिक थे. Pfleumer ने कागज की एक लंबी पट्टी पर आयरन ऑक्साइड (Fe2O3) पाउडर कोटिंग का इस्तेमाल किया गया था.

डेटा स्टोर करने के लिए चुम्बकीय टेप का इस्तेमाल पिछले कई वर्षों से किया जा रहा है. आज CD, DVD जैसी अनेक टेक्नोलॉजी मैग्नेटिक टेप का स्थान ले रही हैं लेकिन आज भी मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल व्यापक रूप से किया जा रहा है.

मैग्नेटिक टेप की विशेषताएं (Feature of Magnetic Tape in Hindi)

मैग्नेटिक टेप की प्रमुख विशेषताएं निम्न हैं –

  • मैग्नेटिक टेप में डेटा को Sequential access ही किया जा सकता है, इसमें डेटा को randomly और directly access नहीं किया जा सकता है.
  • यह प्लास्टिक के रिबन का बना होता है जिसमें कि Mattel ऑक्साइड की परत चढ़ी होती है.
  • मैग्नेटिक टेप एक सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस है.
  • मैग्नेटिक टेप एक non volatile memory होती है जिसमें डेटा पॉवर सप्लाई बंद हो जाने पर भी नष्ट नहीं होता है.
  • मैग्नेटिक टेप की स्टोरेज क्षमता 100 MB से लेकर 200 GB तक हो सकती है.
  • मार्किट में मुख्य रूप से 2 आकार के मैग्नेटिक टेप उपलब्ध हैं. 1/2 इंच और ¼ इंच.

मैग्नेटिक टेप के फायदे (Advantage of Magnetic Tape in Hindi)

एक मैग्नेटिक टेप के अनेक सारे फायदे हैं जैसे कि –

  • मैग्नेटिक टेप एक सस्ती मेमोरी है, मतलब कि इसकी लागत कम होती है.
  • मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल बड़े साइज़ के फाइलों को स्टोर करने के लिए भी किया जा सकता है.
  • यह backup storage प्रदान करते हैं.
  • मैग्नेटिक टेप एक reusable मेमोरी है इसमें स्टोर डेटा को मिटाकर नए डेटा को स्टोर किया जा सकता है.
  • मैग्नेटिक टेप में स्टोर डेटा लम्बे समय तक सुरक्षित रहता है.

मैग्नेटिक टेप के नुकसान (Disadvantageof Magnetic Tape in Hindi)

मैग्नेटिक टेप के कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –

  • मैग्नेटिक टेप का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसमें स्टोर डेटा को Sequential access किया जाता है, जिससे सर्चिंग में कठिनाई आती है.
  • मैग्नेटिक टेप में स्टोर डेटा को randomly और directly एक्सेस नहीं कर सकते हैं.
  • मैग्नेटिक टेप में डेटा स्टोर करने के लिए धूलमुक्त वातावरण की जरुरत होती है.
  • मैग्नेटिक टेप में स्टोर डेटा को आसानी से अपडेट नहीं किया जा सकता है.
  • मैग्नेटिक टेप में डेटा को लम्बे समय तक स्टोर किया जा सकता है.

मैग्नेटिक टेप और मैग्नेटिक डिस्क में अंतर

मैग्नेटिक टेप और मैग्नेटिक डिस्क दोनों की सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस होते हैं. ये दोनों ही डेटा को मैग्नेटिकली स्टोर करते हैं और दोनों non volatile memory हैं. इन दोनों मेमोरी में काफी समानता है लेकिन अपने कुछ गुणों, कार्यशैली और कीमत के अनुसार ये दोनों एक दुसरे से अलग हैं.

मैग्नेटिक टेप और मैग्नेटिक डिस्क के बीच के अंतर को नीचे सारणी के द्वारा बताया गया है.

मैग्नेटिक टेप (Magnetic Tape)मैग्नेटिक डिस्क (Magnetic Disk)
Magnetic Tape का इस्तेमाल डेटा backup के लिए किया जाता है.Magnetic Disk का इस्तेमाल Secondary storage के लिए किया जाता है. 
Magnetic Tape में एक्सेस टाइम अधिक होता है.Magnetic Disk में एक्सेस टाइम कम होता है.
Magnetic Tape अधिक भरोसेमंद मेमोरी नहीं है.Magnetic Disk एक विश्वशनीय मेमोरी है.
Magnetic Tape में डेटा ट्रान्सफर की दर कम होती है.Magnetic Disk में डेटा ट्रान्सफर की दर तुलनात्मक रूप से अधिक होती है.
Magnetic Tape में data accessing rate धीमा होता है.जबकि Magnetic Disk में data accessing rate उच्च और फ़ास्ट होता है.
Magnetic Tape अधिक पोर्टेबल होते हैं.Magnetic Disk कम पोर्टेबल हैं.
Magnetic Tape की लागत कम होती है.Magnetic Disk की लागत अधिक होती है.
Magnetic Tape में टेप की रील होती है जो कि प्लास्टिक की पट्टी के रूप में होती है.Magnetic Disk में गोल प्लैटर होते हैं जो कि प्लास्टिक या धातु के बने होते हैं.
डेटा रिकॉर्डिंग के लिए Magnetic Tap में, चुंबकीय सामग्री को टेप के केवल एक तरफ coated किया जाता है.डाटा रिकॉर्डिंग के लिए Magnetic Disk में मैग्नेटिक कंटेंट  को दोनों तरफ के प्लेटों पर Coated किया जाता है.
(Difference between Magnetic Tape and Magnetic Disk in Hindi)
Video By Basic Computer Hindi

मैग्नेटिक टेप से सम्बंधित सामान्य प्रश्न

मैग्नेटिक टेप क्या है?

मैग्नेटिक टेप सबसे पुरानी तकनीकी की स्टोरेज डिवाइस है जिसका इस्तेमाल डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है. मैग्नेटिक टेप सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के अंतर्गत आती है.

मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल डेटा को स्टोर करने और डेटा के backup के लिए किया जाता है.

मैग्नेटिक टेप का आविष्कार किसने किया?

मैग्नेटिक टेप का आविष्कार सन 1928 में जर्मन वैज्ञानिक Fritz Pfleumer ने किया था.

मैग्नेटिक टेप किस प्रकार की मेमोरी है?

मैग्नेटिक टेप एक non volatile memory है.

क्या मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल आज भी किया जाता है?

जी हाँ मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल आज भी किया जाता है. हालांकि विभिन्न प्रकार के नए तकनीकी के स्टोरेज डिवाइस आज मौजूद हैं लेकिन मैग्नेटिक टेप के गुणों और कीमत के आधार पर इनका इस्तेमाल आज भी किया जाता है.

इन्हें भी पढ़े 

आपने सीखा: मैग्नेटिक टेप क्या है हिंदी में

आज के इस लेख के माध्यम से हमने आपको Magnetic Tape Kya Hai In Hindi के बारे में पूरी जानकारी दी है. साथ में हमने इस लेख में आपको मैग्नेटिक डिस्क के फायदे, नुकसान तथा मैग्नेटिक डिस्क और मैग्नेटिक टेप के बीच के अंतर को बताया है. मैग्नेटिक टेप एक बहुत ही पुरानी तकनीकी की स्टोरेज डिवाइस है. और आज भी इसका इस्तेमाल व्यापक रूप से किया जाता है.

इस लेख में इतना ही उम्मीद करते है आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस लेख को सोशल मीडिया पर भी अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें.

Editorial Staff
Editorial Staff

Techshole इंडिया की Best हिंदी ब्लॉग में से एक बनने की दिशा में अग्रसर है. यहाँ इस ब्लॉग पर हम Blogging, Computer, Tech, इंटरनेट और पैसे कमाए से सम्बन्धित लेख साझा करते है.

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment